Home » Market » StocksJio fication propels Mukesh Ambani to World Greatest Leaders List

Jio के चलते फॉर्च्यून टॉप-50 ग्रेटेस्‍ट लीडर्स की लिस्ट में आए मुकेश अंबानी, जन्‍मदिन पर आई खुशखबरी

मुकेश अंबानी को Jio के चलते फॉर्च्यून मैगजीन के टॉप-50 महान लीडर्स की लिस्ट में शामिल किया गया है।

1 of


नई दिल्ली. भारत के सबसे अमीर कारोबारी मुकेश अंबानी को Jio के चलते फॉर्च्यून मैगजीन के टॉप-50 महान लीडर्स की लिस्ट में शामिल किया गया है। उनके अलावा सुप्रीम कोर्ट की जानी-मानी वकील और मानवाधिकार कार्यकर्ता इंदिरा जयसिंह और आर्किटेक्ट बालकृष्ण दोषी को भी इस लिस्ट में जगह दी गई है। बता दें कि इस लिस्ट में हर साल दुनिया में बदलाव लाने वाली कुछ जानी-मानी हस्तियों को शामिल किया जाता है। इस साल एप्पल के सीईओ टिम कुक, न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न और फुटबॉल कोच निक सबन को भी लिस्ट में जगह दी गई है।

 

 

Jio की सफलता ने दिलाई अंबानी को लिस्ट में जगह
अंबानी के जन्मदिन पर रिलीज की गई इस लिस्ट में उन्हें 24वां स्थान दिया गया है। फॉर्च्यून के मुताबिक, पिछले दो सालों से भी कम समय में अंबानी ने Jio की बदौलत बड़ी संख्या में भारतीयों के हाथ में इंटरनेट और मोबाइल डेटा पहुंचाया है और देश के टेलिकॉम मार्केट को एक तरह से बदल कर रख दिया है। मैग्‍जीन में बताया गया है कि इसके पीछे एक ही राज है- बेहद कम पैसों में मुफ्त कॉल्स और डेटा मुहैया कराना, जिससे Jio के सारे प्रतिद्वंदी या तो खत्म हो गए या उन्हें अपनी कीमतें कम करनी पड़ी हैं। साथ ही भारत में डेटा की खपत में भी 1100 प्रतिशत का उछाल आया है। जिससे Jio को फायदा हुआ।

 

 

2016 में लांच हुआ था Jio
रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ने सितंबर 2016 में Jio लॉन्च किया था। इसकी सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कंपनी ने अब तक करीब 16 करोड़ ग्राहकों को जोड़ लिए हैं।

 

 

लिस्ट में अंबानी से आगे मिली इंदिरा को जगह
फॉर्च्यून ने लिस्ट में सुप्रीम कोर्ट की वकील इंदिरा जयसिंह को अंबानी से ऊपर 20वां स्थान मिला है। फॉर्च्यून के मुताबिक, भारत में जब भी गरीबों को आवाज की जरूरत होती है, इंदिरा जयसिंह उनकी मदद के लिए खड़ी होती हैं। एक वकील जिसने अपनी जिंदगी अन्याय के खिलाफ लड़ने में लगा रखी है। बता दें कि इंदिरा जयसिंह ने 1984 में भोपाल गैस कांड का शिकार बने लोगों का केस लड़ा है। इसके अलावा भारत का पहला घरेलू हिंसा कानून बनाने में भी अहम किरदार निभाया है। हाल ही में उन्हें यूनाइटेड नेशंस की तरफ से रोहिंग्या मुस्लिमों के उत्पीड़न की जांच के लिए नियुक्त किया गया है।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss