Home » Market » Stocksलंदन में यह भारतीय कहलाता है बर्गर सिंह, अब भारत में दे रहा कमाने का मौका

लंदन में यह भारतीय कहलाता है बर्गर सिंह, अब भारत में दे रहा कमाने का मौका

आइए जानते हैं कौन है ये शख्स और कैसे बन गए बर्गर सिंह।

1 of

नई दिल्ली. हायर एजुकेशन के लिए भारतीय छात्र विदेशों में पढ़ने जाते हैं। वहां अपना खर्च निकालने के लिए पार्ट टाइम नौकरी भी करते हैं। ऐसे ही एक शख्स ब्रिटेन में मास्टर्स करने गया और यहां बर्गर सिंह के नाम से फेमस हो गया। अब स्वदेश लौटने के बाद यह शख्स भारत ने कमाने का मौका दे रहा है। आइए जानते हैं कौन है ये शख्स और कैसे बन गए बर्गर सिंह।

 


ऐसे बने बर्गर सिंह

 

हम बात कर रहे हैं बर्गर सिंह के फाउंडर कबीर जीत सिंह की। कबीर ने moneybhaskar.com को बताया कि वो हायर एजुकेशन के लिए ब्रिटेन गए थे। इस दौरान उन्होंने एक लोकल पब में काम किया। वहां उनको खाने में बर्गर मिलता था। रोजाना एक ही स्वाद वाले बर्गर खाकर वो ऊब से गए थे। इसलिए उन्होंने पैटी में इंडियन फ्लेवर डालकर प्रयोग करना शुरू किया। उनका यह प्रयोग कारगर रहा और उनके दोस्तों को यह खूब स्वादिष्ट लगा। दोस्तों के बीच उनका बर्गर पॉपुलर होने की वजह से वो उनको बर्गर सिंह के नाम से बुलाने लगे।

 


आगे पढ़ें- कैसे मिला बिजनेस आइडिया

ऐसे मिला आइडिया

 

पढ़ाई पूरी करने के बाद जब कबीर स्वदेश लौटे तो उन्होंने गौर किया कि भारत में बर्गर मार्केट बहुत तेजी से बढ़ रहा है और इंटरनेशनल बर्गर चेन की भारतीय मार्केट में एंट्री हो रही है। उन्होंने पाया कि अमेरिकी कंपनियों को भारतीयों के स्वाद की समझ ज्यादा नहीं है। इसलिए अमेरिकी चेन भारतीयों को अमेरिकी स्वाद से लुभाने की कोशिश करेंगे। इसलिए उन्हें इस सेक्टर में एक अवसर दिखा और अपने दोस्त के साथ 2014 में बर्गर सिंह की नींव रखी। बर्गर सिंह की शुरुआत करने से पहले उन्होंने दूसरी कंपनी में काम कर अनुभव प्राप्त किया।

 

गुड़गांव में खोला पहला आउटलेट

 

कबीर ने 2014 में 20 लाख रुपए के निवेश से गुड़गांव में बर्गर सिंह का पहला आउटलेट खोला। देसी स्वाद और पंजाबी तड़के साथ बर्गर बेचने की शुरुआत की। उन्होंने बर्गर सिंह पैटी में रिजनल मासाले और स्पाइस का बहुत खूबी के साथ मिक्स किया। सभी की तरह उनको भी आउटलेट शुरू करने में मुसीबतों का सामना करना पड़ा। उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती सप्लाई चेन बनाने को लेकर थी। लेकिन अनुभव बढ़ने के साथ काम करना आसान होता गया।

 

 

आगे पढ़ें- अब दूसरों को कमाने का दे रहे हैं मौका

फ्रेंचाइजी के हैं दो मॉड्यूल

 

2016 में भारत में QSR मार्केट 3,09,110 करोड़ रुपए था, जो 2021 तक बढ़कर 4,98,120 करोड़ रुपए तक पहुंचने का अनुमान है। इसमें बर्गर की हिस्सेदारी सिर्फ 2 फीसदी की है। लेकिन यह 25 फीसदी की दर से बढ़ रही है। कबीर ने कहा कि इसलिए हम बर्गर सिंह की फ्रेंचाइजी देकर लोगों को कमाने का मौका दे रहे हैं।

 

पहला मॉड्यूल

 

- बर्गर सिंह स्टोर्स के दो फॉर्मेट हैं। पहला रेग्युलर बर्गर सिंह QSR जिसमें खाने और डिलिवरी की सुविधा है। फ्रेंचाइजी फीस के साथ इसका सेट अप कॉस्ट 35 लाख रुपए है।

 

दूसरा मॉड्यूल

 

- दूसरा मॉड्यूल है बर्गर सिंह लाइट। यह मॉड्यूल मॉल फूड कोर्ट में खोला जा सकता है। इस स्टोर में लिमिटेड मेन्यू होंगे और प्रोडक्ट्स की कीमत कम होगी। फ्रेंचाइजी फीस के साथ इसके सेट अप में 25 लाख रुपए का खर्च आएगा।

 

कितनी होगी कमाई

 

कंपनी की फ्रेंचाइजी लेने वाले को 18 से 24 महीने के अंदर ब्रेक ईवन मिलने का अनुमान है। हालांकि इनकम शहर और एरिया पर निर्भर होगी। 

 

यह भी पढ़ें-

 

आप जितना सुनते हैं गाना, उतनी ही बढ़ती जाती है इस कंपनी की दौलत

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट