बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksआउटपरफॉर्म कर सकता इंडियन स्टॉक मार्केट, लॉर्जकैप के फेयर वैल्युएशन से मिलेगा बूस्ट: मार्गन स्‍टैनले

आउटपरफॉर्म कर सकता इंडियन स्टॉक मार्केट, लॉर्जकैप के फेयर वैल्युएशन से मिलेगा बूस्ट: मार्गन स्‍टैनले

भारतीय स्‍टॉक मार्केट आउटपरफार्म कर सकता है, लेकिन एब्‍सल्‍यूट रिटर्न सीमित रहेगा।

Morgan Stanley says Indian equity market likely to be an outperformer

नई दिल्‍ली. भारतीय स्‍टॉक मार्केट आउटपरफॉर्म कर सकता है, लेकिन एबसॉल्यूट रिटर्न सीमित रहेगा। ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विस मेजर मॉर्गन स्टैनले ने एक रिपोर्ट में यह संभावना जताई है। रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार ग्रोथ में रिकवरी और लार्ज कैप के रिजनेबल वैल्‍युएशन की वजह से स्‍टॉक मार्केट के अच्‍छे प्रदर्शन की उम्‍मीद है, हालांकि यह चुनावी साल है और क्रूड के दाम बढ़ने से दिक्‍कतें भी देखने को मिल सकती हैं। रिपोर्ट के अनुसार ग्‍लोबल इक्विटी मार्केट का प्रदर्शन इस दौरान ठीक नहीं रह सकता है। 

 

 

 

44 हजार तक जा सकता है सेंसेक्‍स
मार्गन स्‍टेनली ने रिपोर्ट में कहा है कि बीएसई सेंसेक्‍स वित्‍तीय वर्ष 18, 19 और 20 में क्रमश 5 फीसदी, 23 फीसदी और 24 फीसदी की बढ़त दिखा सकता है। सबसे ज्‍यादा 50 फीसदी संभावना है कि सेंसेक्‍स जून 2019 तक 36 हजार के स्‍तर तक चला जाए। इसके अलावा बुल कैश में 30 फीसदी संभावना है कि सेंसेक्‍स जून 2019 तक 44 हजार के स्‍तर तक चला जाए। वहीं, बियर केस में जून 2019 तक सेंसेक्‍स 26500 के स्‍तर तक भी जा सकता है। फिलहाल सेंसेक्‍स 35600 के स्‍तर पर है।

 

वैश्विक बाजार पर निर्भर करेगा प्रदर्शन
रिपोर्ट के अनुसार निकट भविष्‍य में भारत के स्‍टॉक मार्केट का प्रदर्शन वैश्विक बाजारों के प्रदर्शन पर निर्भर करेगा। हालांकि भारत का बीटा गिरकर 13 साल के लो पर आ गया है, जिससे वैश्विक बाजारों में लो रिटर्न के बीच उम्‍मीद है कि भारत आउटपरफार्म कर सकता है।

 

क्रूड की कीमतें मुख्‍य चिंता
मार्गन स्‍टैनले के अनुसार क्रूड के दाम भारतीय स्‍टॉक मार्केट के लिए मुख्‍य चिंता का विषय हैं। इससे भारत का फिस्‍कल डेफिसिट बढ़ सकता है, जिससे ग्रोथ प्रभावित हो सकती है। हालांकि रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्‍तीय वर्ष 2018 और 2019 में अच्‍छी ग्रोथ रह सकती है। इस ग्रोथ को खपत, निर्यात और सरकारी खर्च बढ़ने से मदद मिली है। बाद में निजी क्षेत्र की तरफ से भी निवेश बढ़ने के संकेत मिलने लगे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि मॉनिटरिंग पॉलिसी सख्‍त ही बनी रहेगी, जिससे चुनावी साल में तय सीमा से ज्‍यादा फिस्‍कल डेफिसिट रह सकता है।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट