विज्ञापन
Home » Market » StocksMoodys said Indias economic growth to slow in 2019

मूडीज: 2019 में भारत की ग्रोथ 7.3% रहने का अनुमान

साल 2018 में भारतीय इकोनॉमी 7.4 फीसदी तक बढ़ेगी।

Moodys said Indias economic growth to slow in 2019
Moodys said Indias economic growth to slow in 2019 | मूडीज इन्‍वेस्‍टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने कहा है कि साल 2018 में भारतीय इकोनॉमी 7.4 फीसदी तक बढ़ेगी, लेकिन साल 2019 में ग्रोथ धीमी होकर 7.3 फीसदी रह सकती है। लेकिन बढ़ती ब्याज दरों की वजह से बॉरोइंग कॉस्ट बढ़ने से घरेलू मांग घटने से अगले साल ग्रोथ 7.3 फीसदी तक धीमी हो जाएगी।

नई दिल्ली।  मूडीज इन्‍वेस्‍टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने कहा है कि साल 2018 में भारतीय इकोनॉमी 7.4 फीसदी तक बढ़ेगी, लेकिन साल 2019 में ग्रोथ धीमी होकर 7.3 फीसदी रह सकती है। लेकिन बढ़ती ब्याज दरों की वजह से बॉरोइंग कॉस्ट बढ़ने से घरेलू मांग घटने से अगले साल ग्रोथ 7.3 फीसदी तक धीमी हो जाएगी। 

 

रेटिंग एजेंसी ने अपने 'ग्‍लेाबल मैक्रो आउटलुक 2019-20' में कहा, 2018 के पहले छमाही (जनवरी-जून) में इकोनॉमी 7.9 फीसदी बढ़ी है, जो नोटबंदी के बाद प्रभाव को दर्शाती है।

 

भारत में अगले साल भी बढ़ेंगे पॉलिसी रेट्स

मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस ने कहा है कि हायर ब्याज दर से बॉरोइंग कॉ्ट पहले ही बढ़ चुका है। साल 2019 में भी रिजर्व बैंक ब्याज दरें बढ़ा सकती है, जिससे घरेलू मांग में कमी आएगी। ये फैक्टर्स अगले कुछ वर्षों में भारतीय इकोनॉमी की ग्रोथ को सीमित करेंगे। मूडीज ने कहा, 2019 और 2020 में भारत की जीडीपी (GDP) ग्रोथ 7.3 फीसदी रह सकती है, जो 2018 में करीब 7.4 फीसदी है।

 

फाइनेंशियल सेक्टर चिंताजनक

रेटिंग एजेंसि ने कहा कि भारत की ग्रोथ संभावनाओं के लिए सबसे बड़ा जोखिम फाइनेंशियल सेक्टर की चिंताएं हैं। कर्ज के ऊंचे स्तर, ग्रोथ में आ रही गिरावट और इंटरेस्ट रेट में हो रही बढ़ोतरी से कर्ज की अफोर्डेबिलिटी और उसके रिपेमेंट को लेकर इकनॉमी को शॉक लगने के खतरे बढ़ रहे हैं। मॉनिटरी पॉलिसी को मजबूत करने की वजह से बॉरोइंग कॉस्ट पहले ही बढ़ चुकी है।

 

रेटिंग एजेंसी का अनुमान है कि जी20 देशों की ग्रोथ 2019 में सुस्त होकर 2.9% पर आने से पहले 2018 में 3.3% के पीक पर पहुंच सकती है। जी20 की एडवांस इकनॉमी की ग्रोथ 2019 में 1.9% रह सकती है जो 2018 में 2.8% थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन