Home » Market » StocksMutual Fund sahi hai advertisement showing the right effect झारखंड-बिहार जैसे राज्‍यों में तेजी से बढ़ा इक्विटी MF में निवेश, विकसित राज्‍यों को पीछे छोड़ा

झारखंड-बिहार जैसे राज्‍यों में तेजी से बढ़ा इक्विटी MF में निवेश, विकसित राज्‍यों को पीछे छोड़ा

‘म्‍युचुअल फंड सही है’ वाला जागरूकता अभियान देश में असर दिखाने लगा है।

1 of

नई दिल्‍ली. ‘म्‍युचुअल फंड सही है’ वाला जागरूकता अभियान देश में असर दिखाने लगा है। म्‍युचुअल फंड में निवेश को लेकर अभी तक महाराष्‍ट्र और गुजरात जैसे कुछ राज्‍यों के ही नाम सबसे आगे आते थे। लेकिन अब तस्‍वीर बदल रही है। झारखंड-बिहार जैसे राज्‍यों   से प्रतिशत के हिसाब से इक्विटी म्‍युचुअल फंड में निवेश बढ़ रहा है।


 

महाराष्‍ट्र और गुजरात को पीछे छोड़ा

एसोसिएशन ऑफ म्‍युचुअल फंड इन इंडिया (AMFI) ने एक डाटा जारी किया है जिसमें बताया है कि किसी राज्य में म्‍युचुअल फंड में किए गए कुल निवेश में इक्विटी फंड की कितनी हिस्सेदारी है। इसके अनुसार झारखंड में इसके 73 फीसदी निवेश इक्विटी फंड में आ रहा है, वहीं बिहार में यह 72 फीसदी है। म्‍युचुअल फंड में निवेश में सबसे आगे रहने वाले राज्‍य महाराष्‍ट्र में यह 32 फीसदी, जबकि गुजरात में 51 फीसदी है।

 

AMFI के डाटा पर एक नजर

 

राज्‍य

इक्विटी फंड में निवेश % में

झारखंड

73

बिहार     

72

मध्‍य प्रदेश

67

उत्‍तराखंड

62

केरल     

61

पंजाब     

59

छत्‍तीसगढ़

58

उत्‍तर प्रदेश

58

आंध्र प्रदेश

56

गोवा

56

असम

54

ओडिशा

53

गुजरात

51

पश्चिम बंगाल     

50

तमिलनाडु

44

कर्नाटक

42

राजस्‍थान  

42

दिल्‍ली     

40

महाराष्‍ट्र

32

हरियाणा

26

 

डाटा : AMFI की साइट से लिया गया है। मार्च 2018 तक का अपडेट।

 

 

झारखंड-बिहार में कॉरपोरेट निवेश न होना है कारण

च्‍वॉइस ब्रोकिंग के प्रेसीडेंट अजय केजरीवाल के अनुसार इसका मुख्‍य कारण झारखंड और बिहार जैसे राज्‍यें में बड़े कॉरपोरेट्स का न होना है। उनके अनुसार बड़े कॉरपोरेट म्‍युचुअल फंड की डेट स्‍कीम में काफी निवेश करते हैं। उनके अनुसार म्‍युचुअल फंड की कुल एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) मार्च में 22 लाख करोड़ रुपए के पार निकल चुकी थी। इसमें से एक तिहाई हिस्‍सा यानी करीब 7 लाख करोड़ रुपए का निवेश इक्विटी म्‍युचुअल फंड में और बाकी पैसा डेट स्‍कीम में आया था। यही कारण है कई लाख करोड़ रुपए इक्विटी म्‍युचुअल फंड की स्‍कीम में लगने के बाद भी महाराष्‍ट्र और गुजरात जैसों राज्‍यों में यह प्रतिशत कम दिख रहा है। इन राज्‍याें में करपोरेट डेट स्‍कीम में बड़ा निवेश करते हैं, जिससे इन राज्‍यों में इक्विटी म्‍युचुअल फंड में निवेश का प्रतिशत कम दिख रहा है।

 

 

उत्‍साहजनक है शुरुआत

अंश फाइनेंशियल एंड इन्‍वेस्‍टमेंट के डायरेक्‍टर दिलीप कुमार गुप्‍ता के अनुसार यह अच्‍छा संकेत है। इक्विटी में निवेश लॉन्‍ग टर्म में सबसे ज्‍यादा फायदेमंद रहता है। उनके अनुसार इन राज्‍यों में लोगों के पास अच्‍छे निवेश के अवसर अब पहुंचे हैं, जिसका लोगों ने फायदा लेना शुरू कर दिया है। AMFI का ‘म्‍युचुअल फंड सही है’ अभियान असर दिखाने लगा है। देश के छोटे छोटे जिलों में अब लोग म्‍युचुअल फंड के बारे में जानने लगे हैं। उनके अनुसार अभी देश में कई ऐसे राज्‍य हैं जहां प्रति व्‍यक्ति निवेश काफी कम है, लेकिन अगर ऐसा ही ट्रेंड रहा तो जल्‍द ही यह फासला कम हो जाएगा।

 

 

औसतन प्रति व्‍यक्ति सबसे ज्‍यादा निवेश वाले राज्‍य

 

राज्‍य   

निवेश

दिल्‍ली     

132124 रुपए

गोवा      

108700 रुपए  

महाराष्‍ट्र

83476 रुपए



 

औसतन सबसे कम प्रति व्‍यक्ति निवेश वाले राज्‍य

 

राज्‍य   

निवेश

मणिपुर

1341 रुपए

बिहार     

1441 रुपए

कश्‍मीर     

1902 रुपए

 

डाटा : AMFI की साइट से लिया गया है। मार्च 2018 तक का अपडेट।  

 

 



prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट