Home » Market » StocksBoth SBI and LIC schemes are tax saving

LIC पर भारी पड़ा SBI, 13 फीसदी ज्‍यादा दिया रिटर्न

LIC की योजना ने जहां 17.6 फीसदी का रिटर्न में एक साल में दिया है, वहीं SBI की ने एक साल में 31 फीसदी का रिटर्न दिया है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. बीमा क्षेत्र में LIC और बैंकिंग में SBI देश में टॉप पर हैं। यह दोनों अपनी एसेट मैनेजमेंट कंपनी भी चलाते हैं, जिनकी ढेर सारी योजनाएं हैं। इन्‍हीं योजनाओं में टैक्‍स सेविंग प्‍लान भी हैं। जहां एलआईसी एसेट मैनेजमेंट कंपनी की टैक्‍स सेविंग स्‍कीम ने 17.6 फीसदी का रिटर्न में एक साल में दिया है, वहीं एसबीआई एसेट मैनेजमेंट कंपनी की टैक्‍स सेविंग स्‍कीम ने एक साल में 31 फीसदी का रिटर्न दिया है। इस प्रकार SBI की स्‍कीम ने करीब 13 फीसदी ज्‍यादा रिटर्न दिया है।

 

ये हैं दोनों कंपनियों की स्‍कीम

SBI एसेट मैनेजमेंट कंपनी की इस स्‍कीम का नाम एसबीआई LTAF-Sr-4 Regular- Direct ग्रोथ प्‍लान है, वहीं LIC एसेट मैनेजमेंट कंपनी की स्‍कीम का नाम एलआईसी टैक्‍स प्‍लान Direct ग्रोथ है।  SBI की स्‍कीम जहां क्‍लोज एंडेड है वहीं LIC की स्‍कीम ओपेन एंडेड है।

 

 

दोनों टैक्‍स सेविंग योजनाओं के रिटर्न पर एक नजर

 

SBI MF की योजना का रिटर्न

 

स्‍कीम

एक माह

तीन माह

छह माह

1 साल

एसबीआई LTAF-Sr-4 Regular- Direct (G)

1.6 फीसदी

0.8 फीसदी

4.0 फीसदी

31.0 फीसदी

 

LIC MF की योजना का रिटर्न

 

स्‍कीम

1 साल

2 साल

3 साल

5 साल

LIC टैक्‍स प्‍लान Direct (G)

17.6 फीसदी

21.4 फीसदी

11.1 फीसदी

18.1 फीसदी

LIC टैक्‍स प्‍लान (G)

16.2 फीसदी

20.1 फीसदी

10.0 फीसदी

17.0 फीसदी

 

नोट : डाटा 11 मई 2018 तक का। एक साल से ज्‍यादा का रिटर्न CAGR, यानी हर साल मिला रिटर्न।

 

 

 

 

LIC की स्‍कीम का विवरण

फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर ए.के. निगम के अनुसार LIC एसेट मैनेजमेंट की इस स्‍कीम की शुरुआत एक जनवरी 1997 को हुई थी। यह एक ओपेन एंडेड स्‍कीम है, जिसमें कभी भी निवेश किया जा सकता है। इसमें ग्रोथ प्‍लान और डिविडेंड प्‍लान को लिया जा सकता है। 31 मार्च 2018 को इस योजना का एसेट साइज 147.63 करोड़ रुपए था। निवेशक यहां पर न्‍यूनतम 500 रुपए का निवेश कर सकते हैं। इस स्‍कीम के टॉप निवेश पर नजर डालने पर बैंकिंग सेक्‍टर पर जोर नजर आता है। इस स्‍कीम के टॉप 5 निवेश में दो बैंकिंग सेक्‍टर में हैं। इस स्‍कीम का AMU का 5.09 फीसदी हिस्‍सा HDFC Bank में निवेशित है। इसके बाद ICICI Bank    में 4.75  फीसदी पैसा लगाया गया है। Maruti Suzuki में 4.03 फीसदी, TCS में 3.87 फीसदी और Ashok Leyland में 3.43 फीसदी निवेश है।

 

SBI की स्‍कीम का विवरण  

इस स्‍कीम का एसेट साइज 12.60 करोड़ रुपए है। यह एक क्‍लोज एंडेड स्‍कीम है। इस स्‍कीम का सबसे बड़ा निवेश HDFC बैंक में है। इसमें करीब 9.90 फीसदी निवेश किया हुआ है। इसके बाद कंट्रोल प्रिंट सर्विस में 5.60 फीसदी, एलटी फूड्स में 5.22 फीसदी, डिवि लैब्‍स में 5.20 फीसदी और हट्सन एग्रो में 5.19 फीसदी निवेश है।

   

आगे पढ़ें : कैसे होता है डबल फायदा

 

 


 

मिलता है डबल फायदा

अंश फाइनेंशियल एंड इन्‍वेस्‍टमेंट के डायरेक्‍टर दिलीप कुमार गुप्‍ता के अनुसार इन स्‍कीम में निवेश पर दोहरा फायदा मिलता है। एक तो यह स्‍कीम टैक्‍स सेविंग का फायदा देती हैं। इसके अलावा इसमें लॉकइन पीरियड सबसे कम केवल 3 साल का है। बाकी टैक्‍स सेविंग इंस्ट्रूमेंट में लॉकइन पीरियड 5 साल से लेकर 15 साल तक का होता है।

 

कैसे करें निवेश

इन स्‍कीम में अगर टेक सेबी हैं तो ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं। अगर ऐसा संभव न हो तो किसी एजेंट से मदद ली जा सकती है। अगर पहले से निवेश और KYC पूरी है तो एक फार्म भरते ही यह निवेश हो जाएगा। लेकिन अगर KYC नहीं है तो आपको पैन, आधार और कैंसिल चेक देना होगा। इसके बाद ही निवेश शुरू होगा।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट