बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksLIC-IDBI की प्रस्तावित डील पर RBI सहमत, कहा-सभी स्टेकहोल्डर्स के हित में है प्रपोजल

LIC-IDBI की प्रस्तावित डील पर RBI सहमत, कहा-सभी स्टेकहोल्डर्स के हित में है प्रपोजल

LIC के संकटग्रस्त आईडीबीआई बैंक की 51 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के प्रस्ताव पर RBI सहमत है।

Govt source says RBI on board with LIC buying 51 percent stake in IDBI Bank

 

मुंबई. LIC के संकटग्रस्त आईडीबीआई बैंक की 51 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के प्रस्ताव पर रिजर्व बैंक (RBI) सहमत है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए कहा कि आरबीआई इस संभावित डील को सभी स्टेकहोल्डर्स के हित में मानता है।  

 

 

बैंक और जमाकर्ताओं दोनों के हित में डीलः आरबीआई

अधिकारी ने कहा, ‘आरबीआई के साथ हुई सरकार और एलआईसी की बातचीत के मुताबिक केंद्रीय बैंक इस डील को उचित मान रहा है, क्योंकि यह बैंक और जमाकर्ताओं दोनों के हित में है।’ हालांकि एलआईसी की ओर से अभी तक कोई औपचारिक प्रपोजल नहीं मिला है, लेकिन आरबीआई बैंक के प्राइमरी शेयरहोल्डर्स के तौर पर एलआईसी की निवेश क्षमता से संतुष्ट है।  

इस मसले पर भेजे गए ईमेल पर आरबीआई ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। वहीं एलआईसी के चेयरमैन वी के शर्मा से भी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

 

 

ओपन ऑफर ला सकती है एलआईसी

माना जा रहा है कि LIC, IDBI बैंक के माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स के लिए ओपन ऑफर ला सकती है। इंश्योरेंस कंपनी अपने बोर्ड से आईडीबीआई बैंक के हिस्सेदारी खरीदने के लिए अनुमति मिलने के बाद मार्केट रेग्युलेटर सेबी से संपर्क करेगा। वहीं एलआईसी की कर्मचारी यूनियन ने बीमा कंपनी द्वारा आईडीबीआई बैंक में 51 फीसदी हिस्सेदारी खरीद के प्रस्ताव का विरोध किया है।

 

LIC-IDBI बैंक डील को IRDAI की मंजूरी

इससे पहले, पिछले महीने हैदराबाद में हुई इंश्योरेंस रेग्युलेटर IRDAI बोर्ड बैठक में आईडीबीआई बैंक में एलआईसी की हिस्सेदारी खरीद के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी। इसके बाद LIC बैंक में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाकर 51 फीसदी कर सकेगी। इससे कर्ज में दबी बैंक को 10,000 से 13,000 करोड़ रुपए का कैपिटल सपोर्ट मिल जाएगा। LIC की इस वक्‍त IDBI बैंक में 10.82 फीसदी हिस्‍सेदारी है। इसे 51 फीसदी तक ले जाने के लिए उसे 40 फीसदी हिस्‍सेदारी और खरीदनी पड़ेगी। अभी तक के नियमों के अनुसार कोई भी बीमा कंपनी किसी भी कंपनी में 15 फीसदी से ज्‍यादा हिस्‍सेदारी नहीं रख सकती है। LIC-IDBI बैंक डील में बैंक के मानॉरिटी शेयरहोल्डर्स के हितों की रक्षा के लिए एक ओपन ऑफर जारी करेगा।

 

LIC के कर्मचारी यूनियन अधिग्रहण के विरोध में

एलआईसी की कर्मचारी यूनियन ने बीमा कंपनी द्वारा आईडीबीआई बैंक में 51 फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के प्रस्ताव का विरोध कर रही हैं। यूनियनों का कहना है कि इससे पॉलिसीधारकों और उनके प्रीमियम मनी पर असर पड़ेगा।

एक रिपोर्ट के अनुसानर, एलआईसी ने 2014-15 में सरकारी बैंकों में 1,850 करोड़ रुपए और 2015-16 में 2,539 करोड़ रुपए का निवेश किया है।

एलआईसी के पास फिलहाल आईडीबीआई बैंक की 11 फीसदी हिस्सेदारी है और बैंक के कुल लोन में टोटल स्ट्रेस्ड पोर्टफोलियो का हिस्सा 35.9 फीसदी है। मार्च तिमाही के अंत तक बैंक की ग्रॉस नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स 55,588 करोड़ रुपए थीं।

 

 

बैंकिंग स्पेस में कदम रखेगी LIC

एलआईसी, IDBI बैंक में मेजोरिटी स्टेक खरीदने हासिल करके बैंकिंग स्पेस में प्रवेश करने की तलाश में है क्योंकि इस डील से बैंक के स्ट्रेस्ड बैलेंस सीट के बावजूद बिजनेस बढ़ाने में मदद मिलने की उम्मीद है।

इस डील से एलआईसी को 2000 ब्रांच मिलेंगी जिसके माध्यम से यह अपने प्रोडक्ट्स को बेच सकता है, जबकि बैंक को एलआईसी का भारी भरकम फंड मिलेगा। इसके अलावा बैंक को करीब 22 करोड़ पॉलिसी होल्डर्स का अकाउंट और निरंतर फंड मिलेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट