Home » Market » StocksBharat 22 ETF opens for anchor investors

BHARAT 22 ETF के लिए एंकर इन्वेस्टर्स से मिले 6 गुने आवेदन, 8000 करोड़ जुटाने का है प्लान

रिटेल इन्वेस्टर्स के लिए यह 15 नवंबर को खुलेगा और इसके लिए 17 नवंबर तक आवेदन किया जा सकेगा।

1 of
 
नई दिल्ली. भारत 22 ईटीएफ को एंकर इन्वेस्टर्स की तरफ अच्छा रिस्पॉन्स मिला। मंगलवार को खुले फंड को लिमिट से 6 गुना यानी 12 हजार करोड़ रुपए के आवेदन मिले। बुधवार को यह फंड रिटेल इन्वेस्टर्स के लिए खुलेगा। इस फंड का प्रबंधन आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्युचुअल फंड कर रहा है और भारत 22 ईटीएफ का साइज 8 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का है।
 
आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्युचुअल फंड ने कहा कि इस फंड के कुल साइज का 25 फीसदी यानी 2 हजार करोड़ रुपए एंकर इन्वेस्टर्स के लिए रिजर्व है, जिसके लिए लगभग 12 हजार करोड़ रुपए के आवेदन मिले।

 

इस फंड में हैं 22 कंपनियों के शेयर

भारत 22 ईटीएफ में कुल 22 कंपनियों के शेयर होंगे, जिनमें केंद्र सरकार की कंपनियां, एसयूयूटीआई और पीएसयू बैंक शेयर शामिल हैं। इस ईटीएफ में ओएनजीसी, आईओसी, एसबीआई, बीपीसीएल, कोल इंडिया, नाल्‍को शामिल हैं। अन्‍य कंपनियों में एनबीसीसी, एनटीपीसी, एनएचपीसी, एसजेवीएनएल, गेल, पीजीसीआईएल, एनएलसी इंडिया, भारत इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स सहित इंजीनियर्स इंडिया शामिल हैं। इसमें तीन सरकारी बैंकों एसबीआई, इंडियन बैंक और बैंक आफ बड़ौदा को भी शामिल किया गया है। इसके अलावा इसमें एसयूयूटीआई में शामिल तीन कंपनियों एक्सिस बैंक, आईटीसी और एलएंडटी भी शामिल हैं।

 
रिटेल इन्वेस्टर्स को 3% की छूट, डीमैट अकाउंट से कर सकेंगे निवेश
- जिन लोगों के पास डीमैट अकाउंट हैं वह इसमें निवेश कर सकते हैं। यहां पर रिटेल इंवेस्‍टर न्‍यूनतम 5 हजार रुपए से लेकर 2 लाख रुपए तक का निवेश कर सकते हैं। NFO के दौरान निवेश पर लेने पर निवेशकों को एंट्री लोड नहीं देना होगा। इसके अलावा इसमें निवेश करने वाले रिटेल इन्‍वेस्‍टर्स को 3 फीसदी की छूट मिलेगी।
- इस फंड में एकत्र पैसा सेंट्रल पब्लिक सेक्‍टर इंटरप्राइजेज (सीपीएसई), पब्लिक सेक्‍टर अंडरटेकिंग (पीएसयू) और स्‍पेशिफाइड अंडरटेकिंग ऑफ यूनिट ट्रस्‍ट ऑफ इंडिया (SUUTI) के 22 शेयरों में लगाया जाएगा।
- इस एनएफओ में निवेशकों की कैटेगरी में एंकर निवेशकों के लिए 25 फीसदी, गैर एंकर निवेशकों यानी रिटेल के लिए 25 फीसदी, रिटायरमेंट फंड के लिए 25 फीसदी, क्यूआईबी और एनआईआई के लिए 25 फीसदी हिस्सा तय किया गया है।

 
सरकार के डिसइन्‍वेस्‍टमेंट का हिस्‍सा
सरकार ने इस साल डिसइन्‍वेस्‍टमेंट से 72,500 करोड़ रुपए जुटाने की योजना बनाई है। उम्‍मीद है कि इस एनएफओ से सरकार को करीब 8,000 रुपए जुटाने में मदद मिलेगी। इसके जरिए सरकार कई कंपनियों में हिस्‍सेदारी कम करेगी।

 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट