बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksगिरावट के बाद क्वालिटी मिडकैप में बने मौके, ये 5 शेयर दे सकते हैं 44% तक रिटर्न

गिरावट के बाद क्वालिटी मिडकैप में बने मौके, ये 5 शेयर दे सकते हैं 44% तक रिटर्न

9 जनवरी को ऑलटाइम हाई बनाने के बाद से बीएसई मिडकैप इंडेक्स में 10 फीसदी से ज्यादा करेक्शन आ चुका है।

1 of

नई दिल्ली। 9 जनवरी को ऑलटाइम हाई बनाने के बाद से बीएसई मिडकैप इंडेक्स में 10 फीसदी से ज्यादा करेक्शन आ चुका है। मार्केट में गिरावट के बीच कई वैल्यू मिडकैप शेयर भी सस्ते हो चुके हैं। ऐसे में एक बार फिर उनका वैल्युएशन अच्छा दिख रहा है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि अर्निंग के मामले में मिडकैप के लिए तीसरी तिमाही बेहतर रही है। कंजम्पशन स्टोरी अच्छी है। ऐसे में मार्केट में रिकवरी आती है तो इसका फायदा मिडकैप को होगा। ऐसे में निवेशकों को अच्छे मिडकैप शेयरों में आगे भी बेहतर रिटर्न मिल सकता है। 

 

GST इम्पैक्ट: सरकार को मिले 36 लाख नए टैक्सपेयर, महाराष्ट्र-यूपी सबसे आगे

 

क्वालिटी शेयरों का वैल्युएशन बेहतर
स्टैलियन एसेट्स डॉट कॉम के सीआईओ अमीत जेसवानी का कहना है कि मार्केट में करेक्शन के बीच मिडकैप सेग्मेंट में कई वैल्यू स्टॉक्स अपने हाई से काफी नीचे आ गए हैं, जो उन्होंने जनवरी तक बनाया था। इनका वैल्युएशन फिर बेहतर दिख रहा है। उन्होंने कहा कि मिडकैप सेगमेंट पिछले साल मार्केट की रैली में काफी महंगा हो गया था। ऐसे में निवेशकों को सतर्क रहकर स्टॉक स्पेसिफिक‍ खरीददारी की सलाह है। उन्होंने बताया कि तीसरी तिमाही में अर्निंग में सुधार रहा है, चौथी तिमाही में इसके और बेहतर होने की उम्मीद है। डोमेस्टिक लेवल पर सेंटीमेंट सुधरने के साथ मार्केट में रैली शुरू होने पर नीचे वैल्युएशन पर आ चुके मिडकैप शेयरों में फिर तेजी दिखेगी। 
 

बेहतर शेयर चुनें निवेशक 
एंजेल ब्रोकिंग के असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट रिसर्च, मिडकैप अमरजीत मौर्या का कहना है कि अर्निंग सीजन में कई मिडकैप शेयरों ने पिछले 4-5 तिमाही से बेहतर नंबर दिखाए हैं। मौजूदा दौर में भसी कंजम्पशन स्टोरी बनी हुई है। डोमेस्टिक लेवल पर लिक्विडिटी की समस्या नहीं है। ऐसे में आगे भी मिडकैप में बेहतर आउटलुक दिख रहा है। हालांकि निवेशकों को बेहतर स्टॉक ही चुनने की सलाह है। 

 

दिसंबर तिमाही में 7.2% रही भारत की जीडीपी ग्रोथ रेट, चीन को पीछे छोड़ा

 

आगे पढ़ें, किन शेयरों में करें निवेश 

ग्लेनमार्क
प्राइसिंग प्रेशर के चलते फार्मा कंपनी के तीसरी तिमाही के नतीजे बेहतर नहीं रहे हैं। हालांकि कंपनी ने पिछले 2 साल में अपना निवेश बढ़ाया है। जेनेरिक दवाओं पर फोकस करने का फायदा कंपनी को यूएस और घरेलू दोनों ही बाजारों में मिलने की उम्मीद है। कुछ नए प्रोडक्ट जल्द यूएस मार्केट में आएंगे, जिससे मार्जिन बढ़ाने में मदद मिलेगी। स्टॉक का वैल्युएशन अट्रैक्टिव है। ब्रोकरेज हाउस दोलत कैपिटल ने शेयर के लिए 787 रुपए का लक्ष्‍य रखा है। मौजूदा कीमत 544 रुपए के लिहाज से शेयर में 44 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। 

 

सेंचुरी प्लाईवुड
सेंचुरी प्लाईवुड प्लाईवुड बनाने वालील देश की लीडिंग कंपनियों में है, जिसके प्रोडक्ट कई देशों में एक्सपोर्ट भी किए जाते हैं। कंपनी के पास प्रोडक्ट क्वालिटी बेहतर है, जिससे डिमांड बेहतर है। प्लाईवुड इंडस्ट्री ऑर्गनाइजड सेक्टर की ओर शिफ्ट होने का फायदा कंपनी को मिला है। वहीं, फाइनेंशियल ईयर 2019 में ई-वे बिल के लागू होने से भी कंपनी को फायदा होगा। अमरजीत मौर्या ने शेयर के लिए 400 रुपए का लक्ष्‍य रखा है। करंटर प्राइस 330 रुपए के लिहाज से शेयर में 21 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। 

 

दिलीप बिल्डकॉन 
दिलीप बिल्डकॉन प्रमुख इंफ्रा कंपनियों में शामिल है। कंपनी का ऑर्डरबुक फाइनेंशियल ईयर के पहले 9 महीनों में मजबूत रहा है। कंपनी के कुछ प्रोजेक्ट जल्द पूरे होने वाले हैं जिससे नए ऑर्डर उठाने में मदद मिलेगी। समय से प्रोजेक्ट पूरा करने में कंपनी का ट्रैक रिकॉर्ड बेहतर है, इसी वजह से नए ऑर्डर मिलने में आसानी होती है। बजट में इंफ्रा सेक्टर को बिग पुश देने की कोशिश दी गई है। जिसका फायदा कंपनी को मिलेगा। कंपनी को उम्मीद है कि उसे इस साल 8-10 हजार करोड़ रुपए के नए ऑर्डर मिल सकते हैं। स्टैलियन एसेट्स डॉट कॉम के सीआईओ अमीत जेसवानी ने शेयर में 1300 रुपए के लक्ष्‍य के साथ निवेश की सलाह दी है। वहीं, ब्रोकरेज हाउस दोलत कैपिटल ने शेयर के लिए 1261 रुपए का लक्ष्‍य रखा है। मौजूदा कीमत 944 के लिहाज से इसमें 38 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। 

 

श्रीराम ट्रांसपोर्ट फाइनेंस कॉरपोरेशन
ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधार ने श्रीराम ट्रांसपोर्ट के शेयर के लिए 1705 रुपए का लक्ष्‍य  तय किया है। शेयर का करंट प्राइस 1334 रुपए है, जिस लिहाज से शेयर में 28 फीसदी रिटर्न मिल सकता है। श्रीराम ट्रांसपोर्ट कमर्शियल व्हीकल फाइनेंस में लीडिंग कंपनी है। कंपनी का नेटवर्क मजबूत है और कुल 1121 ब्रांच ऑफिस और 930 रूरल सेंटर हैं। कंपनी की एसेट क्वालिटी बेहतर है। रूरल डिमांड बढ़ने से कंपनी का आगे भी फायदा होगा। 

 

(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स व ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)

 

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट