बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksShare Market in Hindi - शेयर बाजार क्या है?

Share Market in Hindi - शेयर बाजार क्या है?

शेयर बाजार में निवेश करके अच्‍छा रिटर्न पाया जा सकता है, लेकिन निवेश से पहले कुछ जरूरी जानकारी जुटाना जरूरी है।

Share Market in Hindi, Share Market Tips in Hindi, Stock Market in Hindi - शेयर बाजार क्या है, जानिये क्या है शेयर मार्किट
 
नई दिल्‍ली. Share Market in Hindi - शेयर बाजार में निवेश करके अच्‍छा रिटर्न पाया जा सकता है, लेकिन निवेश से पहले कुछ जरूरी जानकारी जुटाना जरूरी है। इस जानकारी में शेयर बाजार कैसे काम करता है, कैसे अच्‍छा शेयर छांटते और फिर कैसे निवेश करके फायदा उठाया जा सकता है। यह जानकारी जुटाना काफी आसान है। इसको कुछ ही देर में समझा जा सकता है।
 
 

कैसे काम करता है शेयर बाजार

शेयर बाजार या स्‍टॉक एक्‍सचेंज उन जगहों को कहते हैं, जहां शेयरों की ट्रेडिंग होती है। इस बाजार में किसी शेयर को इंट्री तब मिलती वह कंपनी सार्व‍जनिक प्रारंभिक निर्गम (IPO) लाती है। इस तरीके के तहत कोई भी कंपनी अपनी हिस्‍सेदारी आम लोगों, वित्‍तीय संस्‍थाओं और म्‍युचुअल फंड कंपनियों को बेचती है। IPO की लिस्टिंग के दिन कंपनियां इसके लिए आवेदन करने वाले लोगों और संस्‍थाओं को नियमों के अनुसार तय रेट पर शेयर एलाट करती हैं। जैसे ही इन शेयर्स की स्‍टॉक मार्केट में ट्रेडिंग शुरू होती है इसके भाव डिमांड और सप्‍लाई के आधार पर हर पल बदलते रहते हैं। शेयरों के बदलते भाव ही लोगों को फायदा दिलाते हैं।

 

 

कैसे छांटे निवेश के लिए अच्‍छा शेयर

हालांकि जानकार कंपनियों की बैलेंसशीट और मैनेजमेंट की ट्रे‍किंग करके किसी भी कंपनी में निवेश की संभावना है या नहीं यह जान लेते हैं। लेकिन आम लोगों को चाहिए वह इस कठिन प्रक्रिया की जगह आसान से नियमों का पालन करके अच्‍छे शेयर की पहचान कर लें। इनको तीन तरीकों से पहचाना जा सकता है।
 
1 ऐसी कंपनियां चुनें, जिनके नाम सभी जानते हों और उनके प्रॉडक्‍ट या सर्विस सभी जगह उपलब्‍ध हों। जैसे मारुति, टाटा मोटर्स कंपनियां।
 
2 देश की टॉप मार्केट कैप के हिसाब से बड़ी कंपनियां छांट सकते हैं। ऐसी कंपनियां निवेश के लिए अच्‍छी मानी जा सकती हैं।
 
3 निफ्टी और सेंसेक्‍स में शामिल कंपनियां आमतौर पर अच्‍छी ही होती हैं। इनको भी निवेश के लिए चुना जा सकता है।
 

कैसे करें निवेश की प्‍लानिंग

शेयर बाजार में निवेश के लिए किसी ब्रोकरेज कंपनी में अकाउंट खोलना पड़ता है। देश में दर्जनों ब्रोकरेज कंपनियां हैं, इनमें डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोला जा सकता है। यह दोनों अकाउंट एक साथ ही खुलते हैं। ट्रेडिंग अकाउंट के माध्‍मय से शेयर खरीदा जाता है और डीमैट में इसे रखा जाता है।
 

शेयर खरीदने के लिए बनाएं योजना

जैसा की शुरू में ही बताया गया है कि शेयर का भाव लगातार ऊपर नीचे होता रहता है। इसलिए कभी भी पूरा पैसा एक बार में न लगाएं। पहले किसी अच्‍छे शेयर को छांटे फिर उसमें थोड़ा-थोड़ा करके निवेश शुरू करें। इससे अापके खरीद भाव की एवरेजिंग अच्‍छी हो जाएगी। ऐसा करने से बाद में अच्‍छा रिटर्न पाना आसान हो जाता है।
 

शेयर बाजार की terminology

आईपीओ : प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO)। इसी माध्‍यम से कंपनियां पहली बार स्‍टाक मार्केट में अपने शेयर को लाती हैं।
 
बोनस शेयर : कंपनियां अपने निवेशकों को बोनस शेयर जारी करती हैं। यह कंपनी की कैपिटल और उसके कारोबार के स्‍केल पर निर्भर होता है कि वह कब और कितने शेयर बोनस के रूप में दे।
 
राइट इश्‍यु : कंपनियां जब अपने वर्तमान शेयरधरकों से ही और पैसा जुटाना चाहती हैं, तो राइट इश्‍यु से पैसा जुटाती हैं। इसमें वर्तमान शेरयधारकों को कंपनी की तरफ से जारी होने वाले शेयर खरीदने का राइट मिलता है। हालांकि निवेशक चाहें तो शेयर नहीं भी खरीद सकते हैं।
 
फेस वैल्‍यू : हर शेयर की एक फेस वैल्‍यू होती है। इसी आधार पर डिविडेंड या लाभांश मिलता है। आमतौर पर यह 10 रुपए होती है, लेकिन कई बार कंपनियां इसको बदल सकती हैं।
 
 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट