बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksपोस्ट ऑफिस की स्कीम में 2750 रु मंथली इनकम की है गारंटी, सबको होगा फायदा

पोस्ट ऑफिस की स्कीम में 2750 रु मंथली इनकम की है गारंटी, सबको होगा फायदा

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम के तहत 2750 रुपए मंथली तक इनकम की गारंटी है।

1 of

नई दिल्ली। अगर आप रेग्युलर मंथली इनकम या एक्स्ट्रा इनकम का कोई उपाय खोज रहे हैं पोस्ट ऑफिस की यह स्कीम आपकी मदद कर सकती है। बस इसके लिए आपको एक बार स्कीम के तहत पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवाना पड़ेगा। इस स्कीम के तहत 2750 रुपए मंथली तक इनकम की गारंटी है। वहीं, आपके द्वारा खाते में जमा हर एक पैसे पर सुरक्षा की भी गारंटी है। इस अकाउंट को आप मिनिमम 1500 रुपए से भी खुलवा सकते हैं। आपके पास कुछ पैसे एकमुश्‍त पड़े हों तो उन पैसों को किसी रिस्की निवेश या बैंक के बचते खाते में डालने की बजाए, पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में जमा करा दें तो यह आपके लिए हर महीने इनकम देने की गारंटी बन जाएगी। स्कीम को हर 5 साल बाद उसी खाते के जरिए आगे भी जबतक चाहें बढ़ा सकते हैं। यानी यह सालों तक आपके लिए इनकम की गारंटी साबित होगी। 

 

 

क्या है ये स्कीम
पोस्ट ऑफिस की मंथली इन्वेस्टमेंट स्कीम यानी पीओएमआईएस आपको मंथली इनकम करने का मौका देती है। एक्सपर्ट्स इस योजना को निवेश के सबसे अच्छे विकल्पों में से एक मानते हैं, क्योंकि इसमें 4 बड़े फायदे हैं। 
1. इसे कोई भी खोल सकता है और आपकी जमा-पूंजी हमेशा बरकरार रहती है।
2. बैंक एफडी या डेट इंस्ट्रूमेंट की तुलना में आपको बेहतर रिटर्न मिलता है।
3. हर महीने एक निश्चित आय आपको होती रहती है।
4. स्कीम पूरी होने पर आपकी पूरी जमा पूंजी मिल जाती है जिसे आप दोबारा इस योजना में निवेश कर मंथली आय का साधन बनाए रख सकते हैं।  

 

कैसे होगी 2750 रुपए तक मंथली इनकम 
अगर आपका अकाउंट सिंगल है तो आप 4.5 लाख रुपए तक अधिकतम जमा कर सकते हैं। मंथली इन्वेस्टमेंट स्कीम के तहत 7.3 फीसदी सालाना ब्याज मिलता है। इस सालाना ब्याज को 12 महीनों में बांट दिया जाता है जो आपको मंथली बेसिस पर मिलता रहता है। अगर आपने 4.5 लाख रुपए जमा किए हैं तो आपका सालाना ब्याज करीब 32850 रुपए होगा। इस लिहाज से आपको हर महीने करीब 2750 रुपए की आय होगी। वहीं आपका 9 लाख रुपए मेच्योरिटी पीरियड के बाद कुछ और बोनस जोड़कर वापस मिल जाएगा। 

 

अगर आप मंथली पैसा न निकालें 
अगर आप मंथली पैसा न निकालें तो वह आपके पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट में रहेगी और मूलधन के साथ इस धन को भी जोड़कर आपको आगे ब्याज मिलेगा। 

 

आगे पढ़ें, 5500 रुपए तक भी कर सकते हैं मंथली इनकम.......

 

 

कैसे होगी 5500 रुपए मंथली इनकम
स्कीम के तहत आप ज्वॉइंट अकाउंट भी खोल सकते हैं। ज्वॉइंट अकाउंट में एक बार में 9 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं। सालाना 7.3 फीसदी ब्याज के हिसाब से कुल सालाना ब्याज 65700 रुपए होंगे। इसे 12 महीनों में बांट दें तो हर महीने 5500 रुपए आपको मिलेंगे। 

 

मेच्योरिटी के पहले पैसा निकालें तो
अगर किसी जरूरत पर आपको मेच्योरिटी से पहले ही पूरा पैसा निकालना पड़ गया तो यह सुविधा आपको  अकाउंट के 1 साल पूरा होने पर मिल जाती है। अकाउंट खोलने की तारीख से 1 साल से 3 साल तक पुराने अकाउंट होने पर, उसमें जमा रकम में से 2% काटकर बाकी रकम आपको वापस मिलती है।  साल से ज्यादा पुराना अकाउंट होने पर, उसमें जमा रकम में से 1 फीसदी काटकर बाकी रकम आपको वापस मिलती है।

आगे पढ़ें, कौन खोल सकता है अकाउंट ............

कौन खोल सकता है अकाउंट 


-पोस्ट ऑफिस की  मंथली इन्वेस्टमेंट स्कीम कोई भी खोल सकता है चाहे वह एडल्ट हो या माइनर। 
- आप अपने बच्चे के नाम से भी अकाउंट खोल सकते हैं। अगर बच्चा 10 साल से कम उम्र का है तो उसके नाम पर उसके माता-पिता या कानूनी अभिभावक की ओर से अकाउंट खोला जा सकता है। बच्चे की उम्र 10 साल होने पर वह खुद भी अकाउंट के संचालन का अधिकार पा सकता है।

आगे पढ़ें, टैक्स छूट का लाभ है या नहीं .......

कैसे खुलेगा अकाउंट
आप अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर अकाउंट खुलवा सकते हैं। इसके लिए आपको आधार कार्ड, वोटर आईडी, पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस में से किसी एक की फोटो कॉपी जमा करनी होगी। इसके अलावा एड्रेस प्रूफ जमा करना होगा, जिसमें आपका पहचान पत्र भी काम आ सकता है। इसके अलावा आपको 2 पासपोर्ट  साइज के फोटोग्राफ जमा करने होंगे। 

 

टैक्स छूट का लाभ नहीं 
इसमें जमा की जाने वाली रकम पर और उससे आपको मिलने वाली ब्याज पर किसी तरह की टैक्स छूट का लाभ नहीं मिलता है। हालांकि इससे आपको होने वाली कमाई पर डाकघर किसी तरह का TDS नहीं काटता, लेकिन जो ब्याज आपको मंथली मिलती है, उसके एनुअल टोटल पर आपकी टैक्सेबल इनकम में शामिल किया जाता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट