बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksहसबैंड से मांगा था 17 हजार का उधार, बना दिए 3500 करोड़

हसबैंड से मांगा था 17 हजार का उधार, बना दिए 3500 करोड़

आज हम एक ऐसे ही सेल्फ मेड वुमन एंत्राप्यनोर के बारे में बता जिसने अपने पति से उधार लेकर बिजनेस शुरू किया।

1 of

नई दिल्ली. घरेलू महिलाओं के लिए किसी भी तरह बिजनेस शुरू करना थोड़ा मुश्किल होता है। लेकिन ये नामुमकिन भी नहीं है। दुनिया में कई ऐसी महिलाएं हैं जिन्होंने घर को संभालते हुए बिजनेस शुरू किया और आज वो एक सफल मुकाम पर पहुंच चुकी हैं। आज हम एक ऐसे ही सेल्फ मेड वुमन एंत्राप्यनोर के बारे में बता जिसने अपने पति से उधार लेकर बिजनेस शुरू किया और आज वो 1755 करोड़ रुपए की मालकिन बन गई हैं।

 

17 हजार को बना दिए 3500 करोड़

 

वेरा ब्रैडली ब्रांड की फाउंडर बारबरा ब्रैडले का कहना है कि यदि आपके पास कोई विचार है, तो बार-बार उस पर सोचने की बजाय आगे बढ़ें। बारबरा के पास अपनी कंपनी शुरू करने के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए उन्होंने अपने पति से 250 डॉलर (17 हजार रुपए) उधार लिए। उधार लिए पैसे से उन्होंने अपनी दोस्त के साथ मिलकर ट्रेंडी हैंडबैग्स बनाने का काम शुरू किया और आज उनकी कंपनी का टर्नओवर 55 करोड़ डॉलर (3500 करोड़ रुपए) हो गया है।

 

आगे पढ़ें- कैसे मिला बिजनेस आइडिया

 

यह भी पढ़ें- 50 रु से भी कम लगाकर कमा लिया 12 गुना मुनाफा, 1 लाख रु बने 12 लाख

ऐसे मिला आइडिया

 

बारबरा कहती हैं वो कभी बिजनेस में नहीं जाना चाहती थीं। उनके पिता एक सेल्स रिप्रिजेंटेटिव थे और उनकी मां वेरा ब्रैडली एक मॉडल थीं। उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई छोड़ दी और उनकी शादी हो गई। शादी के बाद पांच साल में 4 बच्चे हो गए। उनके पति के पास एक पेपर डिस्ट्रीब्यूटरशिप का बिजनेस था। उसी दौरान पेट्रिसिया मिलर से मुलाकात हुआ। एक दिन वो अपने माता-पिता से मिलकर लौट रही थी और अटलांटा एयरपोर्ट पर उन्होंने देखा किसी भी महिला के हैंडबैग रंगीन नहीं है। इसलिए उनको महिलाओं के लिए हैंडबैग्स और लगेज बनाने का आइडिया मिला।

 

आगे पढ़ें- पति से उधार लेकर शुरू किया बिजनेस

17 हजार रुपए उधार लिए

 

बारबरा के पास अपनी कंपनी शुरू करने के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए उन्होंने अपने पति से 250 डॉलर (17 हजार रुपए) उधार लिए। बैग बनाने के लिए उन्होंने कुछ फैब्रिक्स खरीदे। कुछ दिनों के बाद उन्होंने अखबारों में सिलाई का काम करने वालों के लिए विज्ञापन दिया। बारबरा ने अपनी मां के नाम पर कंपनी का नाम वेरा ब्राडली रखा। 

 

दोस्त ने दी 16 लाख की मदद

बिजनसे को आगे बढ़ाने के लिए पैसे की जरूरत पड़ी तो उनके एक दोस्त ने उन्हें 2500 डॉलर (16.25 लाख रुपए) का चेक दिया। उसने कहा कि यदि वे सफल रहे तो यह लोन होगा, अगर वे सफल नहीं हुए तो एक तोहफा होगा। यह चेक उनके लिए मददगार साबित हुई। पहले साल उन्होंने 10,000 डॉलर (6.50 लाख रुपए) की बिक्री की औऱ तीसरे साल के अंत तक 1 मिलियन डॉलर (6.5 करोड़ रुपए) का टर्नओवर हुआ। आज उनकी कंपनी का टर्नओवर 55 करोड़ डॉलर (3500 करोड़ रुपए) हो गया है।

 

आगे पढ़ें- 

नॉन-प्रॉफिट संस्था की मदद ली

 

शुरुआत में उन्हें पता नहीं था कि कीमतें कैसे तय होती है या कॉस्ट एनालिसिस कैसे किया जाता है। इसके लिए उन्होंने एक नॉन-प्रॉफिट संस्था की मदद ली। इसकी मदद से उन्होंने दुकानों से संपर्क बनाकर बैग दिखाए जिससे उनकी बिक्री बढ़ गई। 2007 में बारबरा और पेट्रिसिया ने अपना पहला रिटेल स्टोल खोला। उनके कस्टमरों में 8 से लेकर 80 साल तक के लोग हैं। उन्होंने बेबी बैग, स्टूडेंट बैकपैक्स और एस्सरिज बनाई।

 

1755 करोड़ रु है नेटवर्थ

फोर्ब्स के मुताबिक, बारबरा अमेरिकी की सेल्फ मेड वुमन की रैंकिंग में 54वें नंबर पर हैं और उनकी नेटवर्थ 27 करोड़ डॉलर (1755 करोड़ रुपए) है।

 

यह भी पढ़ें-

 

सिर्फ 55 हजार के निवेश में 40 हजार तक कमा सकते हैं मंथली, ये कंपनी दे रही है मौका

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट