बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksन्यू इंडिया एश्योरैंस का IPO पहले दिन 104% भरा, निवेश पर ये है एक्सपर्ट्स की राय

न्यू इंडिया एश्योरैंस का IPO पहले दिन 104% भरा, निवेश पर ये है एक्सपर्ट्स की राय

निवेशकों को लंबी अवधि के नजरिए से आईपीओ में निवेश करना चाहिए।

1 of
नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी जनरल इंश्योरेंस कंपनी 'दि न्यू इंडिया एश्योरंस कंपनी लिमिटेड' का आईपीओ खुला है। पहले दिन आईपीओ 104 फीसदी भर गया है। इसके जरिए कंपनी 9600 करोड़ रुपए जुटाने जा रही है। जीआईसी आरई के 11,370 करोड़ रुपए के इश्यू के बाद यह देश का दूसरा सबसे बड़ा आईपीओ है। इसके लिए प्राइस बैंड 770-800 रुपए प्रति शेयर रखा गया है।  एक्सपर्ट्स का कहना है कि आईपीओ का वैल्युएशन फेयर दिख रहा है। कंपनी मार्केट लीडर है और बिजनेस का अच्छा अनुभव भी है। ऐसे में रिटेल इन्वेस्टर लंबी अवधि के लिए निवेश कर सकते हैं।
 
 
15 फीसदी है कंपनी का मार्केट शेयर
एक्सपर्ट्स का कहना है कि जनरल इंश्‍योरेंस सेक्टर में 'दि न्यू इंडिया एश्योरंस कंपनी' मार्केट लीडर है। कंपनी के पास 15 फीसदी मार्केट शेयर है। जनरल इंश्‍योरेंस सेक्टर की ग्रोथ पिछले 15 सालों हर साल औसतन 17 फीसदी की दर से बढ़ रही है। वहीं, आगे इसमें 15 से 20 फीसदी की दर से ग्रोथ की उम्मीद है। निवेशकों को लंबी अवधि के नजरिए से आईपीओ में निवेश करना चाहिए।
 
बेहतर है कंपनी का ग्रोथ रेट 
28 देशों में कंपनी का बिजनेस फैला है। कंपनी के पास 69,000 करोड़ रुपए की संपत्ति है और 2.27 की सॉल्वेंसी होने के बावजूद पिछले पांच सालों से 15 फीसदी से अधिक सीएजीआर से ग्रोथ कर रही है। करंट फिस्कल में कंपनी ने 26,000 करोड़ रुपए का प्रीमियम टारगेट की है। प्रीमियम, प्रॉफिट्स, मार्केट शेयर और डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क के हिसाब से दि न्यू इंडिया एश्योरंस कंपनी सबसे बड़ी जनरल इंश्योरेंस कंपनी है। 
 
इन सेग्मेंट में है बिजनेस
कंपनी फसल, फायर, हेल्थ और मोटर सहित दूसरी बीमा पॉलिसी बेचती है। फाइनेंशियल ईयर 2017 में देश में अन्य जनरल इंश्योरेंस कंपनियों के बीच कंपनी का ग्रॉस डायरेक्ट प्रीमियम में मार्केट शेयर 15 फीसदी था। कॉम्पिटीशन बढ़ने के बावजूद कंपनी ने इंडियन जनरल इश्योरेंस मार्केट में अपनी पोजिशन बनाई रखी। जून 2017 तक कंपनी के 2,452 ऑफिस थे और 68,389 इंश्योरेंस एजेंट्स उसके लिए काम कर रहे थे। 
 
FY 17 में 2.71 करोड़ पॉलिसी बेची
-फाइनेंशियल ईयर 2017 में कंपनी ने सबसे ज्यादा 2.71 करोड़ पॉलिसी बेची है। कंपनी को केंद्र सरकार और राज्य सरकार की सोशल वेल्फेयर योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, यूनिफाइड फार्मर्स पैकेज इंश्योरेंस, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजान, राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना का फायदा कंपनी को मिला है। मार्च 2017 तक कंपनी ने प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत 1.5 करोड़ से ज्यादा कस्टमर्स को इंश्योरेंस कवर दिया।
-फाइनेंशियल ईयर 2017 में कंपनी को 839.9 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ, जबकि फाइनेंशियल ईयर 2013 में 913.9 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ था। जून  तिमाही में एनआईएसी को 513.3 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ।
कंपनी का ग्रॉस रिटेन प्रीमियम फाइनेंशियल ईयर 2013 में 13200.18 करोड़ रुपए से बढ़कर फिस्कल 2017 में 23,230.90 करोड़ रुपए रहा। 
 
वैल्युएशन
क्रिस रिसर्च के फाउंडर अरुण केजरीवाल का कहना है कि आईपीओ के अपर एंड प्राइस बैंड पर इसका प्राइस टू बुक वैल्यू 1.67 है। वहीं इसका पीई 74.63 है। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड के प्राइस टू बुक वैल्यू 7.2 के मुकाबले न्यू इंडिया एश्योरंस का आईपीओ आकर्षक है। 
मार्केट रेग्युलेटर को फाइल की गई रेड हेरिंग प्रॉसपेक्ट्स के मुताबिक, कंपनी का फाइनेंशियल ईयर 2016-17 के लिए रिटर्न ऑन इक्विटी (आरओई) 8.6 फीसदी पर बैठता है। जो आईसीआईसीआई लोम्बार्ड के 20.3 फीसदी की तुलना में कम है। 
 
 
आगे पढ़ें- निवेश पर क्या है एक्सपर्ट्स की राय
ये है एक्सपर्ट की राय

- क्रिस रिसर्च के अरुण केजरीवाल का कहना है कि इंश्योरेंस सेक्टर मार्केट के लिए नया है। इसका थीम समझने में समय लगेगा। आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंश के सामने न्यू इंडिया एश्योरेंस का प्राइस अट्रैक्टिव है। निवेशकों को इसमें लिस्टिंग गेन के लिए निवेश करने से बचना चाहिए। मीडियम से लॉन्ग टर्म के नजरिए से निवेश करने पर इसमें अच्छा रिटर्न मिल सकता है।

- फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर ने बताया कि न्यू इंडिया एश्योरंस का वैल्युएशन अच्छा है। हाल ही में लिस्ट हुए इंश्योरेंस कंपनियों का परफॉर्मेंस अच्छा नहीं रहा है। बावजूद इसके इसमें निवेश किया जा सकता है।

- कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग के वीपी अंबरीश बालिगा का कहना है कि न्यू इंडिया एश्योरेंस का आईपीओ थोड़ा महंगा है। इसके पहले आए अन्य इंश्योरेंस कंपनियों के आईपीओ का परफॉर्मेंस अच्छा नहीं रहा है। इसलिए निवेशकों को फिलहाल इससे दूर रहने की सलाह होगी।

- केआर चोकसी सिक्युरिटीज के एमडी देवेन चोकसी ने कहा कि अगले कुछ दिनों में अन्य कंपनियों के आने वाले हैं। इसलिए निवेशकों को फिलहाल इंतजार करना चाहिए।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट