Home » Market » StocksFirst SME company from J&K lists on NSE

कश्मीर की इस छोटी सी कंपनी ने रचा इतिहास, एक झटके में मिले 55 करोड़ रु

जम्‍मू एंड कश्‍मीर की सर्वेश्‍वर फूड्स ने नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज में लिस्‍ट होकर इतिहास रच दिया है।

1 of

मुम्‍बई. जम्‍मू एंड कश्‍मीर की सर्वेश्‍वर फूड्स ने नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज में लिस्‍ट होकर इतिहास रच दिया है। यह कश्‍मीर की पहली स्‍मॉल एंड मीडियम इंटरप्राइज (SME) कंपनी है जिसकी शेयर बाजार में लिस्टिंग हुई है। यह कंपनी ब्रांडेड और अन ब्रांडेड बासमती चावल का करोबार करती है। NSE के एसएमई प्‍लेटफार्म पर लिस्‍ट होने वाली यह देश की 128वीं कंपनी बन गई है। इन कंपनियों ने कुल मिलाकर 1800 करोड़ पूंजी बाजार से जुटाया है। 


 

 

कंपनी ने जुटाए हैं 55 करोड़ रुपए

 

कंपनी ने 85 रुपए पर निवेशकों को शेयर जारी किए थे। लेकिन एनएसई पर यह गुरुवार को लिस्टिंड डे पर 70.05 रुपए पर बंद हुआ। इस प्रकार लिस्टिंग डे पर निवेशकों को करीब 17.59 फीसदी का नुकसान हुआ। कंपनी ने आईपीओ के दौरान 55 करोड़ रुपए निवेशकों से एकत्र किया था।

 

 

एक करोड़ शेयर्स की आई थी मांग 

 

यह आईपीओ 5 मार्च को खुला था और 8 मार्च को बंद हुआ था। कंपनी ने आईपीओ के दौरान प्राइस बैंक 83 से 85 रुपए रखा था। यह इश्‍यु 1.56 गुना सब्‍सक्राइब हुआ था और कंपनी ने अंत में 85 रुपए पर अपने शेयर निवेशकों को अलाए किए थे। कंपनी ने इस आईपीओ के जरिए 6,467,200 शेयर बेचने के लिए ऑफर किए थे। इसके बदले में कंपनी को 10,044,800 शेयर की बिड मिली थी। 

 
एनएसई के लिए शुभ संकेत
 

एनएसई के चीफ बिजनेस ऑफीसर रवि वारानसी के अनुसार कश्‍मीर जैसे राज्‍य से एसएमई का लिस्‍ट होना शुभ संकेत है। इससे पूरे देश में मैसेज जाएगा कि एनएसई से जुड़कर देश के किसी भी हिस्‍से की कंपनी पूंजी जुटा सकती है। उन्‍होंने कहा कि चालू वित्‍तीय साल में 80 छोटी कंपनियां एनएसई के SME प्‍लेटफार्म में लिस्‍ट हो चुकी हैं। उनके अनुसार अगले कुछ माह में कई और कंपनियां इस प्‍लेटफार्म से जुड़ने की योजना पर काम कर रही हैं। 

 
आगे पढ़ें : रांची-पटना जैसों का हाल 

 

 

 

रांची पटना जैसों शहरों की कंपनियां जुड़ने को इच्‍छुक 


उनके अनुसार रांची, गुवाहटी और पटना जैसों शहर की कंपनियां आने वाले दिनों में एनएसई के SME प्‍लेटफार्म से जुड़ेंगी। उन्‍होंने बताया कि एक्‍सचेंज ने टॉयर टू और टॉयल थ्री सिटीज में छोटी कंपनियों के बीच अवेयरनेस कार्यक्रम चलाया जिससे अच्‍छा रिस्‍पांस मिला है। इस दौरान कंपनियों को बताया गया कि कैसे फंड के आल्‍टरनेटिव सोर्स को अपनाया जा सकता है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट