Home » Market » Stocksपुरानी कारें बेचकर ये इंडियन बना 1600 करोड़ का मालिक, 8 साल की उम्र में छोड़ा था देश

पुरानी कारें बेचकर ये इंडियन बना 1600 करोड़ का मालिक, 8 साल की उम्र में छोड़ा था देश

आइए जानते हैं इस शख्स ने कैसे हालिस किया ये मुकाम...

1 of

नई दिल्ली. ज्यादातर भारतीयों का सपना विदेश में जाकर बसने और पैसा कमाना होता है। लेकिन इनमें कुछ ही शख्स ऐसे होते हैं जो अपना देश छोड़ने के बाद विदेश में अपनी एक पहचान बना पाते हैं। ऐसे ही एक भारतीय 8 साल की उम्र अपना देश छोड़कर अमेरिका गया था और आज अपनी कड़ी मेहनत के दम पर बिजनेस खड़ा किया और 1600 करोड़ रुपए का मालिक बन गया। आइए जानते हैं इस शख्स ने कैसे हालिस किया ये मुकाम...

 

8 साल की उम्र में छोड़ा था देश

 

जय गिल 8 साल की उम्र में भारत से अमेरिका शिफ्ट हुए थे। छोटी सी उम्र में अमेरिका गए जय को यह उम्मीद नहीं थी कि वो बड़ा होकर एक बिजनेस शुरू करेंगे और उनके बिजनेस को सफलता मिलेगी। 

 

आगे पढ़ें- खेतों में बीता बचपन

 

यह भी पढ़ें- 4 दिन में इस महिला ने कमाए अंबानी, बिल गेट्स से ज्यादा, 13650 करोड़ बढ़ी 

पिता थे एक फार्म वर्कर

 

जय गिल के पिता यहां एक फार्म वर्कर थे। इसलिए जय का बचपन भी खेतों में ज्यादा बीता। एक ओर जहां गर्मी की छुट्टियों में बच्चे घूमने-फिरने जाते थे। वहीं जय खेतों में अंगूर और टमाटर तोड़ते थे और कॉटन की कटाई करते थे। इसके बावजूद उन्होंने ने स्कूल की पढ़ाई नहीं छोड़ी।

 

कॉलेज के दौरान मिला आइडिया

 

स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद जय ने कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया। 
वहां कुछ पैसे बनाने के लिए उन्होंने अपने क्लासमेट की कारों को बदलना शुरू कर दिया। उन्होंने सेमेस्टर के अंत तक देखा कि कुछ लड़के अपने कारों से छुटकारा पाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए जय ने उनसे सस्ते दाम में कार खरीद अपने समुदाय के किसानों को कम प्रॉफिट में बेचे। यहीं से पुरानी कारें बेचना का बिजनेस शुरू हुआ और आज वो गिल ऑटोमोटिव ग्रुप के सीईओ हैं। उनका सालाना बिजनेस 1600 करोड़ रुपए (25 करोड़ डॉलर) का हो गया है।

 

आगे पढ़ें- लोन लेकर शुरू की कंपनी

ऑटोमोटिव बिजनेस हमेशा जय का पसंदीदा रहा है। उन्होंने 1996 में लोन लेकर अल्फा मोटर्स कंपनी की नींव रखी। सेकंड हैंड कार बेचने का बिजनेस चला और उन्होंने 6 वर्षों में लोन को चुकता कर दिया। 2003 से उनको सालाना 10 लाख डॉलर की कमाई होने लगी। बाद में अल्फा मोटर्स गिल ऑटोमोटिव ग्रुप में तब्दील हो गया।

कंपनी की है 6 डीलरशिप

आज जय गिल की कंपनी के 6 डीलरशिप हैं और उनको उम्मीद है कि अगले 6 महीने में इसकी संख्या बढ़कर 8 से 10 हो जाएगी। फिलहाल उनकी कंपनी में 300 लोग काम करते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट