बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksGST: बदलेगा बिजनेस का तरीका, जानिए किसे होगा फायदा, कौन उठाएगा नुकसान

GST: बदलेगा बिजनेस का तरीका, जानिए किसे होगा फायदा, कौन उठाएगा नुकसान

जीएसटी बिल के लागू होने से देश में बिजनेस के तरीके में बड़ा बदलाव आएगा।

1 of
नई दिल्ली. राज्‍य सभा से जीएसटी बिल के पास हो गया है। जीएसटी बिल के लागू होने से देश में बिजनेस के तरीके में बड़ा बदलाव आएगा।  जीएसटी आने के बाद कई सेक्टर खासकर मैन्युफैक्‍चरिंग करने वाली कंपनियों को बड़े टैक्स से निजात मिलेगी। वहीं सर्विस देने वाली कंपनियों पर टैक्स बोझ बढ़ेगा। एक्सपर्ट्स का कहना है कि जीएसटी के बाद टैक्स रेट 18-20 फीसदी होने की उम्मीद है। जीएसटी लागू होने से अलग-अलग सेक्‍टर पर इसका असर भी अलग-अलग होगा। कुछ सेक्‍टर पर पॉजि‍टीव और कुछ पर निगेटिव इम्‍पैक्‍ट देखने को मिलेगा। वहीं, कुछ सेक्‍टर पर न्‍यूट्रल इम्‍पैक्‍ट रहेगा। 
 
ऑटो: पॉजिटिव इम्‍पैक्‍ट 
 
- एडलवाइज और आईसीआईसीआई सिक्युरिटी की रिपोर्ट के पर आधारित सेक्टर पर असर
- ऑटो सेक्टर में फिलहाल कंपनियां 30-47 फीसदी तक टैक्स चुकाती है।
- जीएसटी के बाद कंपनियों पर टैक्स घटकर 20-22 फीसदी पर आने की उम्मीद है।
- अगर आप छोटी कारें या फिर मिनी एसयूवी खरीदना चाहते हैं तो बता दें कि जीएसटी लागू होने के साथ ये 45000 रुपए तक सस्ती हो जाएंगी।
- अभी इन गाड़ियों पर कुल 30-44 फीसदी तक टैक्स लगता है, लेकिन जीएसटी के तहत इन पर स्टैंडर्ड रेट 18 फीसदी टैक्स लगने की संभावना है।
 
फायदा: मारुति सुजुकी, हीरो मोटोकॉर्प, बजाज ऑटो, आयशर मोटर्स, अशोक लेलैंड को फायदा होगा।
 
 
कंज्यूमर ड्यूरेबल: पॉजिटिव/न्‍यूट्रल इम्‍पैक्‍ट 
 
- कंज्यूमर ड्यूरेबल कंपनियों पर अभी 7-30 फीसदी तक टैक्स लगता है।
- जीएसटी के बाद कंपनियों के टैक्स में 3-4 फीसदी तक की गिरावट आ सकती है।
- इसके अलावा कंपनियों ऑर्गनाइज्ड और अन ऑर्गनाइज्ड सेक्टर के बीच का दायरा कम हो जाएगा।
- कंपनियों की ऑपरेशनल प्रॉफिट में 3-4 फीसदी की बढ़ोत्तरी होने की उम्मीद है।
 
फायदा: हैवल्स इंडिया, ब्लू स्टार, बजाज इलेक्ट्रिकल्स, सिम्फनी, हिताची और वोल्टास को फायदा होगा।
 
 
 
एंटरटेनमेंट: पॉजिटिव/निगेटिव इम्‍पैक्‍ट 
 
- इस सेक्टर में दो तरह की कंपनियां आती है। पहली तो मल्टीप्लेक्स दूसरी मीडिया कंपनियां आती है।
- जीएसटी के बाद मल्टीप्लेक्स कंपनियों पर टैक्स 22-24 फीसदी से घटकर 18-20 फीसदी पर आ जाएगा।
- इसके अलावा मीडिया सेक्टर में फिलहाल कंपनियां 14-15 फीसदी टैक्स देती है।
- जीएसटी के बाद ये कंपनियां 18-20 फीसदी टैक्स चुकाएंगी।
- इससे इन कंपनियों के प्रॉफिट मार्जिन्स पर निगेटिव असर होगा।
 
फायदा/नुकसान: पीवीआर, आइनॉक्स को फायदा होगा। जबकि डिश टीवी, जी एंटरटेनमेंट और सन टीवी को नुकसान होगा।
 
 
 
टेलिकॉम सेक्टर: निगेटिव इम्‍पैक्‍ट 
 
- जीईपीएल के एवीपी पुष्कर राज कानितकर ने बताया कि जीएसटी की दरें अगर 20 फीसदी या उससे ज्यादा तय होती हैं
- इसका असर टेलिकॉम सेक्टर के शेयरों पर देखने को मिल सकता है।
- टेलिकॉम सेक्टर की कंपनियों पर मौजूदा टैक्स की दरें 15 फीसदी के आसपास हैं।
- टेलिकॉम की अधिकतर कंपनियां इन दरों को आगे ग्राहकों पर डाल देंगी, लेकिन जीएसटी की दरें अगर उम्मीद से ज्यादा बढ़ती हैं।
- टेलिकॉम सेक्टर की कुछ कंपनियों में बिकवाली देखने को मिल सकती है।
 
 
आगे जानिए और किस सेक्टर पर क्या होगा असर....
 
आईटी सेक्टर: निगेटिव इम्‍पैक्‍ट  
 
-एंजेल ब्रोकिंग की आईटी सेक्टर की वाइस प्रेसिडेंट सरबजीत कौर नागरा ने कहा कि जीएसटी आईटी सेक्टर के लिए निगेटिव रहेगा।
- इसका असर आईटी सेक्टर पर ज्यादा देखने को नहीं मिलेगा, क्योंकि अधिकतर आईटी कंपनियां इसे आगे पास ऑन कर देंगी।
- आईटी सेक्टर पर फिलहाल 15 फीसदी टैक्स लगता है जो जीएसटी के बाद 3-5 फीसदी तक बढ़ सकता है।
- जीएसटी का असर आईटी सेक्टर की कमजोर कंपनियों पर देखने को मिल सकता है। हालांकि 5 फीसदी तक टैक्स बढ़ोतरी बड़ी आईटी कंपनियों पर भी निगेटिव असर डालेगी।
 
एफएमसीजी: पॉजिटिव इम्‍पैक्‍ट 
 
-एफएमसीजी सेक्टर में ऑर्गनाइज्ड और अन ऑर्गनाइज्ड सेक्टर के बीच का दायरा कम हो जाएगा।
-साथ ही कंपनियों पर टैक्स बोझ घटेगा। इसके अलावा कन्सेशनल टैक्स ब्रैकिट से भी कंपनी के प्रॉफिट मार्जिन्स बढ़ेंगे।
 
फायदा: आईटीसी, एचयूएल और कोलगेट समेत कई कंपनियों को फायदा होगा।
 
 
फर्नीशिंग और होम डेकोरेशन सेक्टर: पॉजिटिव  इम्‍पैक्‍ट 
 
- कंपनियों पर फिलहाल 20 फीसदी तक का टैक्स लगता है।
- जीएसटी के बाद पेंट और अन्य केमिकल कंपनियों को टैक्स घटने का फायदा मिलेगा।
- ऑर्गनाइज्ड सेक्टर में 65-70 फीसदी मार्केट शेयर वाली कंपनियों और अनऑर्गनाइज्ड कंपनियों के बीच का दायरा कम होगा। कंपनियों के रेट्स कंट्रोल में आएंगे।
 
फायदाएशियन पेंट्स, बर्जर पेंट्स, बीएएसएफ इंडिया, एचएसआईएल, ग्रीनप्लाईवुड, कजारिया सेरामिक्स जैसी कंपनियों के बड़ा फायदा मिलेगा।
 
 
लॉजिसटिक्स सेक्टर: पॉजिटिव इम्‍पैक्‍ट 
 
- जीएसटी आने से सिर्फ इंडस्ट्री और कंज्यूमर को फायदा नहीं होगा बल्कि मालढुलाई भी 20 फीसदी सस्ती हो जाएगी।
- इसका फायदा आम उपभोक्ता से लेकर लॉजिस्टिक्स इंडस्ट्री तक को होगा।
- यही वजह है कि लॉजिस्टिक्स इंडस्ट्री भी जीएसटी बिल का बेसब्री से इंतजार कर रही है।
- जीएसटी पूरी तरह से लागू किया गया तो सबसे ज्यादा फायदा इंडस्ट्री को होने वाला है।
- जीएसटी युग में उन्हें अलग-अलग करीब 18 टैक्स नहीं भरने होंगे।
- टैक्स भरने की प्रक्रिया आसान हो जाएगी। और टैक्स का बोझ भी काफी कम हो जाएगा।
 
फायदावीआरएल लॉजिसटिक्स, गति, ब्लू डार्ट, स्नोमैन लॉजिसटिक्स को बड़ा फायदा होगा।
 
 
 
आगे जानिए किस सेक्टर पर क्या होगा असर....
 
सीमेंट सेक्टर: पॉजिटिव इम्‍पैक्‍ट 
 
- सीमेंट कंपनियां फिलहाल 27-32 फीसदी तक टैक्स चुकाती है।
- जीएसटी के बाद सीमेंट कंपनियों पर टैक्स घटकर 18-20 फीसदी पर आ जाएगा।
- साथ ही ट्रांसपोर्टेशन कॉस्ट घटने से सीमेंट कंपनियों के रेवेन्यू में 20-25 फीसदी तक की ग्रोथ आएगी।
 
फायदाएसीसी, अल्ट्राटेक सीमेंट, जेके सीमेंट, श्रीसीमेंट को फायदा होगा।
 
 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट