Home » Market » Stocksरुचि सोया- पतंजलि से जुड़ी इस कंपनी की दौलत एक दिन में 90 करोड़ घटी, जानिए क्या है वजह

पतंजलि से जुड़ी इस कंपनी की दौलत एक दिन में 90 करोड़ घटी, जानिए क्या है वजह

स्टॉक में भारी गिरावट एक दिन में कंपनी की दौलत करीब 90 करोड़ रुपए घट गई।

1 of

नई दिल्ली. पतंजलि आयुर्वेद के साथ डिस्ट्रिब्यूशन पार्टनरशिप करने वाली कंपनी रुचि सोया इंडस्ट्रीज को तगड़ा झटका लगा है। एक दिन में कंपनी को करोड़ों रुपए का नुकसान हो गया। दरअसल, आईडीबीआई बैंक ने गुरुवार को रुचि सोया इंडस्ट्रीज को विलफुल डिफॉल्टर घोषित कर दिया है। विलफुल डिफॉल्टर घोषित किए जाने की खबर से स्टॉक में तेज गिरावट आई और स्टॉक 16 फीसदी तक टूट गया। स्टॉक में भारी गिरावट से एक दिन में कंपनी की दौलत करीब 90 करोड़ रुपए घट गई।


पतंजलि के खाद्य तेल बेचने का करार

रुचि सोया इंडस्ट्रीज ने योग गुरु बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद के साथ एक करार किया है। इस करार के मुताबिक, रुचि सोया इंडस्ट्रीज लार्ज पैक्स में पतंजलि के खाद्य तेल को बेचेगी और डिस्ट्रिब्यूशन की व्यवस्था भी करेगी। कंपनी अपने डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क के जरिए लार्ज पैक्स में पतंजलि के खाद्य तेल की बिक्री करेगी। पतंजलि के साथ यह करार तीन सालों के लिए किया है।

 

12,232 करोड़ का है कर्ज

साल 2016-17 के वित्तीय आंकड़ों के मुताबिक, कंपनी पर 12,232.22 करोड़ रुपए का कर्ज था, जो कंपनी की कुल शेयर कैपिटल से करीब 12 गुना ज्यादा है। रुचि सोया इंडस्ट्रीज के लेनदार डीसीबी बैंक और स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक ने कंपनी के खिलाफ इन्सॉल्वेंसी कार्यवाही शुरू करने के लिए कानून ट्रिब्यूनल, एनसीएलटी के साथ आवेदन दायर किया था। 

 

दूसरे क्वार्टर में भी हुआ घाटा

20 सितंबर 2017 को समाप्त हुए दूसरे क्वार्टर में रुचि सोया इंडस्ट्रीज को 288.82 करोड़ रुए का घाटा हुआ। वहीं जून क्वार्टर में कंपनी 286.24 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। 

 

आगे पढ़ें- कितना घटा कंपनी का मार्केट कैप

90 करोड़ रुपए तक घटा मार्केट कैप

 

विलफुल डिफॉल्टर घोषित किए जाने से गुरुवार को रुचि सोया इंडस्ट्रीज का स्टॉक 16 फीसदी तक टूट गया। स्टॉक्स में भारी गिरावट से कंपनी का मार्केट कैप 86.86 करोड़ रुपए घट गया। बुधवार के बंद भाव पर कंपनी का मार्केट कैप 256.21 करोड़ रुपए था। गुरुवार को कंपनी का मार्केट कप 613 करोड़ रुपए रहा।

 

13 फीसदी गिरकर बंद हुआ स्टॉक

बीएसई पर स्टॉक 13 फीसदी टूटकर 16.25 रुपए के भाव पर बंद हुआ था। कारोबार के दौरान स्टॉक में 16 फीसदी की गिरावट आई और स्टॉक 15.75 रुपए के निचले स्तर पर पहुंच गया।

 

आगे पढ़ें- कर्ज ना चुकाने वाली कंपनियों पर कार्रवाई

आरबीआई ने जून 2017 में बैंकों को 5000 करोड़ रुपए ज्यादा कर्ज वाली कंपनियों की पहचान कर कार्रवाई करने को कहा था। आईरबीआई ने बैंकरों को इस साल अगस्त में कहा था कि अगर 13 दिसंबर तक ऐसे मामलों का समाधान नहीं निकले तो, वे इन्हें एनसीएलटी के पास भेज दें। इन 28 एनपीए खातों के तहत बैंकों का 1.4 लाख करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है। ये एनपीए खाते केंद्रीय बैंक की दूसरी सूची में शामिल हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट