Home » Market » Stockssuccess story of Master of Layer Poultry

नौकरी के दौरान मिला आइडिया, 13 साल में 10 लाख को बना दिया 15 करोड़

10 लाख रुपए लोन लेकर शुरू किया गए इस पॉल्ट्री फॉर्म का सालाना टर्नओवर 15 करोड़ रुपए हो गया है।

1 of

नई दिल्ली.  चाह हो तो राह मिल ही जाती है। ये साबित कर दिखाया है तेलंगाना के डॉ रवींद्र रेड्डी ने। कुछ करने की चाहत रखने वाले रेड्डी ने अपनी अच्छी खासी नौकरी छोड़कर पॉल्ट्री फार्म का बिजनेस शुरू किया। 10 लाख रुपए लोन लेकर उन्होंने पॉल्ट्री फार्म की शुरुआत की जिसका आज सालाना टर्नओवर 15 करोड़ रुपए हो गया है।

 

12 साल का अनुभव आया काम

 

तेलंगाना के 46 वर्षीय डॉ रवींद्र रेड्डी पॉल्ट्री साइंस में डॉक्टरेट हैं। उनके पास पॉल्ट्री सेक्टर में काम करने का 12 साल का अनुभव है। पॉल्ट्री फार्म शुरू करने से पहले वो एक जानी-मानी कंपनी में अच्छी सैलरी पर काम करते थे। लेकिन इस सेक्टर में 12 साल का अनुभव होने की वजह से उन्होंने अपना खुद का बिजनेस शुरू करने का मन बनाया और उन्होंने नौकरी छोड़ दी। नौकरी छोड़ने के बाद उन्होंने एग्री क्लिनिक एंड एग्री बिजनेस सेंटर्स स्कीम से ट्रेनिंग ली और फिर अपने बिजनेस की शुरुआत की। उनकी सफलता की कहानी एग्री क्लिनिक ने अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित की है।

 

आगे भी पढ़ें-

 

यह भी पढ़ें- कभी 8 हजार रु थी सैलरी, एक कोर्स के बाद कमाने लगा 3.5 लाख रु महीना

दो लक्ष्य के साथ पॉल्ट्री सेक्टर में रखा कदम

 

डॉ रेड्डी दो लक्ष्य के साथ पॉल्ट्री सेक्टर में बिजनेस करने उतरे थे। पहला इस सेक्टर में मुझे खुद को सबसे अच्छा साबित करना था। दूसरा पॉल्ट्री फार्मर्स को क्वालिटी सर्विस प्रदान करना था। इन्हीं दो लक्ष्यों के साथ उन्होंने पॉल्ट्री सेक्टर में कदम रखा।

 

2 महीने की ली ट्रेनिंग

एग्रीप्न्योर बनने के लक्ष्य को पूरा करने के वास्ते वो 2004 में एग्री क्लिनिक एंड एग्री बिजनेस सेंटर्स स्कीम द्वारा चलाए जा रहे दो महीने के ट्रेनिंग प्रोग्राम में दाखिला लिया। इस दौरान उन्होंने और विस्तार से बिजनेस की बारीकियों को समझा और बिजनेस मॉड्यूल के बारे में जाना। फिर शुरू हुआ उनका अपना बिजनेस।

 

आगे भी पढ़ें- 

10 लाख लोन लेकर शुरू किया बिजनेस

 

एसीएंडएबीसी से ट्रेनिंग लेने के बाद डॉ रेड्डी ने एक सरकारी बैंक से 10 लाख रुपए का लोन लेकर अपने बिजनेस की शुरुआत की। इस लोन पर उन्हें नाबार्ड से 36 फीसदी सब्सिडी मिली। आज रेड्डी रिसर्च एंड लैब्स (आरआऱ लैब्स) का पॉल्ट्री बिजनेस वेंचर्स में एक नाम है। उनके पास तेलंगाना में 24 एकड़ जमीन है जिसमें रिसर्च लैबोरेट्री और पॉल्ट्री फीड यूनिट है।


15 करोड़ है सालाना टर्नओवर

 

10 लाख रुपए से शुरू किया गया आरआर लैब्स का बिजनेस आज सालाना 15 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है। वो अपने फर्म में 56 लोगों को रोजगार दे रहे हैं। वहीं 30 जिलों में किसानों को सेवाएं दे रहे हैं। इसके अलावा वो असम, उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, मध्य प्रदेश के राज्यों में फर्टाइल एग्स की डिमांड को पूरा कर रहे हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट