Advertisement
Home » मार्केट » स्टॉक्सShort term corrections may appear in the market, support of 10750 in Nifty

कर्नाटक चुनाव: मार्केट में दिख सकता है शॉर्ट टर्म करेक्शन, निफ्टी में 10750 का सपोर्ट

मार्केट को नीचे की ओर से 10,750 के स्तर पर सपोर्ट मिलता दिख रहा है। निफ्टी के इससे नीचे टूटने की आशंका कम है।

1 of

नई दिल्ली.  कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजों का असर मंगलवार को शेयर मार्केट पर दिखा। राज्य में बीजेपी को बहुमत न मिलने पर सेंसेक्स ऊपरी स्तरों से 457 अंक और निफ्टी 121 अंक टूटकर बंद हुए। हालांकि मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना है कि बीजेपी के सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरने से इस तरह के संकेत जा रहे हैं कि पॉलिसी सही दिशा में है और रिफॉर्म हो रहे हैं। उनका कहना है कि राज्य में जब तक तस्वीर साफ नहीं होती, छोटी अवधि के लिए मार्केट का रिएक्शन निगेटिव हो सकता है। हालांकि आगे इससे मार्केट पर ज्यादा असर नहीं होगा। मार्केट को नीचे की ओर से 10,750 के स्तर पर सपोर्ट मिलता दिख रहा है। निफ्टी के इससे नीचे टूटने की आशंका कम है।


मार्केट में बड़े करेक्शन की उम्मीद कम

सैम्को सिक्युरिटीज के फाउंड एंड सीईओ जिमीत मोदी ने कहा कि कर्नाटक के नतीजे से यह साफ हो गया है कि केंद्र सरकार की पॉलिसी सही ट्रैक पर जा रही है और सरकार आम जनता की उम्मीदों खड़ी उतरी है। कर्नाटक में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है जिसे मार्केट नजरअंदाज नहीं करेगा। सरकार किसकी बनेगी यह दूसरी बात है। इसको लेकर मार्केट चिंतित नहीं है। 

Advertisement

 

वहीं आईआईएफएल के हेड ऑफ रिसर्च अभिमन्यु सोफट का कहना है कि कर्नाटक चुनाव में भले ही बीजेपी को बहुमत नहीं मिला है, फिर भी मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर है। दक्षिण भारत में बीजेपी का एकमात्र गढ़ कर्नाटक है। मार्केट इसे पॉजिटिव लेगा। नियर टर्म में मार्केट में किसी बड़े करेक्शन की उम्मीद नहीं है।

 

निफ्टी में 10750 का सपोर्ट

सिमी भौमिक डॉट कॉम की टेक्निकल एनालिस्ट सिमी भौमिक ने कहा कि शुरुआती रुझान में कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनते देख बाजार में तेज उछाल आया था। लेकिन जब बीजेपी बहुमत से दूर होती दिखी तो मार्केट में एक तेज करेक्शन आया। मार्केट ने जो हाई बनाया है, वह अगले कुछ दिनों का हाई बन गया है। हालांकि निफ्टी में 10,750 का सपोर्ट है।

Advertisement

 

एपिक रिसर्च के सीईओ मुस्तफा नदीम के मुताबिक, कर्नाटक चुनाव के नतीजे में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिलने से मार्केट में हिचकिचाहट दिखी, जिससे मार्केट बढ़त गंवाकर बंद हुआ। उन्होंने कहा कि डेली चार्ट पर निफ्टी ग्रेवस्टोन डोजी चार्ट बना है, जिसका मतलब है मार्केट में बिकवाली का दबाव होगा। ऐसे में नीचे की ओर निफ्टी 10690-10720 का लेवल देख सकता है।

 

11 हजार का लेवल छूना मुश्किल

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, फिलहाल निफ्टी का 11 हजार का लेवल छूना मुश्किल दिख रहा है। मोदी का कहना है कि इस वैल्युएशन पर 11 हजार के लेवल तक पहुंचने की संभावना नहीं है क्योंकि नतीजों के बाद मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में तेज करेक्शन देखने को मिला है। इससे पता चलता है कि निफ्टी 11 हजार तक पहुंचने और उस पर बने रहना कितना कठिन है।

Advertisement

हालांकि एक्सपर्ट अभिमन्यु लॉन्ग टर्म में मार्केट को लेकर पॉजिटिव हैं। उनका कहना है कि ग्लोबल स्तर पर क्रूड की कीमतों में तेजी और सरकारी सिक्युरिटीज के बॉन्ड यील्ड्स में बढ़ोतरी मार्केट की तेजी के लिए रोड़ा बना है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss