Home » Market » StocksLong term investor gets good returns in mutual fund

केवल 30% इन्वेस्टर MF में करते हैं लॉन्‍ग टर्म इन्वेस्टमेंट, मिला सबसे ज्यादा फायदा

म्‍युचुअल फंड में लम्‍बे समय तक निवेशित रहने वालों को मिलता है अच्‍छा फायदा।

1 of
 
नई दिल्‍ली. एसोशिएशन ऑफ म्‍युचुअल फंड इन इंडिया (AMFI) और म्‍युचुअल फंड कंपनियां निवेशकों से हरदम लम्‍बे समय का निवेश करने का सुझाव देती हैं, लेकिन इसका ज्‍यादा असर नहीं हाे रहा है। अभी भी म्‍युचुअल फंड में निवेश करने वाले केवल 30 फीसदी ही निवेशक दो साल या उससे ज्‍यादा समय के लिए इन्‍वेस्‍टमेंट करते हैं। बाकी 70 फीसदी निवेशक अपना पैसा एक साल से पहले ही निकाल लेते हैं। म्‍युचुअल फंड बाजार के जानकारों के अनुसार MF में निवेश जितने ज्‍यादा समय के लिए होता है, रिटर्न उतना ही अच्‍छा मिलने की संभावना ज्‍यादा होती जाती है।
 
 
बदल रहा है ट्रेंड
फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम के अनुसार ट्रेंड में बदलाव आ रहा है। लेकिन अभी भी लोग नहीं समझ पा रहे हैं कि इक्विटी म्‍युचुअल फंड में इन्‍वेस्‍टमेंट जितना ज्‍यादा समय के लिए किया जाए, उतना ही अच्‍छा रिटर्न मिलता है। उनके अनुसार AMFI के आंकड़ों में करीब 10 फीसदी निवेशक अपना पैसा एक माह के अंदर ही निकाल लेते हैं। उनके अनुसार यह निवेश का अच्‍छा तरीका नहीं है। इसमें नुकसान होने की आशंका रहती है, जिससे निवेशकों को बचना चाहिए।
 
 
औसतन MF में कितने दिनों का निवेश करते हैं इन्‍वेस्टर्स
 
 
 
समय
निवेशक
1 माह
10.1 फीसदी
1 से 3 माह
10.5 फीसदी
3 से 6 माह
11.3 फीसदी
6 से 12 माह
18.7 फीसदी
12 से 24 माह
19 फीसदी
24 माह से ज्‍यादा
30.4 फीसदी
 
AMFI की जारी मार्च 2018 के डाटा के अनुसार


 
लम्‍बे समय में कैसे मिलता है फायदा
इक्विटी म्‍युचुअल फंड पैसों का निवेश शेयर बाजार में करते हैं। इस बाजार में ग्रोथ अगर समय के हिसाब से देखेंगे, तो लगातार हो रही है, लेकिन छोटे-छोटे अंतराल में यह काफी ऊपर नीचे होता रहता है। निगम के अनुसार इसीलिए पैसा जितना ज्‍यादा समय के लिए निवेशित रहेगा, रिटर्न अच्‍छा मिलने की संभावना बढ़ती जाती है। उनके अनुसार नीचे दी चार्ट में दी स्‍कीम का रिटर्न देखेंगे तो एक माह में जहां निगेटिव रिटर्न भी मिला है वहीं दो साल वालों को सबसे ज्‍यादा रिटर्न मिला है। इस चार्ट में दो साल का रिटर्न एनुलाइज्‍ड है, यानी इतना रिटर्न निवेशकों को दोनों साल मिला है। निगम के अनुसार फायदा बढ़ने का सबसे बड़ा कारण पहले साल मिले रिटर्न पर अगले साल भी रिटर्न मिलना है। रिटर्न में यह क्रम लगातार चलता रहता है, इसीलिए निवेश का समय जितना ज्‍यादा रहेगा फायदा उतना ही ज्‍यादा होगा।
 
 
5 स्‍कीम से जानें फायदे का हिसाब
 
 
 
 
 
स्‍कीम
एक माह
1 साल
2 साल
आईडीएफसी फोकस्‍ड इक्विटी - Direct (G)
-0.3
22.5
27.8
बिड़ला स्‍मॉल एंड मिड कैप -Direct (G)
0.3
11.6
28.0
कोटक क्‍लासिक इक्विटी - Direct (G)
0.6
20.7
23.4
टैम्‍पलटन (I) इक्विटी इनकम - Dir (G)
0.9
15.4
22.6
सुंदरम सिलेक्‍ट माइक्रो कैप फंड -Sr 5-DP-G
1.0
29.8
34.2
 
डाटा : 17 मई 2018 तक का। 1 साल से ज्‍यादा का रिटर्न एनुलाइज्‍ड है।


SIP है निवेश का सबसे अच्‍छा तरीका
च्‍वॉइस ब्रोकिंग के प्रेसीडेंट अजय केजरीवाल के अनुसार म्‍युचुअल फंड में निवेश का सबसे अच्‍छा तरीका सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (SIP) है। इस तरीके में हर माह एक निश्चित राशि का निवेश किया जाता है। हर माह निवेश होने के चलते मार्केट में आने वाली हर गिरावट का फायदा निवेश्‍ाक उठा पाता है। बाद में निवेशक को अपने निवेश की हुई एवरेजिंग का अच्‍छा फायदा मिलता है।
 
 


prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट