बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksउत्पादन में गिरावट से चाय में उबाल, 11 महीने में 200% तक बढ़े स्टॉक्स

उत्पादन में गिरावट से चाय में उबाल, 11 महीने में 200% तक बढ़े स्टॉक्स

साल के पहले 11 महीने में चाय कंपनियों के स्टॉक्स में 200 फीसदी तक की तेजी आई है।

1 of

नई दिल्ली. ग्लोबल स्तर पर चाय उत्पादन में गिरावट का फायदा चाय कंपनियों को मिला है। डिमांड और सप्लाई में अंतर से साल 2017 में नॉर्थ इंडिया में चाय की ऑक्शन प्राइस में 1.73 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। ऑक्शन प्राइस में बढ़ोतरी से कंपनियों के मार्जिन में सुधार आया है जिससे साल के पहले 11 महीने में इनके स्टॉक्स में 200 फीसदी तक का रिटर्न मिला है।

 


केन्या में 41 फीसदी घटा चाय का उत्पादन

ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन का कहना है कि इस साल केन्या में चाय की फसलें बर्बाद हुई हैं। भारी बारिश की वजह से चाय उत्पादन में गिरावट का अनुमान है। ग्लोबली चाय उत्पादन में केन्या की भागीदारी 16 फीसदी है। केन्या में उत्पादन में कमी का असर ग्लोबल लेवल पर डिमांड-सप्लाई पर पड़ा है। अफ्रीका टी ब्रोकर्स लिमिटेड डाटा के अनुसार, अक्टूबर तक केन्या में चाय का उत्पादन 41.02 फीसदी घटकर 346.98 मिलियन किग्रा रहा है।

 


असम में 27 फीसदी गिरा प्रोडक्शन

बेमौसम बारिश से सितंबर महीने में असम में चाय का उत्पादन 27 फीसदी गिरा है। देश में कुल चाय उत्पादन का 50 फीसदी उत्पादन असम में होता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बेमौसम बारिश से इस साल उत्पादन घटकर 81.75 मिलियन किग्रा रहा। वहीं इस दौरान पश्चिम बंगाल के दुआरस रिजन में चाय उत्पादन 19 फीसदी गिरकर 43 मिलियन किग्रा रहा है। उत्तर भारत में उत्पादन में गिरावट से सप्लाई में कमी आई है। इससे चाय के दाम बढ़े हैं।

 


5 रुपए प्रति किग्रा बढ़ी कीमत

एसएमसी इन्वेस्टमेंट्स एंड एडवाइजर्स लिमिटेड के रिसर्च हेड सचिन सर्वदे का कहना है कि हाल ही में चाय की कीमतों में 5 रुपए प्रति किग्रा की बढ़ोतरी हुई है। जिससे बीते हफ्ते के कारोबार में चाय कंपनियों के स्टॉक्स में तेजी देखने को मिली थी।

 


टी ऑक्शन प्राइस में बढ़ोतरी

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर के मुताबिक, टी ऑक्शन प्राइस में बढ़ोतरी का फायदा कंपनियों को मिला है। इस साल चाय की नीलामी पिछले साल प्राइस की तुलना में ज्यादा कीमत में हुई है। कीमत बढ़ने से कंपनी को मार्जिन सुधारने मदद मिली है। वहीं दूसरे क्वार्टर में चाय कंपनियों के नतीजे आए हैं।
इंडियन टी एसोसिएशन डाटा के अनुसार, जनवरी से अक्टूबर के दौरान नॉर्थ इंडिया में टी ऑक्शन प्राइस में 1.73 फीसदी की बढ़त हुई है।


आगे पढ़ें- 11 महीने में 200% तक बढ़े चाय स्टॉक्स

बॉम्बे बरमाह

वाडिया ग्रुप की कंपनी बॉम्बे बरमाह साल 1913 से चाय कारोबार कर रही है। आज इस कंपनी का साउथ इंडिया के 2,822 हेक्‍टेयर हिल्‍स में चाय बगान है। कंपनी हर साल 80 लाख किलोग्राम चाय प्रोड्यूस करती है। बॉम्बे बरमाह का तमिलनाडु के कोयम्बटूर जिले में अनमाललाई पहाड़ियों पर पहला बगान बना। टी कंपनी बॉम्बे बरमाह के शेयरों में साल 2017 में 200 फीसदी तक उछाल आया है। 30 दिसंबर 2016 को स्टॉक की कीमत 515 रुपए थी, जो 195.96 फीसदी बढ़कर 30 नवंबर 2017 को 1524.20 रुपए हो गई। सितंबर क्वार्टर में कंपनी का नेट प्रॉफिट 10.53 फीसदी बढ़कर 11.02 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल समान अवधि में कंपनी का प्रॉफिट 9.97 करोड़ रुपए था।


टाटा ग्लोबल बेवरेजेस

टाटा ग्रुप की सब्‍सिडरी कंपनी टाटा ग्लोबल बेवरेजेस दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी चाय मैन्‍युफैक्‍चरर और डिस्‍ट्रीब्‍यूटर है। साल 2017 में नवंबर महीने तक स्टॉक्स में 135 फीसदी की बढ़त आई है। 30 दिसंबर 2016 को स्टॉक का भाव 122 रुपए था। वहीं 30 नवंबर 2017 को स्टॉक 286.90 रुपए पर बंद हुआ। सितंबर क्वार्टर में कंपनी का कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट 10.65 फीसदी बढ़कर 154.49 करोड़ रुपए रहा। कंपनी का रेवेन्यू 4.34 फीसदी बढ़कर 1692.14 करोड़ रुपए रहा।

 

गुडरिक ग्रुप

गुडरिक ग्रुप भारत के चाय प्रोड्यूस करने वाली प्रमुख कंपनियों में शामिल है। कंपनी का हेडक्‍वार्टर वेस्‍ट बंगाल में है। यह ब्रिटेन की प्राइवेट चाय कंपनी कैमेलिये पीएलसी यूके की पार्टनर भी है। इस ग्रुप में 30 गार्डन और 27 चाय फैक्‍ट्रीज हैं। सितंबर क्वार्टर में कंपनी का प्रॉफिट 13.34 फीसदी बढ़कर 55.12 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल समान अवधि में कंपनी का प्रॉफिट 48.63 करोड़ रुपए था। 30 दिसंबर 2016 को स्टॉक 214.80 रुपए पर बंद हुआ था। वहीं 30 नवंबर 2017 को स्टॉक का भाव 510.5 रुपए था। इस तरह 11 महीने में स्टॉक्स में 137 फीसदी की तेजी रही।


मैकलॉयड रसेल इंडिया

यह दुनिया की सबसे तेजी से ग्रोथ करने वाली कंपनियों में शामिल है। इस कंपनी ने भारत में साल 1869 से चाय प्‍लांटिंग करना शुरू किया।  इस कंपनी के बगान मुख्‍य रूप से असम में है। साल 2017 के 11 महीने में कंपनी के स्टॉक में 68 फीसदी की बढ़ोतरी रही। 30 दिसंबर 2016 को स्टॉक 139.45 रुपए पर बंद हुआ था। वहीं 30 नवंबर 2017 को स्टॉक 234.60 रुपए पर बंद हुआ। इस तरह स्टॉक में 68 फीसदी की तेजी रही। सितंबर क्वार्टर में कंपनी का नेट प्रॉफिट 8.66 फीसदी बढ़कर 143.52 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल समान क्वार्टर में कंपनी का प्रॉफिट 132.08 करोड़ रुपए था।

 

(नोट- यहां दी गई सभी सलाह टॉप ब्रोकरेज हाउस के द्वारा जारी रिपोर्ट और मार्केट एक्सपर्ट्स की सलाह के आधार पर हैं। हर स्टॉक से जुड़े अपने जोखिम होते है, इसलिए सलाह है कि अपने स्तर पर जांच या अपने एक्सपर्ट की सलाह के बाद ही निवेश का फैसला लें।)

 

(नोट- यह निवेश की सलाह नहीं है। यहां स्टॉक्स का परफॉर्मेंस दिया गया है। हर स्टॉक से जुड़े अपने जोखिम होते है, इसलिए सलाह है कि अपने स्तर पर जांच या अपने एक्सपर्ट की सलाह के बाद ही निवेश का फैसला लें।)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट