Home » Market » Stocksसेंसेक्स- BJP की जीत के बावजूद रेंज बाउंड रहेगा निफ्टी, ऐसे बनाएं निवेश की स्ट्रैटजी,Markets wi

BJP की जीत के बावजूद दायरे में रहेगा निफ्टी, ऐसे बनाएं निवेश की स्ट्रैटजी

तीसरे तिमाही के नतीजे, रिफॉर्म्स की रफ्तार और बजट आदि ऐसे फैक्टर होंगे, जो मार्केट की आगे की दिशा तय करेंगे।

1 of

नई दिल्ली. गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में भले ही बीजेपी की जीत हुई है, लेकिन इसे बड़ी जीत नहीं माना जा रहा है। मार्केट एक्सपर्ट्स के मुताबिक मार्केट इस जीत को पहले ही डिस्काउंट कर चुका था और बदले हालात में निफ्टी 10,200 से 10,600 की रेंज में ट्रेड करता दिख सकता है। ऐसे में कंपनियों के तीसरे तिमाही के नतीजे, रिफॉर्म्स की रफ्तार और बजट आदि ऐसे फैक्टर होंगे, जो मार्केट की आगे की दिशा तय करेंगे।

 

बीजेपी की जीत से विक्स इंडेक्स 12 फीसदी गिरा

गुजरात विधानसभा में बीजेपी की जीत से इंडिया वोलैटिलिटी इंडेक्स (विक्स) में गिरावट दर्ज की गई है। सोमवार के कारोबार में इंडेक्स 12.21 फीसदी गिरकर 13.11 के लेवल पर बंद हुआ। इंडिया वोलैटिलिटी इंडेक्स यानी विक्स नियर टर्म में उतार-चढ़ाव को लेकर मार्केट के अनुमान को बताता है। लोअर विक्स से उतार-चढ़ाव कम होने के संकेत मिलते हैं।

 

ये भी पढ़ें- गुजरात में बीजेपी की जीत से इन शेयरों में निवेश का मौका, मिल सकता है 51% तक रिटर्न

 

दायरे में रहेगा मार्केट

सिमी भौमिक डॉट कॉम की टेक्निकल एनालिस्ट सिमी भौमिक ने कहा कि मार्केट में आगे प्रॉफिट बुकिंग दिख सकती है। मार्केट गुजरात चुनाव को डाइजेस्ट कर चुका है और ऐसे में मार्केट अब दायरे में रहेगा। निफ्टी में 10,200 का स्ट्रॉन्ग सपोर्ट है।

वहीं एसएमसी इन्वेस्टमेंट्स एंड एडवाइजर्स लिमिटेड के रिसर्च हेड सचिन सर्वदे के मुताबिक, सोमवार को निफ्टी 10400 के नीचे बंद हुआ है। इसका मतलब है, अब मार्केट आगे दायरे में रहेगा। उन्होंने कहा कि अगर निफ्टी 10,400 के ऊपर बंद होता तो मार्केट में एक और रैली देखने को मिल सकती थी, जिससे निफ्टी 10,600 से 10,800 के स्तर तक जा सकता था।

 

अब नए संकेतों से चलेगा मार्केट

ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन का कहना है कि मार्केट बीजेपी की नॉर्मल जीत को डिस्काउंट कर चुका है। ऐसे में आगे स्टॉक मार्केट के लिए गुजरात के नतीजों के अलावा दूसरे कुछ फैक्टर अहम होंगे। मसलन मार्केट की नजर एफआईआई के निवेश पर होगी, वहीं घरेलू निवेशकों द्वारा आने वाली लिक्विडिटी, क्रूड व अन्य कमोडिटीज की कीमतों के अलावा ग्लोबल फैक्टर भी मार्केट पर असर डालेंगे। इसके अलावा तीसरी और चौथी तिमाही के नतीजों पर मार्केट की नजर होगी। इन संकेतों से मार्केट की आगे की दिशा तय होगी।

 

ये भी पढ़ें- गुजरात बेस्ड इन शेयरों ने 5 साल में दिया 2400% तक रिटर्न, निवेशक ने कमाए 24000 करोड़

 

लोक-लुभावन हो सकता है बजट

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि गुजरात के नतीजे से सरकार को लोगों के मूड का पता लग गया है। इसलिए सरकार आगामी बजट में लोगों को कुछ राहत दे सकती है। सरकार ने रिफॉर्म की दिशा में जो कदम उठाए हैं, उनमें और तेजी लाने की उम्मीद है। 2018 का बजट सरकार का आखिरी बजट होगा, क्योंकि 2019 में लोकसभा के चुनाव होने हैं। इसलिए 2019 के बजट का कोई ज्यादा महत्व नहीं होगा।


आगे पढ़ें- कौन से सेक्टर परफॉर्म करेंगे

ये सेक्टर करेंगे परफॉर्म


एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अब निवेशकों को कुछ चुनिंदा सेक्टर्स के हिसाब से ट्रेडिंग करनी चाहिए। मार्केट एक्सपर्ट संदीप जैन ने कहा कि निवेशकों को आईटी, फार्मा, इन्फ्रा और ऑयल एंड गैस स्टॉक्स को अपने पोर्टफोलियो में शामिल करना चाहिए। वहीं, सर्वदे ने कहा कि सरकार के बैंक रिकैपिटलाइजेशन प्लान से पीएसयू बैंक को फायदा होगा। वहीं सरकार के हर शख्स को घर देने के वादे का फायदा रियल एस्टेट सेक्टर को होगा। ऐसे में ये दोनों सेक्टर अच्छा परफॉर्म करेंगे।

 

ये होनी चाहिए इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटजी


सिमी भौमिक ने स्टॉक स्पेसिफिक ट्रेडिंग करने की सलाह दी है। उनके मुताबिक, अडानी ग्रुप की कंपनियों, रिलायंस इंडस्ट्रीज और जीएनएफसी के शेयरों में निवेश कर सकते हैं। वहीं जैन ने कहा कि जो स्टॉक्स नहीं चले हैं उनमें सलेक्टिव निवेश कर सकते हैं।

 

(नोट- यहां दी गई सभी सलाह मार्केट एक्सपर्ट्स की सलाह के आधार पर हैं। हर स्टॉक से जुड़े अपने जोखिम होते है, इसलिए सलाह है कि अपने स्तर पर जांच या अपने एक्सपर्ट की सलाह के बाद ही निवेश का फैसला लें।)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट