Home » Market » Stocksमलविन्‍दर ब्रदर्स पर फोर्टिस से 500 करोड़ रूपए निकालने का आरोप - Singh brothers are said to have taken 500 cr out of Fortis

मलविन्‍दर ब्रदर्स पर फोर्टिस से 500 करोड़ निकालने का आरोप, ऑडिटर ने नहीं साइन की बैलेंस शीट

मलविन्‍दर और उनके भाई शिवेन्‍दर ने फोर्टिस हेल्‍थकेयर से 500 करोड़ रुपए बिना बोर्ड अप्रूवल के निकालने का आरोप लगा है।

1 of

नई दिल्‍ली. काॅरपोरेट जगत की बड़ी हस्तियों में शुमार मलविन्‍दर सिंह और उनके भाई शिवेन्‍दर सिंह पर फोर्टिस हेल्‍थकेयर से 500 करोड़ रुपए बिना बोर्ड अप्रूवल के निकालने का आरोप लगा है। पैसों का यह लेनदेन करीब एक साल पहले हुआ था। उस वक्‍त यह फंड कंपनी की बैलेंस शील पर कैश के रूप में मौजूद था। इस मामले से जुड़े लोगों को कहना है कि कंपनी जब सिंह ब्रदर्स के कंट्रोल में थी उस वक्‍त यह ट्रांजैक्‍शन हुआ।

 

इसी वजह से फोर्टिस की ऑडिटर कंपनी डेलॉइट हास्किंस एंड सेल्‍स एलएलपी ने कंपनी के दूसरी तिमाही में नतीजों पर साइन करने से मना कर दिया, जिसके चलते अभी तक यह परिणाम जारी नहीं किए जा सके हैं। ऑडिटर कंपनी का कहना है कि जब तक यह फंड कंपनी में वापस नहीं आते हैं, या उनके बारे में पूरी जानकारी नहीं मिलती है वह ऑडिट को अंतिम रूप नहीं दे सकते हैं। नियमों केे अनुसार इतनी बड़ी राशि के लेनदेन के लिए बोर्ड के अप्रूवल की जरूरत होती है, जो इस मामले में नहीं लिया गया।

 

किसी को नहीं पता इन पैसों का क्‍या हुआ

इस मामले से जुड़े लोगों का कहना है कि यह अभी तक साफ नहीं है कि इस फंड का क्‍या हुआ। हालांकि जानकारों का कहना है कि सिंह ब्रदर्स इस पैसे को लौटाने जा रहे हैं। इसके बाद ही फोर्टिस का रिजल्‍ट जारी किया जा सकेगा।

 

जनवरी तक डायरेक्‍ट टैक्‍स कलेक्‍शन 19% बढ़कर 6.95 लाख करोड़ हुआ, 69.2% टारगेट हासिल

 

फोर्टिस: लोन दिया

हालांकि फोर्टिस के प्रवक्‍ता का कहना है कि कंपनी ने 473 करोड़ रुपए किसी कॉरपोरेट को लोन के रूप में दिया था। ट्रेजरी ऑपरेशन के तहत ऐसा लोन देना एक आमबात है। यह लोन जुलाई 2017 को दिया गया था। तीसरी तिमाही तक यह कंपनियां सिंह ब्रदर्स से जुड़ी रहीं। प्रवक्‍ता के अनुसार यह लोन रिलेटिड पार्टी ट्रांजैक्‍शन के रूप में दिखाया गया है और यह इसकी वापसी हो रही है।

 

दोनों ने दिया कंपनी से इस्‍तीफा

गुरुवार को दोनों भाइयों ने कंपनी से इस्‍तीफा दे दिया। मलविंदर सिंह कंपनी में कार्यकारी अध्‍यक्ष थे और शिवेन्‍दर सिंह कंपनी में उपाध्‍यक्ष थे। उन्‍होंने कहा कि किसी भी विवाद से अब कंपनी फ्री है।

पार्टी रिलेटिड ट्रांजैक्‍शन के नियम

भारत में कंपनीज एक्‍ट के अनुसार अगर कोई कंपनी पार्टी रिलेटिड ट्रांजैक्‍श्‍ान करती है तो इसके लिए बोर्ड का अप्रुवल जरूरी होता है। यही नहीं अगर यह ट्रांजैक्‍शन ज्‍यादा बड़ा हो तो इसके लिए शेयर्स होल्‍डर्स की अनुमति भी लेनी होती है। अगर कोई इन नियमों का उल्‍लंघन करता है तो यह अपराध माना जाता है इसके लिए सजा निर्धारित है। इसके लिए जेल या 5 लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।

 

13 फरवरी को कंपनी जारी करेगी रिजल्‍ट

देश की दूसरी सबसे बड़ी हेल्‍थकेयर कंपनी फोर्टिस ने ऐलान किया है कि वह 13 फरवरी को अपने दूसरी और तीसरी के रिजल्‍ट जारी करेगी। कंपनी ने जब मार्च में अपने रिजल्‍ट जारी किए थे उस वक्‍त कंपनी के पास 5.4 अरब रुपए थे। इसके पहले के साल में कपंनी के पास 140 करोड़ रुपए कैश के रूप में मौजूद था।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट