Home » Market » StocksMuhurat trading session on BSE, NSE on November 7

हर दिवाली अमीर करते हैं ये खास शॉपिंग, मानते हैं पूरे साल के लिए शुभ

स्टॉक मार्केट में मुहूर्त ट्रेडिंग काफी खास मानी जाती है

1 of

नई दिल्ली। दिवाली की शाम जब पूरा देश त्योहार मना रहा होता है, तब देश भर के निवेशक, अमीर लोग एक खास वक्त मार्केट की तरफ रुख करते हैं। इस दौरान इनके लिए मुनाफे से कहीं ज्यादा परंपरा अहम होती है। हर दिन हजारों करोड़ों का ट्रेड करने वाला स्टॉक मार्केट सालों से अपनी परंपराओं को सहेज कर रखे हुआ है। इसमें से सबसे अहम है दिवाली के दिन होने वाली मुहूर्त ट्रेडिंग। आज आपको इस खास वक्त और इससे जुड़े निवेशकों की आस्था के बारे में बता रहा है। 

 

क्या है मुहूर्त ट्रेडिंग
- भारतीय परंपरा में दीवाली के साथ नए साल की शुरुआत भी होती है। इस दिवाली के साथ संवत 2075 की शुरुआत होगी। 
- वहीं देश के कई हिस्सों में दिवाली के साथ ही नए फाइनेंशियल ईयर की भी शुरुआत होती है। 
- इसी परंपरा के अनुसार स्टॉक मार्केट दिवाली के दिन शुभ मुहूर्त में ट्रेडिंग होती है। दिवाली पर खास मुहूर्त पर ट्रेडिंग की शुरुआत कर निवेशक नए फाइनेंशियल ईयर के अच्छे रहने की कामना करते हैं। 
- इस साल दिवाली के दिन शाम 5 बजे से 6  बजकर 30 मिनट तक 1.30 घंटे की खास ट्रेडिंग होगी।

 

यह भी पढ़ें, दिवाली पर डेढ़ घंटे की होगी मुहूर्त ट्रेडिंग, बुधवार को खुलेगा मार्केट

 

मुहूर्त ट्रेडिंग में कैसा रहता है कारोबार  
 - मुहूर्त ट्रेडिंग पूरी तरह से परंपरा से जुड़ी है। अधिकांश लोग इस दिन स्टॉक में खरीद करते हैं। हालांकि ये निवेश काफी छोटा और प्रतीकात्मक रहता है। 
- वहीं पिछले सालों में इस दौरान मार्केट के प्रदर्शन पर नजर डालें तो, अधिकांश मौकों पर मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन स्टॉक मार्केट दायरे में ही रहा है। वहीं अधिकांश समय मार्केट में बढ़त ही देखने को मिलती है।

 

आगे भी पढ़ें, मुहूर्त ट्रेडिंग पर क्या है मान्यता

 

मुहूर्त ट्रेडिंग पर कारोबारियों की मान्यता

 

- माना जाता है कि मुहूर्त के दौरान किया गया निवेश शुभ होता है। 
- मार्केट के जानकारों के मुताबिक मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन कारोबारी निवेशक की सोच के साथ मार्केट में उतरते हैं। परंपराओं को मानने वाले पहला ऑर्डर अक्सर खऱीद का देते हैं। 
- ये ऑर्डर 1 स्टॉक जितना छोटा भी हो सकता है। कारोबारी इस दिन घाटा उठाने की सोचते भी नहीं। अक्सर इस दिन खरीदे गए स्टॉक को कारोबारी लंबी अवधि के लिए रख लेते हैं। 
- हालांकि स्टॉक का चुनाव पूरी तरह से प्रोफेश्नल होता है। निवेशक पहले से ही उस स्टॉक की चुनाव कर लेते हैं जिसमें निवेश करना है। स्टॉक कितने खरीदे जाएंगे इसका फैसला निवेशक अपने हिसाब से करते हैं।
- मुहूर्त कारोबार में मार्केट में बढ़त काफी शुभ मानी जाती है। यही वजह है कि पिछले 17 साल में 13 बार स्टॉक मार्केट मुहूर्त ट्रेडिंग में बढ़त के साथ बंद हुआ।

 

आगे पढ़ें,

10 साल में मुहूर्त ट्रेडिंग पर सबसे बड़ी गिरावट

 

- पिछले साल यानी 2017 में दिवाली के दिन स्टॉक मार्केट गिरावट के साथ बंद हुआ था। दिवाली के दिन खास ट्रेडिंग में सेंसेक्स 194 अंक की गिरावट के साथ 32390 पर बंद हुआ है। वहीं निफ्टी ने 10150 से नीचे अपनी क्लोजिंग दी है। निफ्टी मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन 64 अंक की गिरावट के साथ 10147 के स्तर पर बंद हुआ है।
- पिछले 17 साल में 13 बार दिवाली के दिन मार्केट बढ़त के साथ बंद हुआ है।
- साल 2016 में स्टॉक मार्केट सीमित गिरावट के साथ बंद हुआ।
- साल 2015 में मार्केट आधा फीसदी की बढ़त के साथ बंद हुआ। 
- वहीं 2014 में मार्केट करीब चौथाई फीसदी की तेजी के साथ बंद हुआ। 
- मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन मार्केट के वॉल्यूम भी काफी कम रहते है। आम दिनों के मुकाबले इस दिन वाल्यूम औसत का 10 फीसदी ही रहता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट