विज्ञापन
Home » Market » StocksTata Motors shares crack 29.5% on biggest quarterly loss

Tata Motors का शेयर 29.5% तक टूटा, Q3 में 26960 करोड़ रु के लॉस से लगा झटका

बीएसई और एनएसई पर 52 हफ्ते के लो पर पहुंचा शेयर

Tata Motors shares crack 29.5% on biggest quarterly loss

नई दिल्ली. टाटा मोटर्स (Tata Motors) को दिसंबर, 2018 में समाप्त तिमाही में 26,960.80 करोड़ रुपए के घाटे के चलते कंपनी के शेयर को तगड़ा झटका लगा है। शुक्रवार को कंपनी का शेयर 29.50 फीसदी तक टूट गया। हालांकि इसमें बाद में रिकवरी देखने को मिली और फिलहाल टाटा मोटर्स (Tata Motors) का शेयर 19 फीसदी कमजोर होकर 149 रुपए पर कारोबार कर रहा है।
 

52 हफ्ते के लो पर पहुंचा शेयर

बीएसई (BSE) पर ऑटो कंपनी का शेयर 22.41 फीसदी टूटकर 141.90 रुपए के स्तर पर आ गया, जो उसका 52 हफ्ते का लो था। वहीं एनएसई (NSE) पर गिरावट और भी तगड़ी रही, जहां टाटा मोटर्स का शेयर 29.45 फीसदी गिरकर 129 रुपए का रह गया था। शुरुआती कारोबार में गिरावट के चलते बीएसई पर कंपनी की मार्केट वैल्यू 9,801.94 करोड़ रुपए गिरकर 43 हजार करोड़ रुपए रह गई।

 

टाटा मोटर्स को 26,960 करोड़ का हुआ नुकसान

दिसंबर, 2018 में समाप्त तिमाही के दौरान टाटा मोटर्स (Tata Motors) को 26,960.80 करोड़ रुपए का भारी भरकम नुकसान हुआ, जबकि एक साल पहले समान अवधि में कंपनी को 1,214.60 करोड़ रुपए का नेट प्रॉफिट हुआ था। एक दिन पहले जारी नतीजों के मुताबिक, कंपनी को उसकी लग्जरी कार यूनिट जगुआर लैंड रोवर (Jaguar Land Rover) की वजह से तगड़ा झटका लगा है, क्योंकि जेएलआर को ग्लोबल मार्केट में लगातार मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

 

जेएलआर यूनिट में 27838 करोड़ रु का नुकसान

कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग के माध्यम से बताया कि उसे अपनी ब्रिटिश आर्म जेएलआर (JLR) में हुए 27,838 करोड़ रुपए (3.1 अरब पाउंड) के नुकसान से सबसे तगड़ा झटका लगा है। हालांकि वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही के दौरान कंपनी की कुल इनकम 4.36 फीसदी बढ़कर 77,582.71 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गई। 

 

स्टैंडअलोन बेसिस पर 617 करोड़ रु का प्रॉफिट

स्टैंडअलोन बेसिस पर देखें तो कंपनी ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के दौरान 617.62 करोड़ रुपए का प्रॉफिट दर्ज किया, जबकि एक साल पहले समान अवधि में यह आंकड़ा 211.59 करोड़ रुपए रहा था। टाटा मोटर्स की स्टैंडअलोन इनकम बढ़कर 16,477.07 करोड़ रुपए हो गई, जबकि एक साल पहले समान अवधि में यह आंकड़ा 16,186.15 करोड़ रुपए रहा था। हालांकि जेएलआर का रेवेन्यू 1 फीसदी घटकर 6.2 अरब डॉलर रह गया।

 

मजबूत बना हुआ है घरेलू बिजनेसः चंद्रशेखरन

टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन (N Chandrasekaran) ने कहा कि कंपनी का घरेलू बिजनेस लगातार मजबूत बना हुआ है और प्रॉफिट में ग्रोथ के साथ मार्केट शेयर भी बढ़ रहा है। उन्होंने कहा, ‘टर्नअराउंड 2.0 स्ट्रैटजी सही दिशा में काम कर रही है और कंपनी लगातार प्रोडक्ट लॉन्च पर काम कर रही है। ऐसा टिकाऊ ग्रोथ के लिए जरूरी है।’


 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन