Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksमहंगाई की चिंता से टूटा मार्केट, सेंसेक्स 92 अंक गिरा, निफ्टी 10,200 के नीचे बंद

महंगाई की चिंता से टूटा मार्केट, सेंसेक्स 92 अंक गिरा, निफ्टी 10,200 के नीचे बंद

नई दिल्ली.  लगातार दूसरे दिन घरेलू स्टॉक मार्केट गिरावट के साथ बंद हुए। अक्टूबर महीने में थोक महंगाई और खुदरा महंगाई दर में बढ़ोतरी का असर मार्केट पर दिखा। आईटी, मेटल, पीएसयू बैंक, फार्मा शेयरों में बिकवाली से सेंसेक्स 92 अंक गिरकर 32,942 अंक पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 38 अंक फिसलकर 10,187 अंक पर बंद हुआ। आज के कारोबार में सेक्टरल इंडेक्स में ऑटो, कंज्यूमर डुरेबल्स और रियल्टी इंडेक्स में तेजी रही।
 
ग्लोबल मार्केट से मिले संकेतों से मंगलवार को घरेलू स्टॉक मार्केट की शुरुआत गिरावट के साथ हुई। अक्टूबर महीने में थोक महंगाई दर 6 महीने के टॉप पर पहुंचने से अगले महीने आरबीआई द्वारा ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद धूमिल होने से निवेशकों की चिंता बढ़ा दी है।  हैवीवेट एलएंडटी, पावरग्रिड, टीसीएस, ओएनजीसी, सन फार्मा, एचडीएफसी बैंक, इंफोसिस, एसबीआई और एचडीएफसी शेयरों में भारी बिकवाली से बाजार में गिरावट और गहरी हो गई। कारोबार के दौरान सेंसेक्स ऊपरी स्तर से 219 अंक टूट गया। वहीं निफ्टी ऊपर से 72 अंक टूटा। हालांकि कारोबार के आखिरी घंटे में मार्केट में निचले स्तर से हल्की रिकवरी आई।
 
मार्केट में कमजोरी की वजह
- डब्ल्यूपीआई इंफ्लेशन के आंकड़े और कॉर्पोरेट्स अर्निंग्स मार्केट सेंटीमेट्स को प्रभावित किया है। अक्टूबर में थोक महंगाई दर में बढ़ोतरी और क्रूड की कीमतों में तेजी ने निवेशकों की चिंता बढ़ा दी है।
- यूएस में टैक्स रिफॉर्म के डेवलपमेंट पर निवेशकों की नजर से एशियाई बाजारों में कमजोरी है।
- टैक्स कटौती में देरी की आशंका से अमेरिकी बाजार पर दबाव देखने को मिला।
- वहीं हैवीवेट एलएंडटी में लगातार दूसरे दिन गिरावट जारी है। कंपनी द्वारा ऑर्डर फ्लो ग्रोथ गाइडेंस में कटौती किए जाने असर स्टॉक्स पर हुआ है।
- इसके अलावा पावरग्रिड, टीसीएस, ओएनजीसी, कोल इंडिया, एसबीआई, एचडीएफसी, इंफोसिस और एचडीएफसी बैंक जैसे हैवीवेट शेयरों में कमजोरी से बाजार पर दबाव बना है।
- अक्टूबर महीने में थोक महंगाई दर 6 महीने के टॉप पर पहुंचने से अगले महीने आरबीआई द्वारा ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद धूमिल होने से मार्केट में गिरावट बढ़ गई।
 
निफ्टी पर 32 स्टॉक्स गिरे
- उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में निफ्टी50 पर 32 स्टॉक्स में गिरावट रही। वहीं 16 स्टॉक्स में बढ़त दर्ज की गई, जबकि 2 स्टॉक्स बिना बदलाव के बंद हुए। सबसे ज्यादा तेजी हीरो मोटोकॉर्प में 2.10 फीसदी की हुई। इसके अलावा एक्सिस बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, बजाज ऑटो, बजाज फाइनेंस 1.91-1.34 फीसदी तक बढ़े।
- गिरनेवाले शेयरों में भारती इंफ्राटेल, आईओसी, एलएंडटी, हिंदुस्तान पेट्रोलियम, वेदांता, पावरग्रिड, टीसीएस, एशियन पेंट्स, सन फार्मा, इंडसइंड बैंक, अरविंदो फार्मा, बीपीसीएल, आयशर मोटर्स, बोश लिमिटेड, टाटा स्टील, ओएनजीसी शामिल हैं।
 
एलएंडटी में लगातार दूसरे दिन गिरावट
एलएंडटी के स्टॉक में लगातार दूसरे दिन गिरावट देखने को मिल रही है। कंपनी द्वारा ऑर्डर फ्लो ग्रोथ गाइडेंस में कटौती किए जाने से स्टॉक्स में गिरावट है। हालांकि सितंबर क्वार्टर में कंपनी का प्रॉफिट 32 फीसदी बढ़कर 2020 करोड़ रुपए रहा है। कारोबार में बीएसई पर स्टॉक 2.44 फीसदी गिरकर 1210 रुपए के लो पर पहुंच गया।
 
3% डिस्काउंट पर लिस्ट हुआ खादिम इंडिया
स्टॉक मार्केट में आज एक स्टॉक की नई शुरुआत हुई।। देश की बड़ी फुटवियर ब्रांड खादिम इंडिया के स्टॉक की कमजोर लिस्टिंग हुई। बीएसई पर स्टॉक इश्यू प्राइस 750 रुपए के मुकाबले 3 फीसदी डिस्काउंट के साथ 727 रुपए पर लिस्ट हुआ। लिस्टिंग के बाद स्टॉक में गिरावट बढ़ी और स्टॉक 4.12 फीसदी गिरकर 718.45 रुपए पर पहुंच गया।
 
रेप्को होम फाइनेंस में 14% की तेजी, Q2 नतीजे का असर
रेप्को होम फाइनेंस के स्टॉक में जोरदार तेजी देखने को मिली। दरअसल, फाइनेंशियल ईयर 2018 के सितंबर क्वार्टर में कंपनी का नेट प्रॉफिट 22 फीसदी बढ़कर 56 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल समान अवधि में कंपनी का प्रॉफिट 46 करोड़ रुपए था। सितंबर क्वार्टर में प्रॉफिट बढ़ने से कारोबार के दौरान बीएसई पर स्टॉक 13.56 फीसदी बढ़कर 670.85 रुपए के हाई पर पहुंच गया।
 
50 से ज्यादा स्टॉक्स 52 हफ्ते के लो पर
कारोबार में अपूर्वा, देना बैंक, फोर्स मोटर्स, गोदरेज एग्रोवेट, आरकॉम, रिलायंस होम फाइनेंस, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज सहित 64 स्टॉक्स बीएसई पर 52 हफ्ते के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं।
 
आयशर मोटर्स को 518 करोड़ का हुआ मुनाफा
फाइनेंशियल ईयर 2018 की दूसरी तिमाही में आयशर मोटर्स को 518 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है। इस दौरान कंपनी का मुनाफा 25.38 फीसदी बढ़ गया है। पिछले फाइनेंशियल की की दूसरी तिमाही में कंपनी को 413 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। अनुमान से कमजोर नतीजे के चलते कारोबार में स्टॉक 4.42 फीसदी गिरकर 29,648 करोड़ रुपए के लो पर पहुंच गया।
 
करीब 100 स्टॉक्स साल के नए हाई पर
उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में एक्शन कंस्ट्रक्शन, एस्ट्रल, बालकृष्ण इंडस्ट्रीज, बीएसएसएफ, एचईजी, हेक्सावेयर, एफआईबी इंडस्ट्रीज, मिंडा कॉर्प, वक्रांगी, वीआईपी इंडस्ट्रीज समेत बीएसई पर 98 स्टॉक 52 हफ्ते की नई ऊंचाई पर पहुंचे।
 
मिडकैप-स्मॉलकैप शेयर्स भी लुढ़के
- कारोबार में लार्जकैप शेयरों के साथ-साथ मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी गिरावट देखने को मिली। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.18 फीसदी टूटकर 17540 अंक पर बंद हुआ। स्मॉलकैप शेयरों में स्टर्लिंग टूल्स, टिनप्लेट, एससीई, मिर्क इलेट्रॉनिक्स, गुजरात अल्कली, वैस्कॉन इंजीनियर्स, वेंकीज, गल्फ ऑयल, सोरिल इंफ्रा 20-10.87 फीसदी तक बढ़े हैं।
- वहीं बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.22 फीसदी बढ़त के साथ बंद हुआ। मिडकैप शेयरों में वक्रांगी, टाटा ग्लोबल, टोरेंट फार्मा, अजंता फार्मा, डिविस लैब्स, एंडुरेस, जिटेल इंडिया, क्रॉम्पटन, अडानी इंटरप्राइज और एलएंडटी फाइनेंस हाउसिंग 5.40-1.73 फीसदी बढ़े।
 
ऑटो-रियल्टी इंडेक्स चढ़े, आईटी इंडेक्स सबसे ज्यादा टूटे
- सेक्टरल इंडेक्स में कंज्यूमर डुरेबल्स, ऑटो और रियल्टी इंडेक्स ही हरे निशान में बंद हुए। निफ्टी ऑटो इंडेक्स 0.20 फीसदी और निफ्टी रियल्टी इंडेक्स 0.48 फीसदी बढ़त के साथ बंद हुए। वहीं बीएसई का कंज्यूमर डुरेबल्स इंडेक्स 0.64 फीसदी बढ़ा।
- इसके अलावा बैंक, आईटी, मेटल, एफएमसीजी, मेटल और फार्मा इंडेक्स गिरकर बंद हुए। सबसे ज्यादा गिरावट निफ्टी आईटी इंडेक्स में 0.60 फीसदी रही। वहीं निफ्टी मेटल 0.52 फीसदी, निफ्टी फार्मा 0.33 फीसदी तक गिरे।
 
 
अमेरिकी बाजार मामूली बढ़त पर बंद
सोमवार को अमेरिकी बाजार हल्की बढ़त पर बंद हुए। डाओ जोंस 17 अंक की बढ़त के साथ 23,440 अंक पर बंद हुआ। नैस्डैक 7 अंक बढ़कर 6,758 अंक पर बंद हुआ। एसएंडपी 500 इंडेक्स 3 अंक बढ़कर 2,585 अंक पर बंद हुआ। टैक्स कटौती में देरी की आशंका से अमेरिकी बाजार पर दबाव देखने को मिला।

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.