बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksअजीम प्रेमजी के छोटे बेटे की विप्रो एंटरप्राइजेज के बोर्ड में एंट्री, बने नॉन एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर

अजीम प्रेमजी के छोटे बेटे की विप्रो एंटरप्राइजेज के बोर्ड में एंट्री, बने नॉन एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर

विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी के छोटे बेटे तारिक प्रेमजी को विप्रो एंटरप्राइजेज के बोर्ड में एंट्री हो गई है।

Tariq Premji joins board of Wipro Enterprises

 

नई दिल्ली. देश के टॉप अमीरों में शामिल विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी के छोटे बेटे तारिक प्रेमजी को विप्रो एंटरप्राइजेज के बोर्ड में जगह दी गई है। तारिक को अनलिस्टेड कंपनी विप्रो एंटरप्राइजेज के बोर्ड में नॉन एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर के तौर पर जगह दी है। उनके पिता और भाई रिशद प्रेमजी पहले से कंपनी के बोर्ड में शामिल हैं।

 

 

तारिक प्रेमजी को मिली बोर्ड में जगह

विप्रो एंटरप्राइजेज ने एक स्टेटमेंट में कहा, ‘विप्रो एंटरप्राइजेज (प्रा.) लिमिटेड ने तारिक प्रेमजी को कंपनी के बोर्ड में नॉन एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर के तौर पर जगह दी है।’ कंपनी ने कहा, ‘उनके स्वतंत्र विचारों से बोर्ड की चर्चाओं को नए मूल्य मिलेंगे।’ विप्रो एंटरप्राइजेज में दो प्रमुख बिजनेस विप्रो कंज्यूमर केयर और विप्रो इन्फ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग शामिल हैं।

 

ये हैं मुख्य बिजनेस

विप्रो कंज्यूमर केयर मुख्य रूप से पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स, लाइटिंग सॉल्युशंस और ऑफिस फर्नीचर के बिजनेस में हैं। वहीं विप्रो इन्फ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग एअरोस्पेस एंड डिफेंस के लिए हाइड्रॉलिक सॉल्युशंस की व्यापक रेंज के साथ ही इंडस्ट्रियल एप्लीकेशंस के लिए वाटर व वेस्टवाटर ट्रीटमेंट में एंड टू एंड सॉल्यूशंस उपलब्ध कराती है।

विप्रो एंटरप्राइजेज के बोर्ड के प्रमुख अजीम प्रेमजी हैं। दूसरे बोर्ड मेंबर्स में सुरेश सी सेनापति, विनीत अग्रवाल, प्रतीक कुमार शामिल हैं। विनीत अग्रवाल कंज्यूमर केयर एंड लाइटिंग के सीईओ और विप्रो एंटरप्राइजेज के डायरेक्टर हैं। वहीं प्रतीक कुमार विप्रो इन्फ्रास्ट्रक्चर इंजीनियरिंग के सीईओ और विप्रो एंटरप्राइजेज में एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर हैं।

तारिक के भाई रिशद प्रेमजी भी नॉन एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर के तौर पर कंपनी के बोर्ड में शामिल हैं। रिशद प्रेमजी विप्रो के चीफ स्ट्रैटजी ऑफिसर और बोर्ड मेंबर भी हैं।

 

ऐसा रहा है प्रदर्शन

वित्त वर्ष 2016-17 में विप्रो एंटरप्राइजेज ने 34 फीसदी बढ़ोत्तरी के साथ 949.3 करोड़ रुपए का प्रॉफिट दर्ज किया था, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में कंपनी का प्रॉफिट 710.5 करोड़ रुपए रहा था।

वहीं 2016-17 कंपनी की कुल बिक्री 10 फीसदी बढ़कर 8,248 करोड़ रुपए रही, जबकि इससे पिछले साल सेल्स 7,477 करोड़ रुपए रही थी। विप्रो एंटरप्राइजेज में प्रमोटर और प्रमोटर ग्रुप की शेयरहोल्डिंग 98.45 फीसदी है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट