मनी भास्कर खास /अच्छे आंकड़ों की आस में रिकवरी के लिए बाजार में शुक्रवार को होता है ज्यादा निवेश!

  • अमेरिका समेत कई देश सप्ताहांत में जारी करते हैं आर्थिक आंकड़े
  • बीते 11 सत्रों में से 9 शुक्रवार को बढ़त के साथ हरे निशान में बंद हुए हैं घरेलू शेयर बाजार

Manoj Kumar

Manoj Kumar

Oct 11,2019 04:44:00 PM IST

नई दिल्ली। आर्थिक मंदी की आहट के बीच एक अगस्त से अब तक भारतीय शेयर बाजारों में 1100 अंकों से ज्यादा की बढ़त दर्ज की जा चुकी है। इस दौरान घरेलू और वैश्विक स्तर पर कई प्रकार के आर्थिक आंकड़े जारी हुए हैं जिनसे शेयर बाजार प्रभावित हुए हैं। मनी भास्कर ने जब 1 अगस्त से 11 अक्टूबर तक के आंकड़ों पर रिसर्च की तो पाया कि कारोबारी सप्ताह के अंतिम दिन शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार अधिकांशतः: बढ़त के साथ बंद हुए हैं। आइए जानते हैं प्रत्येक कारोबारी सप्ताह में शुक्रवार को बंबई स्टॉक एक्सचेंज के 30 शेयरों के संवेदी सूचकांक सेंसेक्स का क्या हाल रहा है और ऐसा क्यों होता है।

बीते 11 सत्रों में से 9 शुक्रवार को रही बढ़त

मनी भास्कर ने अपनी रिसर्च में पाया कि 1 अगस्त से अब तक शुक्रवार के 11 सत्रों में से 9 सत्रों में घरेलू शेयर बाजार बढ़त के साथ हरे निशान में बंद हुए हैं। खास बात यह है कि 2 अगस्त से 20 सितंबर तक लगातार 8 सत्रों में शुक्रवार को शेयर बाजार बढ़त के साथ बंद हुए हैं। इन सत्रों में 20 सितंबर को सबसे ज्यादा 1921 अंकों की बढ़त दर्ज की गई थी। यह एक दशक की सबसे बड़ी बढ़त बताई जा रही थी। इस दिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कॉरपोरेट टैक्स में कटौती की ऐतिहासिक घोषणा की थी। इसके बाद शुक्रवार के लगातार दो सत्रों में बाजार गिरावट के साथ बंद हुए। हालांकि 11 अक्टूबर को बाजार एक बार फिर बढ़त के साथ हरे निशान में बंद हुए हैं।

शुक्रवार को इसलिए हरे निशान में बंद होते हैं घरेलू बाजार

इस बारे में मनी भास्कर ने कमोडिटी रिसर्च फर्म एंजल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता से बात की। अनुज गुप्ता ने बताया कि अमेरिका समेत कई देश अपने आर्थिक आंकड़े सप्ताहांत: में जारी करते हैं। इनका असर घरेलू स्तर पर सोमवार को दिखाई देता है। इन आंकड़ों के अच्छे होने की आस में रिकवरी के लिए घरेलू निवेशक थोड़ा निवेश बढ़ा देते हैं। इस कारण से घरेलू शेयर बाजार कारोबारी सप्ताह के अंतिम दिन शुक्रवार को बढ़त के साथ बंद होते हैं।

फ्रेश ट्रेडिंग का अभाव

अनुज गुप्ता के अनुसार, पिछले कुछ माह के दौरान निवेशकों को काफी नुकसान हो चुका है। इस नुकसान की रिकवरी के लिए शुक्रवार को निवेश बढ़ा दिया जाता है। जब सोमवार को बाजार में तेजी आती है तो निवेशक मुनाफावसूली शुरू कर देते हैं। यही कारण है कि सप्ताह के मध्य में बाजार गिरावट के साथ बंद हो रहे हैं। विदेशी आंकड़ों के दम पर रिकवरी की आस में शुक्रवार को निवेश बढ़ा दिया जाता है, जिससे बाजारों में तेजी आ जाती है। अनुज का कहना है कि बाजार पर कई कारक प्रभाव डालते हैं लेकिन यह कारक प्रमुख है। अनुज गुप्ता का मानना है कि इस समय फ्रेश ट्रेडिंग नहीं हो रही है जिस कारण बाजार लगातार बढ़त में बंद नहीं हो पा रहे हैं।

ये है सेंसेक्स का बीते 11 शुक्रवार का ट्रेंड

दिनांक क्लोजिंग बढ़त
2 अगस्त 37118 100
9 अगस्त 37581 254
16 अगस्त 37350 39
23 अगस्त 36701 229
30 अगस्त 37332 264
6 सितंबर 36981 337
13 सितंबर 37384 280
20 सितंबर 38014 1921
27 सितंबर 38822 -167
4 अक्टूबर 37673 -433
11 अक्टूबर 38127 245


नोट: सभी आंकड़े बीएसई की वेबसाइट से लिए गए हैं। (-) निशान गिरावट का संकेत है।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.