बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksBharat-22 ETF का FPO हुआ ओवरसब्स्क्राइब्ड, 8400 करोड़ रुपए रख सकती है सरकार

Bharat-22 ETF का FPO हुआ ओवरसब्स्क्राइब्ड, 8400 करोड़ रुपए रख सकती है सरकार

‘भारत-22 ETF’ में सरकार को लक्ष्‍य से ज्‍यादा सब्स्क्रिप्शन मिला है।

Bharat 22 ETF oversubscribed
 
नई दिल्‍ली. ‘भारत-22 ETF’ में सरकार को लक्ष्‍य से ज्‍यादा सब्स्क्रिप्शन मिला है। अंतिम दिन तक इसके लिए 12500 करोड़ रुपए का निवेश आया। सरकार ने 6000 करोड़ रुपए एकत्र करने का टारगेट रखा था और 2400 करोड़ रुपए का ग्रीन शू ऑप्‍शन था।
 
 
22 बड़ी कंपनियों के शेयरों का है ETF
‘भारत-22 ETF’ में 22 कंपनियों के शेयर हैं। इसके लिए सरकार ने दूसरी बार अभिदान मांगा था। इसमें सरकार को जरूरत से दो गुना अभिदान मिला है। एक लाख निवेशकों ने इस में आवेदन किया है। जानकारों का कहना है कि सरकार ग्रीन शू आप्‍शन का इस्‍तेमाल करेगी और 2400 करोड़ रुपए को अपने पास रखेगी।
 
 
19 जून को खुला था अभिदान के लिए
‘भारत-22 ETF’ का फॉलोआॅन आफर अभिदान के लिए 19 जून को खुला था। इस ETF को ICICI Prudential Mutual Fund मैनेज करता है। इसमें पहले ही दिन एंकर इन्‍वेटर्स ने 5163 करोड़ रुपए का निवेश किया था। एंकर इन्‍वेस्‍टर्स श्रेणी में तय सीमा से 3.44 गुना ज्‍यादा अभिदान मिला है।
 
 
22 कंपनियों के शेयर हैं इस ETF में
इस ETF में 22 कंपनियों के शेयर्स हैं। इनमें ओएनजीसी, आईओसी, एसबीआई, बीपीसीएल, कोल इंडिया, नाल्‍को, भारत इंजीनियरिंग, इंजीनियर्स इंडिया, एनबीसीसी, एनटीपीसी, एनएचपीसी, एसजेवीएनएल, गेल, पीलीसीआईएल और एनसीएल इंडिया के शेयर्स शामिल हैं। इसके अलावा तीन सरकारी बैंकों के शेयर्स भी इसमें शामिल हैं। इनमें एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा और इंडियन बैंक शामिल हैं। वहीं निजी क्षेत्र की तीन कंपनियों आईटीसी, एक्सिस बैंक और एलएंडटी भी शामिल हैं।
 
पिछले साल आया NFO
Bharat-22 ETF का न्‍यू फंड ऑफर (NFO) पिछले साल नवंबर में आया था। उस वक्‍त निवेशकों ने इसमें 32 हजार करोड़ रुपए लगाया था, जिसमें से सरकार ने 14500 करोड़ रुपए स्‍वीकार किया था। पिछले साल सरकार ने अपने 80 हजार करोड़ रुपए के विनिवेश कार्यक्रम की तुलना में एक लाख करोड़ रुपए जुटाया था।
 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट