विज्ञापन
Home » Market » StocksSC warns Singh brothers to be jailed if guilty of contempt

सिंह ब्रदर्स के जवाब से SC असंतुष्ट, कहा-अवमानना के मामले में भेज देंगे जेल

Supreme Court ने दाइची सैंक्यो को 4,000 करोड़ रु पेमेंट के मामले में सिंह ब्रदर्स के खिलाफ असंतोष जाहिर किया है।

SC warns Singh brothers to be jailed if guilty of contempt

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने दाइची सैंक्यो को 4,000 करोड़ रुपए के पेमेंट के मामले में रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर्स मलविंदर सिंह (Malvinder Singh) और शिविंदर सिंह (Shivinder Singh) के जवाब पर असंतोष जाहिर किया है। साथ ही अवमानना के मामले में दोषी पाए जाने पर सिंह ब्रदर्स को जेल भेजने की चेतावनी दी है।

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने दाइची सैंक्यो को 4,000 करोड़ रुपए के पेमेंट के मामले में रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर्स मलविंदर सिंह (Malvinder Singh) और शिविंदर सिंह (Shivinder Singh) के जवाब पर असंतोष जाहिर किया है। साथ ही अवमानना के मामले में दोषी पाए जाने पर सिंह ब्रदर्स को जेल भेजने की चेतावनी दी है। गौरतलब है कि सिंगापुर ट्रिब्यूनल ने सिंह ब्रदर्स को दाइची सैंक्यो को 4 हजार करोड़ रुपए का मुआवजा देने का आदेश दिया था और सुप्रीम कोर्ट ने उनसे इस पेमेंट के लिए ठोस प्लान पेश करने के लिए कहा था।

 

11 अप्रैल को होगी अवमानना केस की सुनवाई

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुआई वाली एक बेंच ने कहा कि अब उसके द्वारा सीधे सिंह ब्रदर्स के खिलाफ जापानी कंपनी दाइची सैंक्यो को भुगतान के सिंगापुर कोर्ट के फैसले की अवमानना के मामले की सुनवाई की जाएगी। इस बेंच में जस्टिस दीपक गुप्ता और संजीव खन्ना भी शामिल थे। बेंच ने कहा कि रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर्स के खिलाफ अवमानना की सुनवाई 11 अप्रैल को होगी।

 

यह भी पढ़ें-लाखों की जॉब छोड़ दो दोस्तों ने शुरू की कंपनी, अंबानी ने लगा दिए 700 करोड़ 

 

ठोस प्लान पेश नहीं करने का आरोप

बेंच ने कहा, ‘आप आधी दुनिया के मालिक हो सकते हैं, लेकिन अभी तक आपने आर्बिट्रल अमाउंट के भुगतान के लिए कोई ठोस प्लान पेश नहीं किया है। आपने कहा कि आपका किसी व्यक्ति पर 6,000 करोड़ रुपए बकाया है। ऐसी बातों का कोई मतलब नहीं है।’ बता दें कि जापानी कंपनी ने सिंह ब्रदर्स के खिलाफ सिंगापुर ट्रिब्यूनल के उसे 4,000 करोड़ रुपए के भुगतान के आदेश के मामले में अवमानना की याचिका दायर की है।

 

यह भी पढ़ें-अंबानी-मित्तल के बीच छिड़ेगी नई जंग, यहां लगा सकते हैं हजारों करोड़

 

रैनबैक्सी को बेचते समय छिपाई थीं जानकारियां

दायची ने वर्ष 2008 में रैनबैक्सी खरीदी थी। बाद में कंपनी ने सिंगापुर आर्बिट्रेशन में चली गई और आरोप लगाया कि सिंह ब्रदर्स ने उससे कई अहम जानकारियां छिपाई थीं, जिसमें उसके खिलाफ यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन और डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस मेंं लंबित जांच की बात भी शामिल थी।
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Recommendation
विज्ञापन
विज्ञापन