बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksइंश्योरेंस सेक्टर में बेहतर है आउटलुक, लंबी अवधि के लिए स्टॉक्स में निवेश की सलाह

इंश्योरेंस सेक्टर में बेहतर है आउटलुक, लंबी अवधि के लिए स्टॉक्स में निवेश की सलाह

2018 में इंश्योरेंस सेक्टर का आउटलुक बेहतर और निवेशकों को लॉन्ग टर्म के नजरिए से इसमें निवेश किया जा सकता है।

1 of

नई दिल्ली.  फरवरी महीने में लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों का नया प्रीमियम क्लेक्शन 27 फीसदी बढ़ गया है। पिछले 15 सालों में जनरल इंश्‍योरेंस सेक्टर की ग्रोथ हर साल औसतन 17 फीसदी की दर से बढ़ रही है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इंश्योरेंस को लेकर धीरे-धीरे लोगों में जागरूकता आ रही है। कंपनियां इनोवेटिव प्रोडक्ट्स लॉन्च कर रही हैं जिससे वो कस्टमर्स तक आसानी से पहुंच सकें। बजट में भी इस सेक्टर पर सरकार का फोकस था। एक्सपर्ट्स इंश्योरेंस इंडस्ट्रीज के आउटलुक को पॉजिटिव बता रहेे हैं और लॉन्ग टर्म के नजरिए से निवेश की सलाह दे रहे हैं।

 

पिछले कुछ साल में सेक्टर में 20-25% ग्रोथ

क्रिस रिसर्च के फाउंडर अरुण केजरीवाल का कहना है कि देश में लाइफ इंश्योरेंस पेनिट्रेशन रेट अभी कम है। लोगों में लाइफ इंश्योरेंस के प्रति जागरूकता धीरे-धीरे बढ़ रही है। लोग अभी लाइफ इंश्योरेंस को अपने पोर्टफोलियो में शामिल करने लगे हैं, लेकिन वो लॉन्ग टर्म के लिए इसे नहीं अपना रहे। वहीं इंश्योरेंस कंपनियां लोगों में लाइफ इंश्योरेंस के महत्व को समझाने का प्रयास कर रही है। इसलिए इंश्योरेंस सेक्टर में ग्रोथ हो रही है, पर ये ग्रोथ ज्यादा नहीं है। 

 

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, पिछले कुछ वर्षों में लाइफ इंश्योरेंस सेक्टर में 20 से 25 फीसदी की ग्रोथ आई है। मौजूदा समय में यह इंडस्ट्री 5500 करोड़ डॉलर की है, जिसकी अगले 3 साल में बढ़कर 10 हजार करोड़ डॉलर होने की संभावना है। ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन ने कहा कि इंश्योरेंस कंपनियों का आउटलुकर बेहतर है। इंश्योरेंस सेक्टर के लिए बजट काफी अच्छा था। लॉन्ग टर्म के नजरिए से इंश्योरेंस स्टॉक्स में निवेश किया जा सकता है। पिछले कुछ वर्षों में कंपनियों ने कस्टमर्स पर फोकस बढ़ाया है जिसका नतीजा है कि अच्छे प्रोडक्ट्स के साथ क्लेम सेटलमेंट रेश्यो में सुधार आया है। संदीप ने एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस में निवेश की सलाह दी है। 

 

 

तेजी से ग्रोथ कर रही है नॉन लाइफ इंश्‍योरेंस इंडस्ट्री

स्टैल्यन एसेट डॉट कॉम के फाउंडर अमीत जेसवानी का कहना है कि नॉन लाइफ इंश्‍योरेंस कंपनियों का बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है। जनरल इंश्‍योरेंस सेक्टर की ग्रोथ पिछले 15 सालों से हर साल औसतन 17 फीसदी की दर से बढ़ रही है। वहीं, आगे इसमें 15 से 20 फीसदी की दर से ग्रोथ की उम्मीद है। मोटर, हेल्थ, क्रॉप, फायर, मैरिन, लायबिलिटी, ट्रैवल, एविएशन और होम इंश्योरेंस जैसे डिफरेंट प्रोडक्ट ऑफर से नॉन-लाइफ इंश्योरेंस सेक्टर की ग्रोथ बढ़ रही है। 

फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि नॉन लाइफ इंश्‍योरेंस कंपनियों का बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है। आईसीआईसीआई कई सालों से मार्केट लीडर है। कंपनी की पैरेंट्स कंपनी आईसीआईसीआई बैंक है, जो कंपनी के लिए बहुत बड़ा बैक-अप है। कंपनी के पास 18 फीसदी मार्केट शेयर है। निवेशकों को लंबी अवधि के नजरिए से आईसीआईसीआई लोम्बार्ड में निवेश करना चाहिए। 

 

 

सरकार का इंश्योरेंस पर फोकस बढ़ा

बजट में सरकार ने इंश्योरेंस पर फोकस बढ़ाया है। सरकार ने 1200 रुपए में 5 लाख रुपए का हेल्थ इंश्योरेंस देने का एलान किया था। सरकार के इस कदम से इंश्योरेंस सेक्टर को फायदा मिलेगी। एक्सपर्ट्स का कहना है कि सरकार जब इस स्कीम का पूरा पैकेज इंश्योरेंस कंपनियों के सामने रखेगी तभी इस स्‍कीम पर आने वाली लागत का सही अनुमान लगाया जा सकेगा। मार्केट एक्सपर्ट सचिन सर्वदे ने आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस में निवेश की सलाह दी है। उनका कहा है कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस मार्केट में लिस्ट होने वाली पहली इंश्योरेंस कंपनी है। इसका ग्रोथ काफी बेहतर है।

 

LIC का प्रीमियम क्लेक्शन 24% बढ़ा

फरवरी महीने में नया प्रीमियम क्लेक्शन में 27 फीसदी बढ़कर 13,698.52 करोड़ रुपए रहा। इंश्योरेंस रेग्युलेटर IRDAI के डाटा के मुताबिक, कुल 24 इंश्योरेंस कंपनियों में से देश की सबसे बड़ी पब्लिक सेक्टर की लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (एलआईसी) का नया प्रीमियम कलेक्शन 24 फीसदी बढ़कर 8,476.73 करोड़ रुपए रहा। वहीं, अन्य 23 इंश्योरेंस कंपनियों का प्रीमियम कलेक्शन इस महीने 32.4 फीसदी बढ़कर 5,221.79 करोड़ रुपए रहा। एक्सपर्ट अमीत जेसवानी का कहना है कि इंश्योरेंस कंपनी में कोई प्रॉबल्म नहीं है। नए प्रोडक्ट्स और सर्विस के साथ डिजिटल का फायदा उठाते हुए कंपनियां ग्रोथ कर रही हैं। जेसवानी ने एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस में निवेश की सलाह दी है।

 

 

आगे पढ़ें- इंश्योरेंस कंपनियां आईपीओ से जुटाईं 23 हजार करोड़

 

इंश्योरेंस सेक्टर के लिए साल 2017 बेहतर साबित हुआ, क्योंकि इस दौरान बड़ी इंश्योरेंस कंपनियां ने आईपीओ से 23 हजार करोड़ रुपए जुटाई थीं। साल 2017 में एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस और एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस के साथ जीआईसी, आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस और द न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी के आईपीओ को अच्छा रिस्पॉन्स मिला था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट