बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksवॉल्टन परिवार दुनिया में सबसे अमीर बिजनेस घराना, टॉप-10 में अंबानी फैमिली 7वें नंबर पर

वॉल्टन परिवार दुनिया में सबसे अमीर बिजनेस घराना, टॉप-10 में अंबानी फैमिली 7वें नंबर पर

अंबानी परिवार की 2.96 लाख करोड़ रुपए है दौलत।

1 of

 

 
नई दिल्ली.  ब्लूमबर्ग ने दुनिया के 25 सबसे अमीर बिजनेस घराने की लिस्ट जारी की है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के मुताबिक, 152 अरब डॉलर (10.33 लाख करोड़ रुपए) के साथ वॉलमार्ट चलाने वाला वॉल्टन परिवार दुनिया के सबसे अमीर बिजनेस घराने की लिस्ट में पहले स्थान पर है। वहीं दुनिया की टॉप 10 बिजनेस घराने की लिस्ट में अंबानी परिवार 43 अरब डॉलर (2.96 लाख करोड़ रुपए) की नेटवर्थ के साथ सातवें नंबर पर हैं। इसमें शामिल 25 परिवार 1.1 लाख करोड़ डॉलर (74.99 लाख करोड़ रुपए) के मालिक है। इन परिवारों की कुल वैल्यू एप्पल या इंडोनेशिया की GDP से भी ज्यादा है।

दुनिया के टॉप- 10 सबसे अमीर बिजनेस घराने-
1. वॉल्टन परिवार
कंपनी-
वॉलमार्ट
नेटवर्थ- 10.33 लाख करोड़ रुपए (152 अरब डॉलर)
फैमिली रिटेल मार्केट की सबसे बड़ी कंपनी वॉलमार्ट है। सैम वॉल्टन ने 1945 में वॉलमार्ट की शुरुआत की थी। वॉलमार्ट के दुनियाभर में करीब 12000 स्टोर हैं।
 
2. कोच ब्रदर्स
कंपनी- कोच इंडस्ट्रीज
नेटवर्थ- 6.73 लाख करोड़ रुपए (99 अरब डॉलर)
फ्रेड कोच ने 1940 में वुड रिवर ऑयल एंड रिफाइनरी कंपनी की स्थापना की थी। सेहत खराब होने की वजह से जून 2018 में डेविड कोच फैमिली बिजनेस के लीडरशिप से हट गए हैं। चार भाई फ्रेडरिक, चार्ल्स, डेविड और विलियम ने मिलकर पिता के तेल रिफाइनरी के बिजनेस को संभाला। कंपनी का सालाना रेवेन्यू करीब 100 अरब डॉलर है।
 
3. मार्स फैमिली
कंपनी- मार्स
नेटवर्थ- 6.12 लाख करोड़ रुपए (90 अरब डॉलर)
फ्रैंक मार्स ने स्कूल के दिनों में चॉकलेट बनाने की कला सीख ली थी। एमएंडएम, मिल्की वे एंड मार्स बार से कंपनी ने खास पहचान बनाई है। कंपनी का रेवेन्यू 35 अरब डॉलर है। कंपनी का बिजनेस फैमिली संभाल रही है। 
 
4. वैन डेम, डी मेवियस एंड डी स्पोएलबर्च
कंपनी- एनह्यूजर बुश ब्रयूरीज
नेटवर्थ- 3.67 लाख करोड़ रुपए (54 अरब डॉलर)
14वीं शताब्दी में तीन फैमिली वैन डेम, डी मेवियस और डी स्पोएलबर्च ने मिलकर बिजनेस की शुरुआत की थी। कंपनी ब्रेवरेजेज बनाती है। कंपनी की कुल वेल्थ 54 अरब डॉलर है। स्टेला अलटियोज, बडवाइजर और कोरोना इनके सबसे ज्यादा बिकने वाले प्रोडक्ट्स हैं।
 
5. ड्यूमस फैमिली
कंपनी- हर्मज
नेटवर्थ- 3.33 लाख करोड़ रुपए (49 अरब डॉलर)
साल 1837 में थियेरी हर्मस ने ड्यूमस की शुरूआत की थी। कंपनी नोबेलमेन के लिए राइडिंग गियर बनाती है। जीन और लुइस डुमस ने बिजनेस को लग्जरी फैशन का ग्लोबल लीडर बनाया। पीयेरे-एलिक्स ड्यूमस कंपनी के आर्टिस्टिक्स डायरेक्टर, जबकि एक्सल ड्यूमस कंपनी के चेयरमैन हैं।
 
6. वरथीमर फैमिली
कंपनी- शॅनल
नेटवर्थ- 3.11 लाख करोड़ रुपए (46 अरब डॉलर)
शॅनल लग्जरी गुड्स सेक्टर की कंपनी है। पियेरे वरथीमर ने 1924 एक परफ्यूम कॉन्ट्रैक्ट कोको शॅनल को फंडिंग किया था। 2017 में कंपनी का रेवेन्यू 9.6 अरब डॉलर था। वरथीमर के पास रेसहॉर्स और वाइनयार्ड्स भी है।
 
आगे पढ़ें, टॉप-10 में अंबानी परिवार 7वें नंबर पर

 

7. अंबानी परिवार
कंपनी- रिलायंस इंडस्ट्रीज
नेटवर्थ- 2.96 लाख करोड़ रुपए (43.4 अरब डॉलर)
मुकेश औऱ अनिल अंबानी के पिता धीरूभाई अंबानी ने 1957 में रिलायंस इंडस्ट्रीज की शुरुआत की थी। 2002 में धीरूभाई की मौत के बाद उनके बड़े बेटे मुकेश अंबानी ने इसे संभाला। कंपनी पेट्रोलियम, पेट्रोकेमिकल्स, रिटेल और टेलीकॉम सेक्टर में बिजनेस कर रही है। मुकेश मुंबई में दुनिया की सबसे महंगी 27 मंजिला इमारत में रहते हैं।

8. क्वांट फैमिली
कंपनी- बीएमडब्ल्यू
नेटवर्थ- 2.91 लाख करोड़ रुपए (43 अरब डॉलर)
हेरबर्ट क्वांट ने को दुनिया की सबसे लग्जरी व्हीकल बनाने वाली कंपनी बीएमडब्ल्यू को सफल बनाने का श्रेय जाता है। 2015 में मतरिआर्च, जोहाना क्वांट की मौत के बाद उनके बच्चे स्टीफ क्वांट और सुसेन क्लैटन कंपनी को चला रहे हैं। इसके अलावा क्वांट फैमिली जर्मनी की लॉजिस्टिक कंपनी लॉगविन और डच सिक्युरिटी सॉफ्टवेयर कंपनी गेमाल्टो में निवेश किया है।

आगे पढ़ें, 
9. करगिल मैकमिलन फैमिली
कंपनी- करगिल
नेटवर्थ- 2.88 लाख करोड़ रुपए (42.3 अरब डॉलर)
 
साल 1865 में विलियम डब्ल्यू करगिन ने एक ग्रेन वेयरहाउस से करगिल की शुरुआत की थी। फूड और एग्रीकल्चर के लिए काम करने वाली ये कंपनी अमेरिका की बड़ी कंपनी है। उनके जाने के बाद उनकी फैमिली ने बिजनेस को संभाला।
 
10. बोहरिंगर वोन बाउमबच फैमिली
कंपनी- बोहरिंगर इंगेलहियम
नेटवर्थ- 2.87 लाख करोड़ रुपए (42.2 अरब डॉलर)
 
जर्मन ड्रगमेकर बोहरिंगर इंग्लेहेम की स्थापना 1885 में अल्बर्ट बोहरिंगर ने की थी। 130 से अधिक वर्षों बाद बोहरिंगर परिवार समेत वॉन बाम्बाचस इस कंपनी को चला रहा है। 1939 में अल्बर्ट बोहरिंगर का निधन हो गया था। 2010 में कंपनी के 125 साल पूरे हुए थे।
 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट