Home » Market » StocksRCom shares dive over 20% on NCLT move

आरकॉम का शेयर 20.5% टूटा, एनसीएलटी के दायरे में आने का असर

एरिक्सन की याचिका के बाद अंबानी की तीन दूरसंचार कंपनियां बैंकरप्सी कोड के तहत एनसीएलटी के दायरे में आ गई है।

1 of

नई दिल्ली.  इरिक्सन की याचिका के बाद अनिल अंबानी की तीन दूरसंचार कंपनियां बैंकरप्सी कोड के तहत नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल  (एनसीएलटी) के दायरे में आ गई है। इस खबर से बुधवार को आरकॉम के स्टॉक में 20.5 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। 

 

एडीएजी ग्रुप के शेयर लुढ़के

बीएसई पर आरकॉम का स्टॉक कमजोरी के साथ खुला और कारोबार के दौरान 20 फीसदी गिरकर 9.95 रुपए के भाव पर गया। वहीं एनएसई पर स्टॉक 20.5 फीसदी गिरकर 9.85 रुपए पर आ गया।
इस खबर का असर एडीएजी ग्रुप के अन्य स्टॉक्स पर भी दिखा। रिलायंस नवल एंड इंजीनियरिंग में 6.23%, रिलायंस निप्पॉन लाइफ एसेट मैनेजमेंट में 2.70%, रिलायंस पावर में 1.19% औऱ रिलायंस कैपिटल में 1 फीसदी की गिरावट आई।

 

इरिक्सन का आरकॉम पर है 1,150 करोड़ का बकाया

NCLT की मुंबई बेंच ने आठ महीने की कानूनी लड़ाई के बाद मंगलवार को आरकॉम और उसकी सब्सडियरीज के खिलाफ स्वीडन की टेलिकॉम गियर कंपनी एरिक्सन की तीन याचिकाओं को स्वीकार कर लिया। स्वीडन की टेलिकॉम इक्विपमेंट बनाने वाली कंपनी इरिक्सन की भारतीय सब्सिडियरी ने आरकॉम के देश भर में स्थित नेटवर्क को ऑपरेट और प्रबंधन के लिए 7 साल का करार किया था। इसी कंपनी ने 1,150 करोड़ रुपए के बकाए को लेकर बीते साल आरकॉम के खिलाफ सितंबर, 2017 में इनसॉल्वेंसी पिटीशन फाइल की थी।

ऑरकॉम ने कहा है कि कंपनी और इसकी दो सहायक कंपनियां रिलायंस टेलिकॉम व रिलायंस इंफ्राटेल एनसीएलटी के आदेश की कॉपी की प्रतीक्षा कर रही है, जिसमें एरिक्सन के आवेदन के जरिए तीनों कंपनियों को आईबीसी के तहत कर्ज समाधान योजना के दायरे में ला दिया गया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss