बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksNBFC सेक्टर में बेहतर है आउटलुक, ये शेयर दे सकते हैं 62% तक रिटर्न

NBFC सेक्टर में बेहतर है आउटलुक, ये शेयर दे सकते हैं 62% तक रिटर्न

एनबीएफसी सेक्टर को लेकर आगे आउटलुक बेहतर बना है।

1 of

नई दिल्ली। बैंकों की क्रेडिट ग्रोथ अभी सुस्त बनी हुई है, वहीं नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों (एनबीएफसी) की क्रेडिट ग्रोथ बेहतर हुई है। एमएसएमई सेक्टर में कुल लोन का 18 फीसदी हिस्सा एनबीएफसी सेक्टर का है जो अगले साल 20 फीसदी होने की उम्मीद है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि क्रेडिट ग्रोथ के अलावा एनपीए के इश्‍यू पर भी एनबीएफसी सेक्टर बैंकों से अच्छी स्थिति में है। ऐसे में एनबीएफसी सेक्टर को लेकर आगे आउटलुक बेहतर बना है। हम यहां एनबीएफसी सेक्टर के ऐसे 5 शेयर बता रहे हैं जिनमें अगले एक साल में  अच्छा रिटर्न मिल सकता है। 

 

 

मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के अनुसार एनबीएफसी की एमएसएमई लैंडिंग बुक ग्रोथ औसतन 32 फीसदी है, जबकि बैंक की ग्रोथ औसतन 10 फीसदी है। क्रिसिल की रिपोर्ट के अनुसार अगले 2 साल में एनबीएफसी के कुल लोन का 20 फीसदी शेयर इसी सेक्टर को जाएगा, जो पिछले 5 साल में 8 फीसदी से 18 फीसदी हो चुका है। फाइनेंशियल ईयर 2017 में एमएसएमई सेक्टर द्वारा लिए जाने वाला कुल लोन 14 लाख करोड़ रुपए था। ऐसे में एनबीएफसी कंपनियां इस मामले में विनर रहेंगी। 

 

इन वजहों से भी बेहतर है आउटलुक
स्टैलियन एसेट्स डॉट कॉम के सीआईओ अमीत जेसवानी का कहना है कि एनबीएफसी सेक्टर का आउटलुक काफी अच्छा है। एसएमई और हाउसिंग सेग्मेंट में क्रेडिट ग्रोथ अच्छी है। व्हीकल सेग्मेंट में भी एनबीएफसी ने 16-17 फीसदी ग्रोथ दिखाई है। वहीं, कॉरपोरेट स्कैन डॉट कॉम के सीईओ विवेक मित्तल का कहना है कि एनबीएफसी का बिजनेस मॉडल ऐसा है कि ये छोटे कस्टमर्स पर ज्यादा फोकस करती हैं। इनका एवरेज टिकट साइज कम होने के नाते इनमें डिफॉल्ट के चांस कम रहते हैं। लोन भी कम समय में पास हो जाता है। ऐसे में एनबीएफसी की क्रेडिट ग्रोथ बेहतर है। 

 

ये शेयर दे सकते हैं 62 फीसदी तक रिटर्न 

 

DHFL


डीएचएफएल हाउसिंग फाइनेंस कंपनी है। अफॅोर्डेबल हाउसिंग में कंपनी का कारोबार बेहतर है। दूसरी तिमाही में लोन डिस्बर्स 46 फीसदी से ज्यादा बढ़ा है। कंपनी टियर 2 और टियर 3 शहरों में भी बेहतर कर रही है। दूसरी तिमाही में कंपनी का मुनाफा 26 फीसदी बढ़ गया है। हाउसिंग सेक्टर में अच्छी ग्रोथ की उम्मीद है ऐसे में मैनेजमेंट अगले 2 तिमाही में 30 फीसदी ग्रोथ की उम्मीद कर रहा है। अमीत जेसवानी ने शेयर के लिए 1000 रुपए का लक्ष्‍य रखा है। मौजूदा कीमत 615 रुपए है। यानी शेयर में 62 फीसदी रिटर्न की उम्मीद है। 

 

 

आगे पढ़ें, ये शेयर भी दे सकते हैं अच्छा रिटर्न 

 

 

बजाज फाइनेंस


बजाज फाइनेंस लिमिटेड की पैरंट कंपनी बजाज फिनसर्व है। कंपनी कंज्यूमर फाइनेंस, एसएमई, क‍मर्शियल लेंडिंग और वेल्थ मैनेजमेंट में है। कंपनी का लोन डिस्बर्समेंट दूसरी तिमाही में 34 फीसदी बढ़ा है। कंपनी अपना कस्टमर बेस बढ़ाने पर फोकस है जो अभी 13 लाख से ज्यादा है। न्यू प्रोडक्ट लाइन इन्वेस्टमेंट पर भी फोकस बढ़ा है। क्रेडिट कास्ट और एसेट क्वालिटी स्टेबल है। विवेक मित्तल ने शेयर के लिए 2100 का लक्ष्‍य दिया है। मौजूदा कीमत 1772 के लिहाज से शेयर में 19 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। 

 

कैपिटल फर्स्ट


कैपिटल फर्स्ट के लोन बुक का 50 फीसदी एमएसएमई सेक्टर पर फोकस है। पिछले 4 फाइनेंशियल ईयर में कंपनी का लोनबुक 5500 करोड़ से बढ़कर 15000 करोड़ रुपए हो गया है। कंपनी टू व्हीलर, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और हाउसिंग लोन में पिछले 4 साल से बेहतर कर रही है। मैनेजमेंट का फोकस प्रॉफिटबिलिटी बढ़ाने पर है। ब्रोकरेज हाउस चोलामंडलम सिक्युरिटीज ने शेयर के लिए 952 रुपए का लक्ष्‍य दिया है। मौजूदा कीमत 700 रुपए के लिहाज से शेयर में 36 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। 

 

महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंस


ऑपरेटिंग फ्रंट पर महिंद्रा एंड महिंद्रा के लिए जून तिमाही बेहतर रहा है। कंपनी के एसेट्स फाइनेंस की वैल्यू 16 फीसदी बढ़ी है। वहीं, कंपनी के लिए गलातार चौथी तिमाही रही है, जब साल दर साल आधार पर 15 फीसदी से ज्यादा ग्रोथ देखने को मिली है। महिंद्रा एंड महिंद्रा के लिए बिजनेस का माहौल पहले से बेहतर हुआ है। बैलेंस शीट में लगातार सुधार है, जिसकी वजह से कंपनी आगे प्रॉफिटिबेलिटी बढ़ाने पर फोकस कर रही है। ब्रोकरेज हाउस जे उम फाइनेंशियल का शेयर में लक्ष्‍य 500 रुपए है। मौजूदा कीमत 443 के लिहाज से शेयर में 13 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। 

 

(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स व ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट