• Home
  • HCL Tech Q4 net up 14pc to Rs 2550 cr

Q4 Result /HCL Tech को 14% बढ़त के साथ 2,550 करोड़ रु का प्रॉफिट, नई बुकिंग का बनाया रिकॉर्ड

21.3 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 15,990 करोड़ रुपए रहा एचसीएल टेक्नोलॉजिज का रेवेन्यू 

moneybhaskar

May 09,2019 06:16:00 PM IST

नई दिल्ली. आईटी कंपनी एचसीएल टेक्नोलॉजिज (HCL Technologies) ने मार्च, 2019 में समाप्त तिमाही के दौरान 14.3 फीसदी ग्रोथ के साथ 2,550 करोड़ रुपए का कंसॉलिडेटेड नेट प्रॉफिट दर्ज किया। वहीं बीते साल समान तिमाही के दौरान कंपनी का नेट प्रॉफिट 2,230 करोड़ रुपए रहा था। कंपनी स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग के माध्यम से यह जानकारी दी।

21 फीसदी बढ़ा रेवेन्यू

एचसीएल टेक्नोलॉजिज ने वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही के दौरान 21.3 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 15,990 करोड़ रुपए का रेवेन्यू अर्जित किया, जबकि एक साल पहले समान अवधि यानी जनवरी-मार्च, 2018 के दौरान यह आंकड़ा 13,178 करोड़ रुपए रह था। कंपनी ने 2019-20 में कॉन्स्टैंट करंसी बेसिस पर रेवेन्यू में 14-16 फीसदी की बढ़त का अनुमान भी जाहिर किया।

तीसरी बार बनाया नई बुकिंग का रिकॉर्ड

एचसीएल टेक्नोलॉजिज के प्रेसिडेंट और चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर सी विजयकुमार ने कहा, ‘एक बार फिर हमने इस साल तीसरी बार नई बुकिंग का रिकॉर्ड कायम किया है। ये आंकड़े परियोजनाओं के अच्छे तरीके से क्रियान्वयन के लिए चुनी गई स्ट्रैटजी और हमारी क्षमताओं का बेहतरीन प्रमाण हैं। हमने लगातार तीसरे साल अच्छी ग्रोथ हासिल करके दिखाई है।’

2018-19 में 16 फीसदी बढ़ा प्रॉफिट

पूरे वित्त वर्ष यानी 2018-19 के दौरान कंपनी का नेट प्रॉफिट 16 फीसदी बढ़कर 10,120 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गया, वहीं रेवेन्यू 19.4 फीसदी बढ़कर 60,427 करोड़ रुपए हो गया। वर्ष 2018-19 में एचसीएल टेक्नोलॉजिज ने सालाना आधार पर रेवेन्यू ग्रोथ 11.8 फीसदी रही, जो कंपनी के गाइडैंस से ज्यादा रही। कंपनी ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए कॉन्स्टैंट करंसी पर 9.5-11.5 फीसदी रेवेन्यू ग्रोथ का गाइडैंस दिया था।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.