बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksमार्च में कैश करा लें म्‍युचुअल फंड, नए टैक्‍स नियमों से मिल जाएगा छुटकारा

मार्च में कैश करा लें म्‍युचुअल फंड, नए टैक्‍स नियमों से मिल जाएगा छुटकारा

बजट 2018 में म्‍युचुअल फंड को लेकर कुछ बदलाव किए गए हैं।

1 of

नई दिल्‍ली. बजट 2018 में म्‍युचुअल फंड को लेकर कुछ बदलाव किए गए हैं। इन नियमों के चलते अगर निवेशक अपना निवेश 31 मार्च तक बनाए रखते हैं तो उनको काफी इनकम टैक्‍स देना पड़ सकता है। इसलिए जरूरी है कि 31 मार्च से पहले बेच कर फायदा उठाया जाए। जानकारों के अनुसार ऐसा करने से एक तो इनकम टैक्‍स का फायदा उठाया जा सकता है, दूसरा डिविडेंड पर लगने वाले टैक्‍स से बचा जा सकता है। 
 

 

बजट 2018 में क्‍या है बदलाव

बजट 2018 में म्‍युचुअल फंड में निवेश करने वालों के लिए दो नियम बदले गए हैं। पहला बदलाव है लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गैन टैक्‍स का। अगले वित्‍तीय वर्ष से इस नियम के चलते अगर 1 लाख रुपए से ज्‍यादा का लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गैन होता है तो उस पर 10 फीसदी टैक्‍स लगेगा।

दूसरे बदलाव के तहत डिविडेंड पर अब 10 फीसदी टैक्‍स लगेगा। अभी तक यह टैक्‍स फ्री था।

 

 

निवेश को बेचने के विकल्‍प का उठाए फायदा

फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम के अनुसार म्‍युचुअल फंड के वे निवेशक जिनका ज्‍यादा इन्‍वेस्‍टमेंट है, उनके लिए अच्‍छा होगा कि वह अपना निवेश 31 मार्च के पहले बेच दें। इससे वह लागू होने वाले नए नियम से बच जाएंगे। म्‍युचुअल फंड में निवेश बेचने के तीसरे ट्रेडिंग डे पर पेमेंट मिल जाता है। अगर निवेशक चाहें तो इस पैसे को दोबारा मार्च में या फिर अप्रैल में म्‍युचुअल फंड में डाल सकते हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा होगा कि अगर उनको भारी भरकम लॉन्‍ग टर्म टैक्‍स गेन हो रहा है, तो वह पूरा फ्री हो जाएगा।

 

 

डिविडेंड ऑप्‍शन को ग्रोथ में बदलें

अंश फायनेंशियल एंड इन्‍वेस्‍टमेंट के डायरेक्‍टर दिलीप कुमार गुप्‍ता के अनुसार जिन निवेशकों का म्‍युचुअल फंड में निवेश का विकल्‍प डिविडेंड हैं, उनको ग्रोथ में बदल लेना चाहिए। अगले वित्‍तीय वर्ष से डिविडेंड पर 10 फीसदी का टैक्‍स लगेगा। यह टैक्‍स उन निवेशकों को भी देना होगा, जिनकी टैक्‍स लायबिल्‍टी बनती भी नहीं है। ऐसे में सबसे अच्‍छा है कि निवेशक ग्रोथ विकल्‍प काे अपनाएं।

 

 

अगले वित्‍तीय वर्ष में क्‍या रखें सावधानी

च्‍वॉइस ब्रोकिंग के प्रेसीडेंट अजय केजरीवाल के अनुसार निवेशकों को अगले वर्ष अपने निवेश पर विशेष नजर रखनी चाहिए। निवेशक अपने म्‍युुचुअल फंड और शेयर बाजार के निवेश में हर साल एक लाख रुपए का लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गैन जरूर बुक करते रहें। एक लाख रुपए का लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गैन इनकम टैक्‍स की छूट के दायरे में है। अगर ऐसा नहीं करेंगे तो निवेशकों को बाद में ज्‍यादा टैक्‍स लायबिल्‍टी आएगी।


 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट