Home » Market » StocksStocks gain over 100 pc despite slowdown in market

उधर डूब रही थी अंबानी-टाटा की दौलत, इन 5 कंपनियों ने दोगुना कर लिया पैसा

एक महीने में 100 फीसदी से ज्यादा चढ़े कंपनियों के शेयर।

1 of

नई दिल्ली. शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला जारी है। 26 सितंबर से सेंसेक्स करीब 3193 अंक और निफ्टी करीब 948 अंक टूट चुका है। बाजार में गिरावट से एक ओर जहां मुकेश अंबानी और टाटा ग्रुप की कंपनियों को झटका लगा है। वहीं इस गिरावट के दौर में भी कुछ कंपनियों की दौलत दोगुनी हो गई है। यानी उनकी दौलत 100 फीसदी से ज्यादा बढ़ी है। 

 

बाजार में गिरावट की वजह

मार्केट एक्सपर्ट के अनुसार ग्लोबल सेल ऑफ, जियोपॉलिटिकल टेंशन के साथ घरेलू स्तर पर IL&FS क्राइसिस से फाइनेंशियल शेयरों में गिरावट, रुपए में कमजोरी और क्रूड में तेजी जैसे फैक्टर्स बाजार में गिरावट की वजह रहे हैं।
एक्सपर्ट्स आगे भी बाजार में उतार-चढ़ाव की आशंका से इनकार नहीं कर रहे हैं। उनका कहना है कि मार्केट आउटलुक को लेकर नियरटर्म में आशंका है।


1 महीने में 30% तक टूटे अंबानी-टाटा के शेयर

बाजार में कमजोरी की वजह से पिछले एक महीने में अंबानी और टाटा ग्रुप की कंपनियों के शेयर 30 फीसदी तक टूटे हैं। जहां टाटा मोटर्स 30.32 फीसदी और टीसीएस 17.74 फीसदी टूटा है। वहीं मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर इस दौरान 15.29 फीसदी गिरा है। हालांकि इस दौरान कुछ कंपनियां ऐसी भी हैं, जिनके शेयर 100 फीसदी से ज्यादा बढ़े हैं।

 

 

आगे पढ़ें-किन कंपनियों की दौलत हुई दोगुनी

 

यह भी पढ़ें, Amazon को पीछे छोड़ Microsoft बनी दुनिया की दूसरी बड़ी कंपनी, स्टॉक में गिरावट से झटका

इन कंपनियों की दौलत दोगुनी हुई

 

पिछले एक महीने में बाजार में उतार-चढ़ाव के बीच स्पोर्टकिंग इंडिया, कोस्टल कॉरपोरेशन, पुष्पांजलि फ्लोरिकल्चर, गायेकवार मिल्स, पीईएल इंफोटेक के शेयर 100 फीसदी बढ़े हैं। स्पोर्टकिंग का शेयर बीते एक महीने में 109 फीसदी बढ़ा है। वहीं कोस्टल कॉरपोरेशन में 108  फीसदी, पुष्पांजलि फ्लोरिकल्चर में 101 फीसदी, गायेकवार मिल्स में 95 फीसदी, , पीईएल इंफोटेक में 91 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है। यानी इन 5 कंपनियों ने इस दौरान अपना पैसा दोगुना कर लिया।

 

आगे पढ़ें, दिवाली मार्केट में ला सकती है रौनक 

अक्टूबर में बाजार में होती है गिरावट

 

सैमको सिक्युरिटीज के फाउंडर और सीईओ जिमीत मोदी का कहना है कि लोकल और इंटरनेशनल लेवल पर अक्टूबर महीने में शेयर बाजार का परफॉर्मेंस खराब रहा है। ऐसा पहली बार नहीं है कि अक्टूबर में शेयर बाजार में गिरावट रही है। इससे पहले अक्टूबर 2008, अक्टूबर 1987 और अक्टूबर 1929 में भारत समेत दुनिया भर के शेयर बाजार क्रैश हुआ है। 
उन्होंने कहा अक्टूबर महीना खत्म होने वाला है और नवंबर में दिवाली मार्केट में रौनक ला सकती है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट