बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocks1 हजार मंथली करें जमा, जब तक जिएंगे मिलता रहेगा 17 हजार रुपए महीना

1 हजार मंथली करें जमा, जब तक जिएंगे मिलता रहेगा 17 हजार रुपए महीना

नौकरी की शुरूआत में ही समझदारी से कम रकम के साथ बचत करना शुरू कर दें तो आपका भविष्‍य पूरी तरह से सुरक्षित हो सकता है।

1 of

नई दिल्ली। कम उम्र से ही बचत के बड़े फायदे हैं। अगर आप अपनी नौकरी की शुरूआत में ही समझदारी से कम रकम के साथ बचत करना शुरू कर दें तो आपका भविष्‍य पूरी तरह से सुरक्षित हो सकता है। हम ऐसे विकल्प के बारे में बता रहे हैं, जहां आप अगर सिर्फ 1 हजार रुपए महीने जमा करें तो आगे चलकर आपको आजीवन हर महीने 17 हजार रुपए मिलता रहेगा जो सालाना के हिसाब से 2 लाख रुपए से ज्यादा होगा। यह योजना सरकार की है, ऐसे में यह आपके भविष्‍य के लिए बेहतर प्लानिंग हो सकती है। योजना में 18 साल से 60 साल की उम्र वर्ग का कोई भी शामिल हो सकता है। 

 

 

क्या है यह योजना 
फ्यूचर प्लानिंग के लिए नेशनल पेंशन सिस्टम एक बेहतर विकल्प बन चुका है। इस स्कीम को भारत सरकार ने 1 जनवरी 2004 को लॉन्च किया था। सरकारी के साथ-साथ प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाला कोई भी कर्मचारी जिसकी उम्र 18 से 60 साल के बीच है, अपनी मर्जी से इस योजना में शामिल हो सकता है। 

 

500 रुपए से शुरू कर सकते हैं
अच्छी बात है कि इस योजना को 500 रुपए महीने के निवेश के साथ भी शुरू कर सकते हैं। वहीं, निवेश की अधिकतम रकम कुछ भी हो सकती है। 

 

कैसे मिलेगा फायदा
बहुत से लोग हैं जो कम उम्र में नौकरी शुरू करते हैं तो इस स्थिति में आ जाते हैं कि वह मंथली कुछ न कुछ निवेश कर सकें। ऐसे में हमने इसके लिए 21 साल का दायरा चुना है, जहां से इसमें सिर्फ 1000 रुपए निवेश करना है। योजना में आपको तबतक निवेश करना है, जबतक आपकी उम्र 60 साल हो जाए। 60 साल की उम्र में जितना फंड तैयार हो, उसमें से कम से कम 40 फीसदी एन्युटी खरीदना जरूरी होता है। हालांकि आपको ज्यादा पेंशन चाहिए तो एन्युटी में ज्यादा रकम लगा सकते हैं। हमने यहां 60 फीसदी एन्युटी के आधार पर कैलकुलेशन किया है। 

 

इसे ऐसे समझ सकते हैं.....

उम्र 21 साल
निवेश की अवधि 39 साल 
मंथली निवेश 1000 रुपए
कुल निवेश 4.68 लाख रुपए
अनुमानित रिटर्न 10 फीसदी
कुल फंड  57.60 लाख 
एन्युटी के लिए रकम 60 फीसदी
अनुमानित एन्युटी रेट 6 फीसदी
मंथली पेंशल 17283 रुपए
सालाना पेंशन 2.07 लाख रुपए

 

आगे पढ़ें, मंथली पेंशन के अलावा 23 लाख का मिलेगा फंड .......

 

 

 

साथ में मिलेगा 23 लाख का फंड 
स्कीम के तहत जितना फंड 60 साल में तैयार होता है, उसके 60 फीसदी फंड का एन्युटी खरीदने पर एन्युटी की रकम 34.56 लाख रुपए होगी। बाकी बची 40 फीसदी रकम 23 लाख रुपए होगी। यह 23 लाख रुपए की रकम आप 60 साल की उम्र के बाद कुछ स्टेप में निकाल सकते हैं। 
 रिटायरमेंट के बाद आपकी मंथली पेंशन ज्यादा से ज्यादा हो, यह इस बात पर तय करता है कि आप एन्युटी में कितना रकम लगाते हैं। जितने ज्यादा की एन्युटी होगी, उतनी ज्यादा पेंशन होगी। मौत होने पर नॉमिनी को पूरी पेंशन की रकम दे दी जाती है।

 

कहां इनवेस्ट होता है पैसा 
इस योजना में रकम इक्विटी मार्केट, गवर्नमेंट सिक्युरिटी, गवर्नमेंट बॉन्ड और फिक्स्ड इनकम देने वाले इंस्ट्रूमेंट में लगता है।  आपके पास विकल्प होते हें कि कहां पैसा लगेगा। 
 

आगे पढ़ें, कैसे खुलवाएं अकाउंट........... 

 

अकाउंट खुलवाना है आसान
सरकार ने देश भर में प्वॉइंट ऑफ प्रेजेंस (पीओपी) बनाए हैं, जिनमें एनपीएस अकाउंट खुलवाया जा सकता है। देश के लगभग सभी सरकारी और प्राइवेट बैंकों को पीओपी बनाया गया है, इसलिए किसी भी बैंक की नजदीकी ब्रांच में अकाउंट खुलवाया जा सकता है।

 

इन डॉक्युमेंट्स की जरूरत  
पूरा भरा गया रजिस्ट्रेशन फॉर्म, जो बैंक से मिलेगा। 
एक एड्रेस प्रूफ। 
एक आइडेंटिटी प्रूफ। 
बर्थ सर्टिफिकेट या 10वीं का सर्टिफिकेट। 

 

आगे पढ़ें, 2 तरह के होते हैं अकाउंट ........

2 तरह के अकाउंट 
इस योजना में दो तरह के अकाउंट होते हैं। 

 

टियर 1 अकाउंट: इस अकाउंट को खुलवाना अनिवार्य है। इस अकाउंट में जो भी रकम जमा कर रहे हैं उसे 60 की उम्र के पहले नहीं निकाल सकते। जब आप स्कीम से बाहर जाएंगे, तब ही इसकी रकम आप निकाल सकते हैं। 

 

टियर 2 अकाउंट: कोई भी टियर 1 अकाउंट होल्डर इस अकाउंट को खोल सकता है और अपनी इच्छा से इसमें पैसा जमा कर सकता है और निकाल भी सकता है। इस अकाउंट सभी के लिए अनिवार्य नहीं है। यह आपकी इच्छा पर निर्भर है। 


नोट: टियर 1 अकाउंट में कम से कम 500 रुपए और टियर 2 में कम से कम 1000 रुपए जमा कराने होंगे। अधिकतम रकम की कोई सीमा नहीं है। जो भी पैसा इन अकाउंट में आप जमा करते हैं, उन्हें निवेश करने का जिम्मा पीएफआरडीए द्वारा रजिस्टर्ड पेंशन फंड मैनेजर का होता है। आप अपना फंड मैनेजर अपनी इच्छा से चुन सकते हैं और उसे बदल भी सकते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट