Home » Market » Stocksआर्सेलर के साथ 6500 करोड़ के जेवी पर मुहर लगा सकती है सेल-SAIL board to approve $1-bn JV with ArcelorMittal next week

अब देश में बनेगा ऑटोमोटिव स्टील, SAIL-आर्सेलर के जेवी को जल्द मिल सकती है मंजूरी

सेल लंबे समय से आर्सेलरमित्तल के साथ प्रस्तावित 1 अरब डॉलर के जेवी को मंजूरी दे सकती है।

1 of

नई दिल्ली. पब्लिक सेक्टर की कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) अगले सप्ताह होने वाली बोर्ड मीटिंग में लंबे समय से आर्सेलरमित्तल के साथ प्रस्तावित 1 अरब डॉलर (6500 करोड़ रुपए) के ज्वाइंट वेंचर को मंजूरी देने की तैयारी में हैं। इस घटनाक्रम से जुड़े तीन सूत्रों से यह जानकारी सामने आई है।


 

मित्तल और सेल चेयरमैन की मीटिंग में बनी सहमति

बीते सप्ताह आर्सेलरमित्तल के चेयरमैन लक्ष्मी मित्तल, स्टील सेक्रेटरी अरुणा शर्मा और सेल के चेयरमैन पी के सिंह के बीच बातचीत के बाद इस डील पर सहमति कायम हुई। इसके साथ ही ऑटोमोटिव ग्रेड का स्टील बनाने के लिए काफी समय से लंबित भागीदारी फाइनल होने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। सूत्रों ने कहा कि सेल और आर्सेरलमित्तल की लीगल टीम्स ने बीते दो सप्ताह के दौरान सरकारी थिंकटैंक के साथ बातचीत के बाद एक ज्वाइंट टर्मशीट को अंतिम रूप दे दिया है।


 

तैयार हुई ज्वाइंट टर्मशीट

बातचीत से जुड़े एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, 'ज्वाइंट टर्मशीट तैयार कर ली गई है और इसके तार्किक परिणाम मिलने चाहिए। सेल ने इस ज्वाइंट वेंचर को मंजूरी देने के लिए एक इमर्जेंसी मीटिंग बुलाई है।'


 

अगले सप्ताह हो सकती है बोर्ड मीटिंग

हालांकि अधिकारी ने मीटिंग की तारीख का खुलासा नहीं किया, लेकिन बातचीत की जानकारी रखने वाले दो अन्य सूत्रों ने कहा कि यह संभवतः मंगलवार को होगी। सूत्रों के मुताबिक अभी तक इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। सेल, आर्सेरलमित्तल और स्टील मिनिस्ट्री ने इस मसले पर तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

भारत हाई ग्रेड के ऑटो स्टील के लिए काफी हद तक इस पार्टनरशिप पर निर्भर है, जिसका इंपोर्ट अभी तक जापान और साउथ कोरिया से किया जाता है। भारत ऑटोमोबाइल का बड़ा एक्सपोर्टर और प्रोड्यूसर है।


 


 

2015 में हुआ था समझौता

सेल और आर्सेलरमित्तल ने इस संबंध में वर्ष 2015 में एक समझौता किया था, लेकिन प्रमुख शर्तों पर मतभेद के चलते इस वेंचर में देरी हो गई। इस पार्टनरशिप से आर्सेलरमित्तल को तेजी से बढ़ते भारतीय स्टील मार्केट में कदम रखने का मौका मिलेगा।

सूत्रों ने कहा कि वेंचर एग्रीमेंट को कई बार एक्सटेंड किया जा चुका है और पिछला एक्सटेंशन 30 नवंबर को लैप्स हो गया था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट