बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksदिन में 5 घंटे के काम में मिलेगी पूरी सैलरी, ये कंपनियां दे रही हैं मौका

दिन में 5 घंटे के काम में मिलेगी पूरी सैलरी, ये कंपनियां दे रही हैं मौका

इन कंपनियों में हफ्ते में सिर्फ 30 घंटे काम करना पड़ता है।

1 of
नई दिल्ली। भारत जैसे देशों में नौकरी के दौरान दिन में औसतन 8 घंटे ऑफिस में रहना जरूरी होता है। अगर किसी दिन ऑफिस में 8 घंटे से कम काम किया तो सैलरी में कटौती हो जाती है। सप्ताह में 6 दिन औसत 8 घंटे काम करने के कारण अपने जरूरी कामों के लिए समय नहीं मिल पाता और उसे पूरा करने के लिए छुट्टी लेनी पड़ती है। छुट्टी लेने की स्थिति में आपकी सैलरी कटने की चिंता रहती है। दूसरी तरफ कुछ ऐसी कंपनियां हैं जो अपने कर्मचारियों से दिन में सिर्फ 5 घंटे काम कराती हैं और सैलरी पूरे महीने की देती है। कौन सी कंपनियां दे रही हैं ऐसा मौका जानें आगे....
 
छुट्टी लेकर करना पड़ता है जरूरी काम
 
रोजाना 8 घंटे की नौकरी में लोगों को अपने लिए समय निकाल पाना मुश्किल हो जाता है। 8 घंटे की शिफ्ट के बाद कुछ और काम करने की एनर्जी नहीं बचती है। ऐसे में अपने जरूरी काम को निपटाने के लिए ऑफिस से छुट्टी या फिर हाफ डे लेना होता है। काम के घंटे बढ़ने से शरीर पर बुरा प्रभाव भी पड़ता है और प्रोडक्टिविटी भी घटती है।
 
अगली स्लाइड में- ये कंपनियां दे रही हैं मौका
एक्यूटी शेड्यूलिंग
 
ऑनलाइन शेड्यूलिंग कंपनी एक्यूटी शेड्यूलिंग अपने कर्मचारियों से रोजाना सिर्फ 6 घंटे ही काम करवाती है। इतने कम घंटे काम करने के बावजूद कंपनी कर्माचिरयों को पूरी सैलरी और सुविधाएं देती है। कंपनी की फाउंडर और सीईओ गाविन जूच्लिंस्की का कहना है कि 6 घंटे रोजाना काम में भी वही प्रोडक्टिविटी मिलती है जो पहले 8 घंटे काम करने पर मिलती थी। कंपनी के कर्मचारी सुबह तीन घंटे और ब्रेक के बाद फिर दोपहर को तीन घंटे काम करते हैं।
 
अगली स्लाइड में- कौन है अगली कंपनी 
अमेजन
 
8 घंटे तक लगातार काम से कर्माचारियों की प्रोडक्टिविटी में गिरावट आती है। कंपनियां अपने कर्माचारियों की प्रोडक्टिविटी बढ़ाने के लिए नए-नए प्रयोग करती रहती हैं। अमेजन भी काम करने के घंटे में कटौती की योजना बना रही। कंपनी की योजना 30 घंटे हफ्ते यानी रोजाना 6 घंटे काम कराने की है।
 
अगली स्लाइड में- कौन है अगली कंपनी 
ब्राथ
 
स्वीडन की ऑनलाइन सर्च ऑप्टिमाइजेशन कंपनी ब्राथ भी अपने कर्मचारियों का ख्याल रखते हुए दिन में सिर्फ 6 घंटे ही काम कराती है। कंपनी का मानना है कि ज्यादा घंटे काम करने से प्रोडक्टिविटी में कमी आती है।
 
अगली स्लाइड में- कौन है अगली कंपनी 
स्टार्ट-अप कंपनी
 
सैन डिएगो की एक स्टार्ट अप कंपनी में कर्मचारी बिना लंच ब्रेक के सिर्फ 8 बजे से 1 बजे तक काम करते हैं। इस कंपनी में हफ्ते में कुल 25 घंटे ही काम होता है और सैलरी व बेनिफिट्स पूरे मिलते हैं।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट