Home » Market » StocksSEBI, Anil Mittal, Mukesh Ambani, मुकेश अंबानी-सुनील मित्तल को छोड़नी पड़ेगी CMD पोस्ट

सेबी फैसला: मुकेश अंबानी-सुनील मित्तल को छोड़नी पड़ेगी CMD पोस्ट, सेंसेक्स की 10 कंपनियों पर होगा असर

तो आइए जानते हैं कि आखिर क्‍या है सेबी का वो फैसला।

1 of

नई दिल्ली.  मार्केट रेग्युलेटर सेबी के एक फैसले का असर बीएसई के बेंचमार्क इंडेक्स सेंसेक्स की 30 में से 10 कंपनियों पर पड़ेगा। इस फैसले की वजह से देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंस्ट्रीज के मुकेश अंबानी और भारती एयरटेल के  सुनील मित्तल, विप्रो के अजीम प्रेमजी सहित 10 लोगों को अपना सीएमडी पद छोड़ना होगा। नए नियम के तहत अप्रैल 2020 से ये लोग केवल एक पद अपने पास रख सकेंगे। इसका मतलब यह है कि ये लोग चेयरमैन और एमडी में से एक पद को ही अपने पास रख सकेंगे। 

 

यह है फैसला 

दरअसल, मार्केट रेग्‍युलेटर सेबी ने कोटक समिति की उस सिफारिश को मंजूरी दे दी है, जिसमें एमडी या CEO के अलावा चेयरमैन के पद अलग-अलग करने की बात कही गई थी। इसका मतलब है कि इन कंपनियों में कोई एक व्यक्ति सीएमडी नहीं होगा। यह फैसला मार्केट कैप के लिहाज से टॉप 500 कंपनियों पर लागू होगा। सेबी के इस फैसले असर बीएसई की टॉप 500 कंपनियों में से 145 पर लागू होगा।


इनको छोड़नी होगी कुर्सी

इस फैसले के लागू होने के बाद सेंसेक्स की 10 कंपनियों के सीएमडी को अपना कोई एक पद छोड़ना होगा। इनमें मुकेश अंबानी के अलावा, सुनील मित्तल, पवन मुंजाल शामिल हैं। अभी ये लोग चेयरमैन और एमडी की भूमिका एक साथ निभा रहे हैं।

 

कंपनी सीएमडी
रिलायंस इंडस्ट्रीज मुकेश अंबानी
भारती एयरटेल सुनील भारती मित्तल
विप्रो अजीम प्रेमजी
यस बैंक राणा कपूर
इंडसइंड बैंक रोमेश सोबती
हीरो मोटोकॉर्प पवन मुंजाल
ओएनजीसी शशि शंकर
एनटीपीसी गुरदीप सिंह
पावरग्रिड आईएस झा
कोल इंडिया गोपाल सिंह

नोट- येे कंपनियां सेंसेक्स में शामिल हैं।  

 

कब से लागू होगी सिफारिश  

सरकार के अधीन आने वाली सेबी की मंजूरी के बाद भी यह सिफारिश अभी दो साल बाद यानी अप्रैल 2020 से लागू होगी। यह फैसला उन टॉप 500 कंपनियों पर लागू होगा जिनकी मार्केट वैल्‍यू  सबसे अधिक होगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट