बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksपत्‍नी को ऐसे दें गिफ्ट में गोल्‍ड, नहीं रहेगा चोरी का डर

पत्‍नी को ऐसे दें गिफ्ट में गोल्‍ड, नहीं रहेगा चोरी का डर

पत्‍नी को गोल्‍ड का गिफ्ट इस तरीके से दें, जिसकी चोरी न हो सके। ऐसा संभव है Gold ETF के माध्‍यम से।

1 of
 
नई दिल्‍ली. गोल्‍ड को लेकर भारतीय समाज में गजब का लगाव है। सरकार की लाख कोशिश के बाद भी देश में गोल्‍ड की बिक्री कम नहीं हो रही है, लेकिन जो भी इसे खरीदता है उसे चोरी का डर सबसे ज्‍यादा होता है। ऐसे में जरूरी है पत्‍नी को गोल्‍ड का गिफ्ट इस तरीके से दें, जिसकी चोरी न हो सके। ऐसा संभव है गोल्‍ड ट्रेडेड फंड (Gold ETF) के माध्‍यम से गोल्‍ड को खरीदने में।

 
 
कई कंपनियां चला रही हैं ऐसी स्‍कीम्‍स
गोल्‍ड ईटीएफ कई म्‍युचुअल फंड कंपनियां चला रही हैं। यह पर एक बार में या थोड़ा थोड़ा करके गोल्‍ड खरीदने की छूट रहती है। निवेशक चाहे तो सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) माध्‍यम हर माह निवेश करके कितना भी गोल्‍ड खरीद सकता है।
 
 
कैसे काम करती है स्‍कीम
Gold ETF स्‍कीम्‍स में निवेशक जितना भी पैसा लगता है उतने रुपए का गोल्‍ड उसके डीमैट अकाउंट में जारी कर दिया जाता है। यहां पर घटतौली का चक्‍कर नहीं होता है। अगर किसी ने 5 हजार का गोल्‍ड खरीदा है तो उसे उस दिन के भाव के हिसाब से जितना भी गोल्‍ड 5 हजार रुपए में आएगा उसे यूनिट के रूप में एलाट कर दिया जाएगा। इन्‍वेस्‍टर्स जैसे जैसे गोल्‍ड में निवेश बढ़ाते जाते हैं वैसे वैसे उनकी गोल्‍ड की यूनिट बढ़ती जाती है।
 
 
 
 
बाजार भाव के हिसाब से बदलती रहती है वैल्‍यू
इन फंड्स में निवेश की वैल्‍यू फिजिकल मार्केट में हिसाब से बदलती रहती है। निवेशक जिस समय भी चाहे अपने निवेश की वैल्‍यू चेक कर सकता है। Gold ETF में निवेशक को सुविधा होती है कि वह कभी भी अपना निवेश घटा या बढ़ा सकता है। इसके अलावा निवेशक अगर चाहे तो अपना गोल्‍ड मार्केट टाइम में कभी भी बेच सकता है। यह पैसा निवेशक को तीसरे ट्रेडिंग डे पर मिल जाता है।
 
भविष्‍य की जरूरत में आ सकता है काम
Gold ETF में खरीदा गया गोल्‍ड भविष्‍य की घरेलू जरूरतों पर काम आ सकता है। इसमें शादियां या किसी अन्‍य समारोह के लिए इसे इस्‍तेमाल‍ किया जा सकता है। यह योजना उन लोगों के लिए अच्‍छी है जो एक साथ ज्‍यादा गोल्‍ड नहीं खरीद सकते हैं। यहां पर 500 या 1000 रुपए महीने का भी निवेश करके अच्‍छा खासा गोल्‍ड एकत्र किया जा सकता है।
 
 
 
आगे पढ़ें : कैसे है निवेश का सुरक्षित विकल्‍प
 
 
सुरक्षित निवेश का विकल्‍प भी
एसबीआई म्‍युचुअल फंड के एग्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर एवं चीफ मार्केटिंग ऑफसर डी पी सिंह का कहना है कि अपने निवेश को डायवर्सिफाइड करने के लिए भी गोल्‍ड में निवेश किया जा सकता है। उनके अनुसार निवेशक बॉड और स्‍टॉक मार्केट में निवेश के साथ गोल्‍ड में निवेश करके अपने पोर्टफोलियो को सुरक्षित बना सकते हैं। उन्‍होंने बताया कि 2008 के दौरान की मंदी और 2012 में यूरो जोन की दिक्‍कतों के वक्‍त निवेशकों ने सुरक्षित निवेश के लिए गोल्‍ड का सहारा लिया था।
 
 
 
 
(नोट-निवेश सलाह ब्रोकरेज हाउस और मार्केट एक्सपर्ट्स के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट