विज्ञापन
Home » Market » StocksManpasand Beverages tanks 20 pc after MD and CFO arrested for GST fraud

Share Bazar / एमडी सहित 3 अधिकारियों की गिरफ्तारी से 20% टूटा मनपसंद बेवरेजिस का शेयर, 240 करोड़ कम हुई मार्केट कैप 

शेयर में 20 फीसदी की गिरावट के साथ लगा लोअर सर्किट

Manpasand Beverages tanks 20 pc after MD and CFO arrested for GST fraud
  •  कुछ ही मिनटों के भीतर कंपनी की मार्केट कैप लगभग 240 करोड़ रुपए घट गई 

नई दिल्ली. मनपसंद बेवरेजिस (Manpasand Beverages) के एमडी, सीएफओ सहित तीन अधिकारियों की गिरफ्तारी से कंपनी के शेयर को तगड़ा झटका लगा। सोमवार को कंपनी के शेयर में 20 फीसदी की गिरावट के साथ लोअर सर्किट लग गया। इसके साथ ही कुछ ही मिनटों के भीतर कंपनी की मार्केट कैप लगभग 240 करोड़ रुपए घट गई।

फर्जी इनवॉइस से जीएसटी चोरी का आरोप

गौरतलब है कि शनिवार को वस्तु एवं सेवा कर (GST) विभाग ने फर्जी कंपनियां बनाने और टैक्स चोरी को अंजाम देने पर वडोदरा की मनपसंद बेवेरेजिस (Manpasand Beverages) के सीएफओ सहित तीन शीर्ष अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया था। सीजीएसटी की एक प्रेस रिलीज के मुताबिक, मनपसंद बेवरेजिस के प्रबंध निदेशक अभिषेक सिंह, उनके भाई हर्षवर्धन सिंह और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर परेश ठक्कर को सेंट्रल जीएसटी (CGST) और कस्टम, वडोदरा-2 द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है।

20 फीसदी टूटा शेयर

इस खबर से सोमवार को कंपनी के शेयर को तगड़ा झटका लगा। एक दिन पहले के क्लोजिंग प्राइस 110 रुपए की तुलना में ट्रेडिंग सेशन की शुरुआत में ही शेयर 20 फीसदी कमजोर होकर 88 रुपए पर खुला। एक्सचेंजेस के आंकड़ों के मुताबिक, दोपहर 1 बजे तक बीएसई और एनएसई पर कुल 2 लाख शेयरों का कारोबार हो चुका था।

23 मई को हुई थी छापेमारी

कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस मामले में 23 मई को मनपसंद बेवरेजिस के कई परिसरों पर तलाशी अभियान चलाया गया था और इस संबंध में 24 मई को भी जांच की गई थी। रिलीज में कहा गया, ‘छापे में धोखाधड़ी से क्रेडिट लेने के लिए कई फर्जी/डमी यूनिट तैयार करने का एक बड़ा रैकेट सामने आया। इसमें 300 करोड़ रुपए के टर्नओवर से जुड़ी 40 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी का भी खुलासा हुआ।’

30 फर्जी यूनिट्स का हुआ खुलासा

बयान के मुताबिक, ‘जांच में देश के कई हिस्सों में कंपनी की 30 से ज्यादा फर्जी यूनिट्स के नेटवर्क का भी खुलासा हुआ, जिन्हें अवैध तरीके से क्रेडिट लेने के लिए इस्तेमाल किया जाता था। इस धोखाधड़ी के लाभार्थियों की खोज और शेल कंपनियों के नेटवर्क की जांच अभी चल रही है।’

रिजल्ट पेश करने में भी नाकाम रही थी कंपनी

बीते साल मई में कंपनी ने अचानक अपने स्टैच्युरी ऑडिटर्स डेलॉयट हैस्किंस एंड सेल्स के इस्तीफे का ऐलान किया था। इसकी वजह कंपनी द्वारा 31 मार्च, 2018 के अंत में समाप्त वर्ष का फाइनेंशियल रिजल्ट पेश करने में नाकामी रही थी। 
कंपनी के बोर्ड, मनपसंद बेवरेजिस के प्रबंध निदेशक धीरेंद्र सिंह को संबोधित लेटर में डेलॉयट हैस्किंस एंड सेल्स ने कहा कि ‘फाइनेंशियल रिजल्ट के उद्देश्य से हमारे द्वारा विभिन्न बिंदुओं पर मांगी गई जानकारी उपलब्ध कराने में कंपनी नाकाम रही थी।’

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन