Home » Market » StocksIT dept sells part of Cairn shares to recover retro tax

I-T डिपार्टमेंट ने बेचे केयर्न के 21.6 करोड़ डॉलर के शेयर, टैक्स वसूली के लिए की कार्रवाई

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने वेदांता में केयर्न एनर्जी के लगभग 40 फीसदी शेयरहोल्डिंग को बेच दिया।

IT dept sells part of Cairn shares to recover retro tax

 

नई दिल्ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ब्रिटिश फर्म केयर्न एनर्जी पीएलसी से 10,247 करोड़ रुपए के रिट्रोस्पेक्टिव टैक्स की वसूली के लिए कड़ा कदम उठाया है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने वेदांता में केयर्न एनर्जी की लगभग 40 फीसदी शेयरहोल्डिंग को बेच दिया। हालांकि इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल में इनकम टैक्स द्वारा लगाए गए रेट्रो टैक्स के खिलाफ केयर एनर्जी की चुनौती की सुनवाई शुरू होनी है। इनकम टैक्स ने वेदांता में फर्म के कुछ शेयर बेचकर 21.6 करोड़ डॉलर वसूले।

 

15.5 करोड़ डॉलर का डिविडेंड जब्त

इससे पहले, इंडियन इनकम टैक्स डिमार्टमेंट (IITD) ने केयर्न के खिलाफ रिट्रोस्पेक्टिव टैक्स के अपने दावे को लागू रखा है, जबकि ट्रीटी आर्बिट्रेशन चल रहा है। केयर्न एनर्जी ने एक बयान में कहा कि आईआईटीडी ने अभी तक वेदांता लिमिटेड (VL) में केयर्न के 15.5 करोड़ डॉलर का डिविडेंड जब्त किया है और उसने एक अलग मामले में कैपिटल गेन टैक्स का अधिक भुगतान की वजह से 23.4 करोड़ डॉलर की टैक्स छूट को ऑफसेट कर दिया है।

 

 

2007 में एसेट ट्रांसफर का है मामला
- केयर्न एनर्जी ने 2006 में अपनी इंडियन यूनिट केयर्न इंडिया को यहां की सारी एसेट ट्रांसफर कर दी थी। टैक्स डिमांड इसी एसेट ट्रांसफर से जुड़ा है।
- केयर्न एनर्जी ने जनवरी 2007 में भारतीय इकाई को शेयर बाजार में लिस्ट कराया। इसके बाद 2011 में यह कंपनी वेदांता को बेच दी। लेकिन इसके 9.8% शेयर अपने पास रखे। ड्राफ्ट असेसमेंट के बाद इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने इसकी बिक्री पर रोक लगा रखी है।
- इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के अनुसार 31 मार्च 2007 को केयर्न पर कैपिटल गेन्स टैक्स बनता था। उसका रिटर्न दिसंबर 2007 तक फाइल करना था। लेकिन कंपनी ने 31 मार्च 2014 को रिटर्न फाइल किया।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट