बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksPNB फ्रॉड समेत ये 5 फैक्टर्स बाजार पर रहेंगे हावी, निवेशक रहें सतर्क

PNB फ्रॉड समेत ये 5 फैक्टर्स बाजार पर रहेंगे हावी, निवेशक रहें सतर्क

एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस हफ्ते भी बाजार का ट्रेंड डाउन रहेगा।

1 of

नई दिल्ली.  बजट के बाद से स्टॉक मार्केट में जारी गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही है। बीते हफ्ते चार ट्रेडिंग सेशन में दो में तेजी और दो में गिरावट दर्ज की गई। ग्लोबल मार्केट में तेजी के बावजूद भारतीय शेयर बाजार पर दबाव है। पीएनबी में हुए 11,356 करोड़ रुपए के फ्रॉड और एनपीए पर आरबीआई की सख्त से बैंकिंग शेयरों में बिकावली का असर बाजार पर देखने को मिला। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस हफ्ते भी बाजार का ट्रेंड डाउन रहेगा। निफ्टी में 10,200 का सपोर्ट लेवल है। इस लेवल के टूटने पर यह 10 हजार के लेवल पर आ सकता है।

 

क्यों कमजोर हुआ बाजार

बीते सप्ताह भारतीय शेयर बाजार में सपाट कारोबार देखा गया। इस दौरान सेंसेक्स 34,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर बंद हुआ। पीएनबी घोटाले के उजागर होने के कारण पूरा बैंकिंग सेक्टर दबाव में आ गया। जिससे बाजार में कमजोरी रही।

 

इस हफ्ते ट्रेंड रहेगा डाउन

- SMC इंस्टीट्यूशनल इक्विटी के टेक्निकल एनालिस्ट सचिन सर्वदे का कहना है कि इस हफ्ते भी बैंकिंग शेयरों पर दबाव रहेगा। पीएनबी फ्रॉड में रोजाना नए-नए खुलासे हो रहे हैं। इससे निवेशकों का सेंटीमेंट्स बिगड़ा है। इसलिए बाजार पर प्रेशर रहेगा।
- ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन के मुताबिक, बैंकों में फ्रॉड उजागर होने से बाजार असर हुआ है। फिलहाल मार्केट में नीचे की ओर से 10,150-10,200 का सपोर्ट है जो अभी तक टूटा नहीं है। इस लेवल के टूटने पर निफ्टी 10,000 के लेवल तक जा सकता है।

 

ये फैक्टर्स रहेंगे हावी

 

पीएनबी और बैंकिंग शेयर्स पर नजर

मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस हफ्ते भी पीएनबी फ्रॉड के कारण निवेशकों का सेंटीमेंट्स बिगड़ा रहेगा। बता दें कि पंजाब नेशनल बैंक ने बुधवार को स्‍टॉक एक्‍सचेंज बीएसई को बताया था कि उसने करीब 11,356 करोड़ रुपए का संदिग्‍ध ट्रांजैक्‍शन पकड़ा है। इस खबर से चार ट्रेडिंग सेशन में पीएनबी का स्टॉक 25 फीसदी तक टूट चुका है। सचिन सर्वदे का कहना है कि इस हफ्ते बैंकिंग शेयरों पर दबाव रहेगी। बैंक निफ्टी इंडेक्स अगर 25,000 के नीचे गिरता है तो वह 24000 या फिर 24500 के स्तर तक टूट सकता है।

 

फेडरल रिजर्व की बैठक के नतीजे

21 फरवरी यानी बुधवार को अमेरिकी फेडरल रिजर्व की मॉनिटरी पॉलिसी रिव्यू है और निवेशकों की नजर उस पर भी बनी रहेगी। पिछली बैठक में फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया था। अमेरिका में इस साल महंगाई दर बढ़ने की उम्मीद है। वहीं जनवरी में यूएस कंज्यूमर प्राइस उम्मीद से ज्यादा बढ़ी है। पिछले महीने कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स 0.5 फीसदी बढ़ा है जोकि दिसंबर में 0.2 फीसदी पर था।

 

एफएंडओ की एक्सपायरी

इस हफ्ते गुरूवार को एफएंडओ सेग्मेंट की एक्सपायरी है। एक्सपायरी के चलते बाजार में वोलैटिलिटी देखने को मिल सकती है। सचिन सर्वदे के मुताबिक, एक्सपायरी 10500 के नीचे हो सकती है।

 

क्रूड प्राइस मूवमेंट

इस हफ्ते क्रूड ऑयल की कीमतों में उतार-चढाव पर भी बाजार की नजर रहेगी। शुक्रवार को क्रूड की कीमतें 8 दिनों के हाई 64.84 प्रति बैरल पर पहुंच गई है। 

 

एफपीआई फ्लो पर नजर

फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (एफपीआई) ने फरवरी महीने में अभी तक भारतीय शेयर बाजार से 6,850 करोड़ रुपए (100 करोड़ डॉलर) की निकासी की है। एफपीआई की ओर से की गई निकासी की वजह ग्लोबल सेल ऑफ रही। डाटा के मुताबिक, जनवरी महीने में एफपीआई ने शेयर बाजार में 13,780 करोड़ रुपए निवेश किए थे।

 

आगे पढ़ें- निवेशक रहें सतर्क

सेल ऑन राइज की स्ट्रैटजी अपनाएं

 

सचिन सर्वदे का कहना है कि फिलहाल बाजार का ट्रेंड डाउन है। इसलिए निवेशकों को सतर्क रहने की सलाह है। बाजार में बाउंस भी देखने को मिल सकता है। ऐसे में निवेशकों को सेल ऑन राइज की स्ट्रैटजी अपनानी चाहिए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट