बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksआसान है बच्चों के नाम म्‍युचुअल फंड खरीदने का तरीका, बन जाएंगे करोड़पति

आसान है बच्चों के नाम म्‍युचुअल फंड खरीदने का तरीका, बन जाएंगे करोड़पति

पॉकेट मनी से भी कर सकते हैं बच्चों के नाम पर सेविंग

1 of


नई दिल्‍ली. पैरेंट्स में बच्चों के नाम पर निवेश करने को लेकर खासी उत्सुकता होती है। हालांकि कुछ ही स्कीम्स में यह सुविधा दी जाती है। म्युचुअल फंड में यह सुविधा हासिल है, जिसके लिए उम्र की भी कोई सीमा नहीं है। पैरेंट्स बच्चों को मिलने वाले पॉकेट मनी से ऐसा कर सकते हैं, जिससे बच्चे भी सेविंग के लिए प्रोत्साहित होंगे। ऐसे निवेश को 18 वर्ष की उम्र तक जारी रखा जा सकता है। अगर मां-बाप अपना निवेश 18 वर्ष तक चलाते रहें, तो बच्‍चा आराम से करोड़पति भी बन सकता है।

 

कैसे म्‍युचुअल फंड में शुरू कर सकते हैं निवेश

बच्‍चे के लिए सिंगल नाम से ही म्‍युचुअल फंड में निवेश शुरू किया जा सकता है। ऐसे निवेश में गार्जियन का नाम या कोर्ट की तरफ से नियुक्‍त गार्जियन यानी अभिभावक के रूप में रहता है।

 

 

बच्‍चे के नाम हर माह जमा कर सकते हैं पैसा 

म्‍युचुअल फंड में सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (सिप) काफी चर्चित निवेश का जरिया है। अगर कोई चाहता है कि उसके बच्‍चे के नाम पर सिप शुरू की जाए तो यह भी संभव है। लेकिन यह सिप केवल बच्‍चे के 18 साल के होने तक ही चल सकती है।

 

आगे भी पढ़ें...

 

यह भी पढ़ें, जरूरत पर तुरंत मिलेगा पैसा, SIP-इंश्योरेंस पॉलिसी से उठाएं एक्सट्रा फायदा

 

 

क्‍या-क्‍या दस्‍तावेज चाहिए

इन दस्‍तावेजों में बच्‍चे की उम्र के साथ पिता या कोर्ट से नियुक्‍त गार्जियन के दस्‍तावेज लगाने होते हैं। उम्र के लिए बच्‍चे का बर्थ प्रमाणपत्र होना चाहिए। अगर बच्‍चे का पासपोर्ट हो तो वह भी मान्‍य है। यह दस्‍तावेज म्‍युचुअल फंड में निवेश शुरू करते वक्‍त चाहिए होते हैं। बाद में अगर इसी फोलियो में और निवेश करना हो तो किसी भी तरह के दस्‍तावेज की जरूरत नहीं पड़ती है। लेकिन अगर किसी अन्‍य म्‍युचुअल फंड की योजना में निवेश शुरू करना हो तो फिर से यही प्रक्रिया दोहरानी होती है। म्‍युचुअल फंड में इस निवेश के लिए बच्‍चे का बैंक खाता भी जोड़ा जा सकता है और गार्जियन का बैंक खाता भी जोड़ा जा सकता है।

 

 

18 साल बाद बच्‍चे के नाम हो जाएगा निवेश

बच्‍चे के 18 साल का होने पर एक प्रक्रिया के बाद यह निवेश आम लोगों की तरह बच्‍चे के नाम पर हो जाएगा। म्‍युचुअल फंड कंपनियां बच्‍चे के 18 साल का होने पर इस प्रक्रिया को पूरा करने के दस्‍तावेज भेजती हैं। लेकिन अगर आप ने यह प्रक्रिया किसी भी कारण से पूरा करने में देर की तो बच्‍चे के नाम के म्‍युचुअल फंड निवेश में न तो पैसा जमा किया जा सकेगा, न ही उसे निकाला जा सकेगा। 18 साल का होने पर बच्‍चे के नाम पर म्‍युचुअल फंड KYC की प्रक्रिया करते हैं। इसमें बच्‍चे के नाम का बैंक अकाउंट और PAN चाहिए होता है, जिसके बाद यह प्रक्रिया पूरी हो जाती है।

 

आगे भी पढ़ें,

 

18 साल में कैसे बच्‍चा हो सकता है करोड़पति

बच्‍चे के नाम पर जन्‍म लेते ही म्‍युचुअल फंड में 5000 रुपए से निवेश शुरू करना होगा। इस निवेश में हर साल 15 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी करते जाएं। अगर इस निवेश पर औसतन हर साल 12 फीसदी का रिटर्न मिले तो 18 साल में बच्‍चा करोड़पति बन जाएगा।

 


इक्विटी म्‍युचुअल फंड ने दिया है अच्‍छा रिटर्न

शेयरखान के वाइस प्रेसिडेंट मृदुल कुमार वर्मा के अनुसार अच्‍छा रिटर्न पाने के लिए इक्विटी म्‍युचुअल फंड अच्‍छा विकल्‍प हैं। यहां पर पिछले एक साल में ढेरों योजनाओं ने 50 फीसदी से ज्‍यादा का रिटर्न दिया है। हालांकि हर साल इतने अच्‍छे रिटर्न की उम्‍मीद रखना ठीक नहीं है, लेकिन लंबे समय के निवेश पर 12 फीसदी तक रिटर्न आराम से पाया जा सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट