Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Market »Stocks» Mutual Fund IT Based Schemes Do Not Have The Good Return To Investors The Benefits Are Not Expected Near Future

    MF की IT योजनाओं से निकलें निवेशक, जल्‍द फायदे की नहीं है उम्‍मीद

    नई दिल्‍ली। शेयर बाजार में तेजी आने पर जहां शेयरों में निवेश करने वालों के साथ साथ म्‍युचुअल फंड में निवेश करने वालों को भी फायदा होता है। लेकिन फिलहाल आईटी क्षेत्र में निवेश करने वाले म्‍युचुअल फंड निवेशकों को फायदा नहीं दे पा रहे हैं। अमेरिका का आईटी क्षेत्र को लेकर रुख स्‍पष्‍ट नहीं हो पाने के चलते इस क्षेत्र की कंपनियों का रेट शेयर बाजार में रैली में बाद भी नहीं बढ़ा है। यही कारण रहा है कि इस सेक्‍टर की म्‍युचुअल फंड की आधी के करीब योजनाएं एक साल के हिसाब से निगेटिव रिटर्न दिखा रही हैं। अगर दो साल के हिसाब से रिटर्न देखें तो सभी योजनओं ने निगेटिव रिटर्न ही दिया है। जानकारों की राय है कि इस सेक्‍टर की योजनाओं से निकल कर निवेशकों को दूसरी अच्‍छी योजनाओं में पैसा लगाना चाहिए।

    क्‍यों है खराब प्रदर्शन

    देश के आईटी क्षेत्र का करीब 65 फीसदी कारोबार अमेरिका से होता है। उधर जब से अमेरिका में राष्‍ट्रपति पद पर डोनाल्‍ड ट्रम्‍प आए हैं, वह लगातार ऐसी बातें कर रहे हैं, जिससे भारतीय आईटी क्षेत्र की चिंता बढ़ रही है। उनका मानना है कि भारतीय आईटी कंपनियों के चलते उनके देश के लोगों के रोजगार में कमी आ रही है। इसके चलते वह कई तरह के प्रतिबंध लगा रहे हैं। आगामी 3 अप्रैल से अमेरिकी दूतावास वीसा की फास्‍ट प्रोसेसिंग भी बंद करने जा रहा है। यही कारण है कि भारतीय आईटी कंपनियां दवाब में हैं।

    एवरेजिंग भी नहीं अच्‍छा रास्‍ता

    आमतौर पर माना जाता है कि अगर म्‍युचुअल फंड की योजनाओं में आगे अच्‍छा रिटर्न मिलने की उम्‍मीद हो तो उनमें और खरीदारी की जानी चाहिए। कई बार बाजार में तेज गिरावट आ जाती है, ऐसे में उस म्‍युचुअल फंड योजना की एनएवी नीचे आ जाती है। जानकर इस दौरान सलाह देते हैं कि अगर इस वक्‍त और निवेश किया जाए तो पूरे निवेश का औसत कम हो जाएगा और जब बाजार बढ़ेगा तो अच्‍छा फायदा होगा। लेकिन जानकारों की राय है कि इस वक्‍त आईटी क्षेत्र की म्‍युचुअल फंड की योजनाओं में एवरेजिंग ठीक नहीं रहेगी। एक बाजार अमेरिका का रुख स्‍पष्‍ट हो जाए फिर निवेश का प्‍लान किया जा सकता है।

    अगली स्‍लाइड में जानें निवेशकों के पास क्‍या हैं विकल्‍प

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY