Home » Market » Stocksthese stocks will get benefits from normal monsoon forecast

सामान्य मानसून के अनुमानों से इन स्टॉक्स को मिलेगा बूस्ट, ऐसे बनाएं स्ट्रैटजी

स्काईमेट की तरफ से सामान्‍य मानूसन के अनुमान ने शेयर बाजार में और तेजी की उम्‍मीद जगा दी है।

1 of

 

नई दिल्ली.  स्टॉक मार्केट में फिलहाल उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। डोमेस्टिक फैक्टर्स की तुलना में ग्लोबल फैक्टर्स का मार्केट पर ज्यादा असर है। स्काईमेट की तरफ से सामान्‍य मानूसन के अनुमान ने मार्केट में और तेजी की उम्‍मीद जगी है। एक्सपर्ट्स ने कहा कि अच्‍छे मानसून से रूरल सेक्टर में पर्चेजिंग पावर बढ़ती है, जिससे कंपनियों का मुनाफा बढ़ता है। ऐसे में शेयर बाजार पर पॉजिटिव असर दिखेगा।

 

100 फीसदी मानसून का अनुमान

मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट ने इस साल देश में सामान्य मानसून रहने का अनुमान जताया है। इस साल सूखा पड़ने की आशंका नहीं है। एजेंसी का कहना है कि इस साल जून-सितंबर के बीच 100 फीसदी मानसून का अनुमान है। पूरे सीजन के लिए 96 से 104 फीसदी बारिश होने की संभावना 55 फीसदी है। रिपोर्ट के अनुसार पूरे सीजन में भारी बारिश की संभावना 5 फीसदी है। वहीं, सामान्य से ज्यादा बारिश की संभावना 20 फीसदी है। वहीं, इस साल सामान्य से कम बारिश की भी संभावना 20 फीसदी है।

 

मार्केट के लिए क्यों अहम ट्रिगर है मानसून

इंडेक्स जीन्यस इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स के डायरेक्टर अमीत हरचेकर के मुताबिक, मानसून का असर दो तरह से देखने को मिलता है। पहला असर बारिश के बेहतर अनुमान के साथ देखने को मिलता है। अच्छी बारिश की उम्मीद से किसान उपज की तैयारी में जुट जाते हैं। बुवाई की तैयारी के साथ बीज, फर्टिलाइजर, कृषि के उपकरण, पंप सिस्टम तक की मांग बढ़ती है। 

दूसरा असर तब देखने को मिलता है जब अच्छे मानसून की वजह से बेहतर उपज के संकेत मिलने लगते हैं। ग्रामीण इलाकों की आय बढ़ने की उम्मीद से इकोनॉमी के बड़े हिस्से को फायदा मिलता है। इसमें टू-व्हीलर, एफएमसीजी सेक्टर को फायदा मिलता है। यानी मॉनसून के अच्छे अनुमान के साथ अगर बारिश भी बेहतर होती है तो एक साथ कई सेक्टर को फायदा मिलना तय है।

 

इन सेक्टर्स को होगा फायदा

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटजिस्ट गौरांग शाह का कहना है कि इस साल भी देश में मानसून का सामान्य रहना अच्छी बात है। अगर अल-नीनो का खतरा नहीं रहता है तो इससे ग्रामीण सेक्टर को फायदा होगा। वहीं सैमको सिक्युरिटीज के हेड ऑफ रिसर्च उमेश मेहता ने कहा कि मानसून के अच्छे अनुमानों के साथ अगर बारिश भी बेहतर होती है तो एक साथ कई सेक्टर को फायदा मिलना तय है। एग्री कारोबार से जुड़ी कंपनियों, फर्टिलाइजर, पेस्टीसाइड्स सेक्टर को फायदा होगा।

 

आगे पढ़ें- इन स्टॉक्स में कर सकते हैं निवेश

यूपीएल

गौरांग शाह ने मानसून के अनुमानों के बाद एग्रोकेमिकल्स मैन्युफैक्चरर यूपीएल में 888 रुपए टारगेट दिया है। यूपीएल एग्रोकेमिकल्स की अग्रणी कंपनी है। कंपनी को अच्छे मानसून से बुआई शुरू होने के बाद केमिकल्स की मांग बढ़ने का फायदा मिलेगा। करंट प्राइस से स्टॉक्स में 20 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। 4 अप्रैल को स्टॉक 731.45 रुपए के भाव पर बंद हुआ।

 

हीरो मोटोकॉर्प

हरचेकर ने टू-व्हीलर कंपनी हीरो मोटोकॉर्प में निवेश की सलाह दी है। आय बढ़ने से ग्रामीण इलाकों में टू-व्हीलर्स की मांग बढ़ जाती है, इसलिए हीरो मोटोकॉर्प में निवेश से फायदा हो सकता है। उन्होंने करंट प्राइस से 15 फीसदी ग्रोथ के साथ 4220 का टारगेट दिया है। 4 अप्रैल को स्टॉक 3369.95 रुपए के भाव पर बंद हुआ।

 

एस्कॉर्ट्स लिमिटेड

एस्कॉर्ट्स लिमिटेड कमर्शियल व्हीकल बनाने वाली कंपनी वाली कंपनी है। सामान्य बारिश से खेतों की जुताई के लिए टैक्टर्स की मांग में इजाफा होगा। गौरांग ने स्टॉक में करंट प्राइस से 20 फीसदी ग्रोथ के साथ 1045 रुपए का टारगेट दिया है। 4 अप्रैल को स्टॉक 871.35 रुपए के भाव पर बंद हुआ।

 

एशियन पेंट्स

अमीत हरचेकर ने पेंट स्टॉक एशियन पेंट्स में निवेश की सलाह दी है। उनका कहना है कि अच्छे मानसून से रूरल अर्निंग बढ़ेगी। अर्निंग बढ़ने से रूरल स्पेंडिंग बढ़ेगी जिसका फायदा एशियन पेंट्स को मिलेगा। उन्होंने स्टॉक में करंट प्राइस से 20 फीसदी ग्रोथ की उम्मीद से 1365 रुपए का टारगेट दिया है। 4 अप्रैल को स्टॉक 1137.60 रुपए के भाव पर बंद हुआ।

 

(नोट- यहां दी गई सभी सलाह एक्सपर्ट्स और ब्रोकरेज हाउस के द्वारा जारी रिपोर्ट के आधार पर हैं। मनी भास्कर की टीम ने आपकी सुविधा के लिए इन सभी रिपोर्ट्स को स्टॉक्स के आधार पर अलग-अलग किया है। हर स्टॉक से जुड़े अपने जोखिम होते है, इसलिए सलाह है कि अपने स्तर पर जांच या अपने एक्सपर्ट की सलाह के बाद ही निवेश का फैसला लें।)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट