Home » Market » Stocksएक महीने में 50 फीसदी तक टूटे ज्वैलरी स्टॉक्स, ऐसे बनाएं स्ट्रैटजी

एक महीने में 50% तक टूटे ज्वैलरी स्टॉक्स, ऐसे बनाएं निवेश स्ट्रैटजी

एक्सपर्ट्स का कहना है कि ज्वैलरी सेक्टर पर अभी भी चिंताएं बनी हुई हैं।

1 of

नई दिल्ली.  पिछले एक महीने में ज्वैलरी स्टॉक्स 50 फीसदी से ज्यादा टूट गए है। ज्वैलरी स्टॉक्स में गिरावट की वजह निवेशकों का गोल्ड खरीदने में रुझान में कमी, बजट में इम्पोर्ट ड्यूटी में कटौती न होना और गोल्ड प्राइस स्टेबल रहना है। वहीं पीएनबी में हुए 11,356 करोड़ रुपए के फ्रॉड में ज्वैलरी कंपनियों के नाम उजागर होने से पूरा सेक्टर ही संदेह के घेरे में आ गया है, जो इस सेक्टर के लिए बुरी खबर है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि ज्वैलरी सेक्टर पर अभी भी चिंताएं बनी हुई हैं। ऐसे में निवेशकों को फिलहाल इस सेक्टर से दूर रहना चाहिए।

 

50 फीसदी तक टूटे ज्वैलरी स्टॉक्स

एक महीने के दौरान ज्वैलरी स्टॉक्स में 50 फीसदी तक गिरावट दर्ज की गई है। सबसे ज्यादा गिरावट गीतांजलि जेम्स में 50.81 फीसदी हुई है। इसके अलावा पीसी ज्वैलर 34.16 फीसदी गिरा।

 

कंपनी गिरावट (फीसदी में)
गीतांजलि जेम्स 50.81%
पीसी ज्वैलर 34.16%
राधिका ज्वेलटेक 24.94%
टीबीजेड 24.15%
थांगमईल ज्वैलरी 17.44%

 

पीएनबी फ्रॉड में आया गीतांजलि जेम्स का नाम

पीएनबी फ्रॉड केस में गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहलु चौकसी का नाम आ रहा है। इस खबर से स्टॉक तीन दिनों में 40% टूटा है। स्टॉक्स में गिरावट से तीन दिनों में निवेशकों के 300 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। 12 फरवरी को कंपनी का मार्केट कैप 745.49 करोड़ रुपए था। इस कंपनी के मालिक मेहुल चौकसी का भी नाम फ्रॉड केस में आ रहा है।

 

#ज्वैलरी सेक्टर की ये हैं चिंताएं

 

अन्य कंपनियां भी आ सकती हैं जांच के घेरे में

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर ने कहा कि पीएनबी फ्रॉड में गीतांजलि जेम्स का नाम आने से अन्य ज्वैलरी कंपनियों की मुश्किलें बढ़ गई है। दूसरी कंपनियां भी इस मॉड्यूल पर काम करती है। अब उनकी भी जांच होगी। ऐसे में ज्वैलरी सेक्टर की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। जांच में गीतांजलि के अलावा किसी और कंपनी में ऐसा मामला आने पर ज्वैलरी सेक्टर पर बुरा असर पड़ेगा।

 

कॉरपोरेट गवर्नेंस का है इश्यू

ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन का कहना है कि ज्वैलरी कंपनियों में कॉरपोरेट गवर्नेंस का इश्यू है। कुछ दिन पहले पीसी ज्वैलर में यह देखने को मिला था। कंपनी प्रमोटर द्वारा हिस्सेदारी बेचने की खबर से स्टॉक्स में गिरावट देखने को मिली थी।

 

पूरा सेक्टर आया चपेट में

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया के मुताबिक, पीएनबी में फ्रॉड का असर ज्वैलरी सेक्टर पर पड़ा है। पिछले तीन दिनों से ज्वैलरी शेयरों गिरावट देखने को मिली है। हालांकि फ्रॉड का उजागर होने के बाद सरकार जल्दी एक्शन मोड में आई, जो अच्छा कदम है। ईडी ने 5 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति जब्त की है। फिलहाल इससे इन्वेस्टर्स का सेंटीमेंट्स बिगड़ा है, जिससे स्टॉक्स में गिरे हैं। जो स्टॉक्स टूट चुके हैं, वो लॉन्ग टर्म में बेहतर हो जाएंगे।

 

आगे पढ़ें- क्या करें निवेशक

लार्जकैप पर करें फोकस

 

संदीप जैन का कहना है कि फिलहाल स्टॉक मार्केट में भी क्लैरिटी नहीं है। मार्केट में अभी और करेक्शन की संभावना है। निफ्टी 10600 के ऊपर स्थिर नहीं हो पार रहा है। ऐसे में निफ्टी निचले स्तर पर 10150-10200 का सपोर्ट रहेगा। वहीं नए निवेशकों को फिलहाल वेट एंड वॉच की स्ट्रैटजी अपनानी चाहिए। उन्हें मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों से दूर रहना चाहिए। लार्जकैप पर फोकस कर सकते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट