Home » Market » StocksPNB फ्रॉड: गीतांजलि और पीएनबी में 3 दिन में निवेशकों के डूबे 9500 हजार करोड़ रु

बैंकिंग फ्रॉड केस: PNB और गीतांजलि के शेयर्स लगातार तीसरे दिन लुढ़के, निवेशकों को 9500 करोड़ का नुकसान

फ्रॉड की वजह से तीन दिनों में पीएनबी और गीतांजलि जेम्स के निवेशकों के 9500 करोड़ रुपए डूब गए हैं।

1 of

नई दिल्ली.   11,356 करोड़ रुपए का फ्रॉड सामने आने के बाद पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को बड़ी कीमत चुकानी पड़ रही है। पिछले तीन दिन में बैंक के शेयर्स में 23.60% की गिरावट दर्ज की गई है। इससे निवेशकों का करीब 9246.19 करोड़ रुपए डूब गए। शुक्रवार को भी बैंक के शेयर करीब 3%लुढ़क गए। उधर, इस घोटाले में गीतांजलि जेम्स का नाम सामने आने के बाद इसके स्टॉक में भी गिरावट देखने को मिली है। अब तक इस कंपनी के निवेशकों के 300 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। 

 

3 दिन में PNB में निवेशकों के डूबे 9200 करोड़

- पीएनबी के शेयर्स तीन दिनों में 23.60% तक टूट गए। इससे निवेशकों को करीब 9246.19 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। 

- 12 फरवरी को पीएनबी का मार्केट कैप 39178.17 करोड़ रुपए था।

 

ऐसे घटा मार्केट कैप

14 फरवरी- 35336.70 करोड़ रुपए
15 फरवरी- 31107.44 करोड़ रुपए
16 फरवरी- 29931.98 करोड़ रुपए

 

गीतांजलि जेम्स को 300 करोड़ का नुकसान

- गीतांजलि जेम्स लिमिटेड का स्टॉक तीन दिनों में 40% से ज्यादा टूटा है। स्टॉक्स में गिरावट से तीन दिनों में निवेशकों के 300 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। 12 फरवरी को कंपनी का मार्केट कैप 745.49 करोड़ रुपए था।

- इस कंपनी के मालिक मेहुल चौकसी का भी नाम फ्रॉड केस में आ रहा है। फिलहाल वे देश से बाहर हैं।

 

ऐसे घटा मार्केट कैप

14 फरवरी- 695.08 करोड़ रुपए
15 फरवरी- 556.30 करोड़ रुपए
16 फरवरी- 445.40 करोड़ रुपए

 

पीएनबी में फ्रॉड कैसे हुआ? 

- यह खेल लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LOUs) की आड़ में चल रहा था। इसके तहत एक बैंक की गारंटी पर दूसरे बैंक पेमेंट कर रहे थे। इस घोटाले में पंजाब नैशनल बैंक (PNB) के अलावा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और एक्सिस बैंक के नाम भी सामने आ रहा है।

- हालांकि इन बैंकों का कहना है कि वह पीएनबी के लेटर ऑफ अंडरटेकिंग के आधार पर यह पेमेंट कर रहे थे।

 

कैसे सामने आया ये मामला? 
- पंजाब नेशनल बैंक ने बुधवार को स्‍टॉक एक्‍सचेंज बीएसई को बताया कि यह फ्रॉड कुछ चुनिंदा अकाउंट होल्‍डर्स को फायदा पहुंचाने के लिए किए गए थे। इन अकाउंट्स के जरिए 11,330 करोड़ रुपए ( 1.8 अरब डॉलर) का ट्रांजैक्शन हुआ। 
- बैंक के अनुसार, ऐसा लगता है कि इन ट्रांजैक्‍शन के आधार पर विदेश में कुछ बैंकों ने उन्हें (चुनिंदा अकाउंट होल्‍डर्स को) कर्ज दिया है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट